Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Oct 2022 · 1 min read

हास्य गजल

मैं सारी रात तेरी याद में रो कर आया हूं
पिछले हफ्ते के सारे कपड़े धो कर आया हूं,

पागलों की तरह तेरी तस्वीर से बात करने पर खुद को डांटा है
बड़ी मुश्किल से अपने आंसू रोक मैंने प्याज काटा है,

यार यह टमाटर एकदम पिलपिला है सख्त नहीं है
सबके लिए है उसके पास बस मेरे लिए वक्त नहीं है,

चार सिटियां बजा चुका यह कुकर दाल नहीं गल रहीं है
कब से ट्राई कर रहा हूं पर उसकी कॉल नहीं लग रही है,

उलझ के रह गया हूं मैं इन झालों की सफाई में
किसी और की चूड़ियां देखी है मैंने उसकी कलाई में,

कड़ाही को देख सीटी बजाता है बार² कुकर तो जैसे दीवाना हो गया है
रगों में लहू जमने लगा है उसे गले लगाए जमाना हो गया है
,

Language: Hindi
3 Likes · 2 Comments · 282 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*गाओ  सब  जन  भारती , भारत जिंदाबाद   भारती*   *(कुंडलिया)*
*गाओ सब जन भारती , भारत जिंदाबाद भारती* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हो तेरी ज़िद
हो तेरी ज़िद
Dr fauzia Naseem shad
बना दिया हमको ऐसा, जिंदगी की राहों ने
बना दिया हमको ऐसा, जिंदगी की राहों ने
gurudeenverma198
सुंदर शरीर का, देखो ये क्या हाल है
सुंदर शरीर का, देखो ये क्या हाल है
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
कान का कच्चा
कान का कच्चा
Dr. Kishan tandon kranti
“हिचकी
“हिचकी " शब्द यादगार बनकर रह गए हैं ,
Manju sagar
जन पक्ष में लेखनी चले
जन पक्ष में लेखनी चले
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Learn to recognize a false alarm
Learn to recognize a false alarm
पूर्वार्थ
वेलेंटाइन डे आशिकों का नवरात्र है उनको सारे डे रोज, प्रपोज,च
वेलेंटाइन डे आशिकों का नवरात्र है उनको सारे डे रोज, प्रपोज,च
Rj Anand Prajapati
उस दिन पर लानत भेजता  हूं,
उस दिन पर लानत भेजता हूं,
Vishal babu (vishu)
भारत मे तीन चीजें हमेशा शक के घेरे मे रहतीं है
भारत मे तीन चीजें हमेशा शक के घेरे मे रहतीं है
शेखर सिंह
चल सजना प्रेम की नगरी
चल सजना प्रेम की नगरी
Sunita jauhari
#तेवरी
#तेवरी
*Author प्रणय प्रभात*
💐 Prodigy Love-44💐
💐 Prodigy Love-44💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"*पिता*"
Radhakishan R. Mundhra
जन्मदिन पर आपके दिल से यही शुभकामना।
जन्मदिन पर आपके दिल से यही शुभकामना।
सत्य कुमार प्रेमी
मैं नारी हूं...!
मैं नारी हूं...!
singh kunwar sarvendra vikram
किसी की तारीफ़ करनी है तो..
किसी की तारीफ़ करनी है तो..
Brijpal Singh
சிந்தனை
சிந்தனை
Shyam Sundar Subramanian
चंद अशआर -ग़ज़ल
चंद अशआर -ग़ज़ल
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम
मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम
Er.Navaneet R Shandily
वृक्ष किसी को
वृक्ष किसी को
DrLakshman Jha Parimal
वक्त आने पर सबको दूंगा जवाब जरूर क्योंकि हर एक के ताने मैंने
वक्त आने पर सबको दूंगा जवाब जरूर क्योंकि हर एक के ताने मैंने
Ranjeet kumar patre
छह दिसबंर / मुसाफ़िर बैठा
छह दिसबंर / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
"राहे-मुहब्बत" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
समय के खेल में
समय के खेल में
Dr. Mulla Adam Ali
🌿⚘️प्राचीन  मंदिर (मड़) ककरुआ⚘️🌿
🌿⚘️प्राचीन मंदिर (मड़) ककरुआ⚘️🌿
Ms.Ankit Halke jha
निज़ाम
निज़ाम
अखिलेश 'अखिल'
जन्म हाथ नहीं, मृत्यु ज्ञात नहीं।
जन्म हाथ नहीं, मृत्यु ज्ञात नहीं।
Sanjay ' शून्य'
दिहाड़ी मजदूर
दिहाड़ी मजदूर
Satish Srijan
Loading...