Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Apr 2023 · 1 min read

*हार में भी होंठ पर, मुस्कान रहना चाहिए 【मुक्तक】*

हार में भी होंठ पर, मुस्कान रहना चाहिए 【मुक्तक】
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
बात जो भी आए दिल में, बात कहना चाहिए
सत्यता के पक्ष में, रसधार बहना चाहिए
यह जरूरी तो नहीं है, हम सफल हो जाएँ ही
हार में भी होंठ पर, मुस्कान रहना चाहिए
—————————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

371 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
कोशिश करना छोड़ो मत,
कोशिश करना छोड़ो मत,
Ranjeet kumar patre
मेरी पहचान!
मेरी पहचान!
कविता झा ‘गीत’
*लाल सरहद* ( 13 of 25 )
*लाल सरहद* ( 13 of 25 )
Kshma Urmila
राम की आराधना
राम की आराधना
surenderpal vaidya
हर कदम बिखरे थे हजारों रंग,
हर कदम बिखरे थे हजारों रंग,
Kanchan Alok Malu
सहित्य में हमे गहरी रुचि है।
सहित्य में हमे गहरी रुचि है।
Ekta chitrangini
जल संरक्षण
जल संरक्षण
Preeti Karn
मां इससे ज्यादा क्या चहिए
मां इससे ज्यादा क्या चहिए
विकास शुक्ल
छोटी-सी मदद
छोटी-सी मदद
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"अजातशत्रु"
Dr. Kishan tandon kranti
'स्वागत प्रिये..!'
'स्वागत प्रिये..!'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ए'लान - ए - जंग
ए'लान - ए - जंग
Shyam Sundar Subramanian
एक रूपक ज़िन्दगी का,
एक रूपक ज़िन्दगी का,
Radha shukla
कड़वा सच~
कड़वा सच~
दिनेश एल० "जैहिंद"
आज जो कल ना रहेगा
आज जो कल ना रहेगा
Ramswaroop Dinkar
ये 'लोग' हैं!
ये 'लोग' हैं!
Srishty Bansal
जीवन का जीवन
जीवन का जीवन
Dr fauzia Naseem shad
एक औरत की ख्वाहिश,
एक औरत की ख्वाहिश,
Shweta Soni
It always seems impossible until It's done
It always seems impossible until It's done
Naresh Kumar Jangir
बेवक़ूफ़
बेवक़ूफ़
Otteri Selvakumar
माथे की बिंदिया
माथे की बिंदिया
Pankaj Bindas
#आदरांजलि
#आदरांजलि
*प्रणय प्रभात*
पितरों के लिए
पितरों के लिए
Deepali Kalra
देखो ना आया तेरा लाल
देखो ना आया तेरा लाल
Basant Bhagawan Roy
तुझे पन्नों में उतार कर
तुझे पन्नों में उतार कर
Seema gupta,Alwar
बड़ा ही अजीब है
बड़ा ही अजीब है
Atul "Krishn"
सफर में जब चलो तो थोड़ा, कम सामान को रखना( मुक्तक )
सफर में जब चलो तो थोड़ा, कम सामान को रखना( मुक्तक )
Ravi Prakash
दर्स ए वफ़ा आपसे निभाते चले गए,
दर्स ए वफ़ा आपसे निभाते चले गए,
ज़ैद बलियावी
बड़ी मुद्दतों के बाद
बड़ी मुद्दतों के बाद
VINOD CHAUHAN
आगे क्या !!!
आगे क्या !!!
Dr. Mahesh Kumawat
Loading...