Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jan 2024 · 1 min read

हार भी स्वीकार हो

जीवन का जीवन पर
तेरे ये भी उपकार हो ।

केवल सफलता ही नहीं
हार भी स्वीकार हो ।।

वाणी तेरी मीठी-मीठी
उच्य तेरे विचार हो ।

मित्र बने शत्रु भी तेरे
ऐसा तेरा व्यवहार हो ।।

तेरी प्रतिष्ठा तेरा गौरव
जीवन का पर्याय हो ।

जाग उठे आत्मा तेरी
ऐसी एक ललकार हो ।।

कर दूं तुझे आत्मा ही नहीं
हर श्वास समर्पित ।

मेरा तुझपर मेरे प्रिय
इतना तो अधिकार हो ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

4 Likes · 108 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
हाँ, वह लड़की ऐसी थी
हाँ, वह लड़की ऐसी थी
gurudeenverma198
ख़ामोशी है चेहरे पर लेकिन
ख़ामोशी है चेहरे पर लेकिन
पूर्वार्थ
!! ये सच है कि !!
!! ये सच है कि !!
Chunnu Lal Gupta
कुछ पंक्तियाँ
कुछ पंक्तियाँ
आकांक्षा राय
ग़ज़ल
ग़ज़ल
विमला महरिया मौज
।।बचपन के दिन ।।
।।बचपन के दिन ।।
Shashi kala vyas
संजय सनातन की कविता संग्रह गुल्लक
संजय सनातन की कविता संग्रह गुल्लक
Paras Nath Jha
मालपुआ
मालपुआ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
क्रोटन
क्रोटन
Madhavi Srivastava
"कौआ"
Dr. Kishan tandon kranti
अहोई अष्टमी का व्रत
अहोई अष्टमी का व्रत
Harminder Kaur
स्वास्थ्य बिन्दु - ऊर्जा के हेतु
स्वास्थ्य बिन्दु - ऊर्जा के हेतु
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बुंदेली दोहा बिषय- नानो (बारीक)
बुंदेली दोहा बिषय- नानो (बारीक)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
पेशवा बाजीराव बल्लाल भट्ट
पेशवा बाजीराव बल्लाल भट्ट
Ajay Shekhavat
"कला आत्मा की भाषा है।"
*Author प्रणय प्रभात*
कबीर: एक नाकाम पैगंबर
कबीर: एक नाकाम पैगंबर
Shekhar Chandra Mitra
माँ आओ मेरे द्वार
माँ आओ मेरे द्वार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मुहब्बत हुयी थी
मुहब्बत हुयी थी
shabina. Naaz
23/152.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/152.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*दुनिया से जब जाऊँ तो क्या, छोड़ूँ क्या ले जाऊँ( हिंदी गजल/गी
*दुनिया से जब जाऊँ तो क्या, छोड़ूँ क्या ले जाऊँ( हिंदी गजल/गी
Ravi Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी
सत्य कुमार प्रेमी
कई बार हमें वही लोग पसंद आते हैं,
कई बार हमें वही लोग पसंद आते हैं,
Ravi Betulwala
कोठरी
कोठरी
Punam Pande
हादसे बोल कर नहीं आते
हादसे बोल कर नहीं आते
Dr fauzia Naseem shad
नई शिक्षा
नई शिक्षा
अंजनीत निज्जर
"सपनों का सफर"
Pushpraj Anant
आकर्षण मृत्यु का
आकर्षण मृत्यु का
Shaily
आसां  है  चाहना  पाना मुमकिन नहीं !
आसां है चाहना पाना मुमकिन नहीं !
Sushmita Singh
बह्र ## 2122 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन काफिया ## चुप्पियाँ (इयाँ) रदीफ़ ## बिना रदीफ़
बह्र ## 2122 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन काफिया ## चुप्पियाँ (इयाँ) रदीफ़ ## बिना रदीफ़
Neelam Sharma
Loading...