Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Dec 2023 · 1 min read

हार का पहना हार

आ गई एक दिन
हार मेरे सामने
हंस रही थी वो
दुखी मुझे देख के

मन तो ना था मेरा
बांत करने का जरा
पर प्रश्न जो उसने किया
निरूत्तर भी रह ना सका

क्या निराशा का हार ही
सदा मुझे पहनाओगे ?
पाठ जो सिखाया है
क्या समझ ना पाओगे?

मेहनत भरपूर थी
जोश भी कम ना था
हाथ जीत से मिलाना
नसीब को पसंद ना था

मैने चुना है तुम्हे या
तुमने मुझे है चुना ?
जीत तो उसी की थी
जिसमे ज्यादा दम भरा

तुमसे पाई है सीख तो
सुधार बेशक मैं करू
पर गवां दिया जो जोश
उसे कंहा से मैं भंरू

यही तो है कर्म तेरा
भाव को तू थाम ले
कमी को सुधार के
हौंसले को उड़ान दे

हार बस एक पडाव
जीत की मंजिल का
सांस भर, विचार कर
फिर लक्ष्य को बढे चाला

संदीप पांडे”शिष्य” अजमेर

Language: Hindi
3 Likes · 89 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Sandeep Pande
View all
You may also like:
क्या पता है तुम्हें
क्या पता है तुम्हें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दोस्तों के साथ धोखेबाजी करके
दोस्तों के साथ धोखेबाजी करके
ruby kumari
प्यार ~ व्यापार
प्यार ~ व्यापार
The_dk_poetry
रक्तिम- इतिहास
रक्तिम- इतिहास
शायर देव मेहरानियां
मत गुजरा करो शहर की पगडंडियों से बेखौफ
मत गुजरा करो शहर की पगडंडियों से बेखौफ
Damini Narayan Singh
ओमप्रकाश वाल्मीकि : व्यक्तित्व एवं कृतित्व
ओमप्रकाश वाल्मीकि : व्यक्तित्व एवं कृतित्व
Dr. Narendra Valmiki
हम शिक्षक
हम शिक्षक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
"नवरात्रि पर्व"
Pushpraj Anant
एमर्जेंसी ड्यूटी
एमर्जेंसी ड्यूटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
🙅दस्तूर दुनिया का🙅
🙅दस्तूर दुनिया का🙅
*Author प्रणय प्रभात*
है वही, बस गुमराह हो गया है…
है वही, बस गुमराह हो गया है…
Anand Kumar
रंगों में भी
रंगों में भी
हिमांशु Kulshrestha
💐अज्ञात के प्रति-154💐(प्रेम कौतुक-154)
💐अज्ञात के प्रति-154💐(प्रेम कौतुक-154)
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वक्त एक हकीकत
वक्त एक हकीकत
umesh mehra
धन बल पर्याय
धन बल पर्याय
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ভালো উপদেশ
ভালো উপদেশ
Arghyadeep Chakraborty
"एक दीप जलाना चाहूँ"
Ekta chitrangini
तुम यूं मिलो की फासला ना रहे दरमियां
तुम यूं मिलो की फासला ना रहे दरमियां
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
उदास आँखों से जिस का रस्ता मैं एक मुद्दत से तक रहा था
उदास आँखों से जिस का रस्ता मैं एक मुद्दत से तक रहा था
Aadarsh Dubey
रूख हवाओं का
रूख हवाओं का
Dr fauzia Naseem shad
सचमुच सपेरा है
सचमुच सपेरा है
Dr. Sunita Singh
*हमारे कन्हैया*
*हमारे कन्हैया*
Dr. Vaishali Verma
बचपन के पल
बचपन के पल
Soni Gupta
23/22.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/22.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आज की प्रस्तुति: भाग 5
आज की प्रस्तुति: भाग 5
Rajeev Dutta
12) “पृथ्वी का सम्मान”
12) “पृथ्वी का सम्मान”
Sapna Arora
🇮🇳 मेरी माटी मेरा देश 🇮🇳
🇮🇳 मेरी माटी मेरा देश 🇮🇳
Dr Manju Saini
"साजन लगा ना गुलाल"
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
संघर्षी वृक्ष
संघर्षी वृक्ष
Vikram soni
दोहा-सुराज
दोहा-सुराज
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...