Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2023 · 1 min read

“हाय री कलयुग”

“हाय री कलयुग”
कैसा ये कपटी जमाना आया
हाय तौबा मची है चारों ओर
रिश्ते नाते सब हो गए ख़तम
मीनू पुकारे हाय री कलयुग,
विधवा कोटा नौकरी पाने को
कोई अपने पति को मार रही
खात्मा हुए भावनाओं का अब
मीनू पुकारे हाय री कलयुग,
बेटा बहू अच्छे ना लगे मां को
बहन मांगे जमीन भाई की
अरे पैसे से भरता नहीं पेट
मीनू पुकारे हाय री कलयुग,
ननद चाहती नहीं भाभी को
भाई बन गया भाई का दुश्मन
देवरानी जेठानी झगड़ें आपस में
मीनू पुकारे हाय री कलयुग,
लालची हुआ है सारा जमाना
वृद्ध मां बाप सड़ें वृद्धाश्रम में
लाश को कंधा देती एंबुलेंस
मीनू पुकारे हाय री कलयुग।

Language: Hindi
3 Likes · 391 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Meenu Poonia
View all
You may also like:
वो काजल से धार लगाती है अपने नैनों की कटारों को ,,
वो काजल से धार लगाती है अपने नैनों की कटारों को ,,
Vishal babu (vishu)
बीजारोपण
बीजारोपण
आर एस आघात
आपने खो दिया अगर खुद को
आपने खो दिया अगर खुद को
Dr fauzia Naseem shad
करके याद तुझे बना रहा  हूँ  अपने मिजाज  को.....
करके याद तुझे बना रहा हूँ अपने मिजाज को.....
Rakesh Singh
शेर ग़ज़ल
शेर ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
नामुमकिन
नामुमकिन
Srishty Bansal
नया सपना
नया सपना
Kanchan Khanna
हार गए तो क्या हुआ?
हार गए तो क्या हुआ?
Praveen Bhardwaj
प्रेम में कृष्ण का और कृष्ण से प्रेम का अपना अलग ही आनन्द है
प्रेम में कृष्ण का और कृष्ण से प्रेम का अपना अलग ही आनन्द है
Anand Kumar
भूल जा वह जो कल किया
भूल जा वह जो कल किया
gurudeenverma198
भक्त कवि स्वर्गीय श्री रविदेव_रामायणी*
भक्त कवि स्वर्गीय श्री रविदेव_रामायणी*
Ravi Prakash
घर
घर
Dr MusafiR BaithA
बद मिजाज और बद दिमाग इंसान
बद मिजाज और बद दिमाग इंसान
shabina. Naaz
हटा लो नजरे तुम
हटा लो नजरे तुम
शेखर सिंह
मन के सवालों का जवाब नही
मन के सवालों का जवाब नही
भरत कुमार सोलंकी
पति मेरा मेरी जिंदगी का हमसफ़र है
पति मेरा मेरी जिंदगी का हमसफ़र है
VINOD CHAUHAN
आया नववर्ष
आया नववर्ष
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
स्वयं पर नियंत्रण कर विजय प्राप्त करने वाला व्यक्ति उस व्यक्
स्वयं पर नियंत्रण कर विजय प्राप्त करने वाला व्यक्ति उस व्यक्
Paras Nath Jha
"मेरी आवाज"
Dr. Kishan tandon kranti
इंतजार
इंतजार
Pratibha Pandey
लहर-लहर दीखे बम लहरी, बम लहरी
लहर-लहर दीखे बम लहरी, बम लहरी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वीर सुरेन्द्र साय
वीर सुरेन्द्र साय
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मजदूर
मजदूर
Preeti Sharma Aseem
5) कब आओगे मोहन
5) कब आओगे मोहन
पूनम झा 'प्रथमा'
सर्द ठिठुरन आँगन से,बैठक में पैर जमाने लगी।
सर्द ठिठुरन आँगन से,बैठक में पैर जमाने लगी।
पूर्वार्थ
#डिबेट_शो
#डिबेट_शो
*प्रणय प्रभात*
*आँखों से  ना  दूर होती*
*आँखों से ना दूर होती*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सिन्धु घाटी की लिपि : क्यों अंग्रेज़ और कम्युनिस्ट इतिहासकार
सिन्धु घाटी की लिपि : क्यों अंग्रेज़ और कम्युनिस्ट इतिहासकार
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
"शायरा सँग होली"-हास्य रचना
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Bad in good
Bad in good
Bidyadhar Mantry
Loading...