Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Apr 2023 · 1 min read

हादसे पैदा कर

तू सारी मुश्किलों का
दिलेरी से सामना कर!
दिल और दिमाग़ से
कोई भी फ़ैसला कर!!
अपने किरदार को
एक मेयार देने के लिए!
तू अपनी ज़िंदगी में
कुछ हादसे पैदा कर!!
#रोमांटिक #इंकलाबी #बागी
#विद्रोही #क्रांतिकारी #प्रेमी
#नौजवान #आशिक #शायर
#खतरा #Risk #youths #हक
#lover #Romantic #rebel

Language: Hindi
169 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ना कहीं के हैं हम - ना कहीं के हैं हम
ना कहीं के हैं हम - ना कहीं के हैं हम
Basant Bhagawan Roy
सपना है आँखों में मगर नीद कही और है
सपना है आँखों में मगर नीद कही और है
Rituraj shivem verma
वृक्षों का रोपण करें, रहे धरा संपन्न।
वृक्षों का रोपण करें, रहे धरा संपन्न।
डॉ.सीमा अग्रवाल
संबंधों के पुल के नीचे जब,
संबंधों के पुल के नीचे जब,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
तारिणी वर्णिक छंद का विधान
तारिणी वर्णिक छंद का विधान
Subhash Singhai
बारिश का मौसम
बारिश का मौसम
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
न पाने का गम अक्सर होता है
न पाने का गम अक्सर होता है
Kushal Patel
ये अमलतास खुद में कुछ ख़ास!
ये अमलतास खुद में कुछ ख़ास!
Neelam Sharma
ईश्वर अल्लाह गाड गुरु, अपने अपने राम
ईश्वर अल्लाह गाड गुरु, अपने अपने राम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
विश्व पुस्तक दिवस पर
विश्व पुस्तक दिवस पर
Mohan Pandey
"वक्त वक्त की बात"
Dr. Kishan tandon kranti
वो बदल रहे हैं।
वो बदल रहे हैं।
Taj Mohammad
सुप्रभातं
सुप्रभातं
Dr Archana Gupta
*बहन और भाई के रिश्ते, का अभिनंदन राखी है (मुक्तक)*
*बहन और भाई के रिश्ते, का अभिनंदन राखी है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
कभी अपनेे दर्दो-ग़म, कभी उनके दर्दो-ग़म-
कभी अपनेे दर्दो-ग़म, कभी उनके दर्दो-ग़म-
Shreedhar
इश्क
इश्क
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
पूजा नहीं, सम्मान दें!
पूजा नहीं, सम्मान दें!
Shekhar Chandra Mitra
मोबाइल भक्ति
मोबाइल भक्ति
Satish Srijan
भाव  पौध  जब मन में उपजे,  शब्द पिटारा  मिल जाए।
भाव पौध जब मन में उपजे, शब्द पिटारा मिल जाए।
शिल्पी सिंह बघेल
मन का कारागार
मन का कारागार
Pooja Singh
पत्नी की पहचान
पत्नी की पहचान
Pratibha Pandey
■ मी एसीपी प्रद्युम्न बोलतोय 😊😊😊
■ मी एसीपी प्रद्युम्न बोलतोय 😊😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
अमृत वचन
अमृत वचन
Dp Gangwar
"नींद की तलाश"
Pushpraj Anant
जीवन है
जीवन है
Dr fauzia Naseem shad
हों जो तुम्हे पसंद वही बात कहेंगे।
हों जो तुम्हे पसंद वही बात कहेंगे।
Rj Anand Prajapati
मेरी तकलीफ़ पे तुझको भी रोना चाहिए।
मेरी तकलीफ़ पे तुझको भी रोना चाहिए।
पूर्वार्थ
कोरोना चालीसा
कोरोना चालीसा
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
💐प्रेम कौतुक-264💐
💐प्रेम कौतुक-264💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कामयाबी
कामयाबी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...