Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

हाथ पताका, अंबर छू लूँ।

डटकर, अड़ा रहूँ मैं रण पर
हार कभी न मानूँगा
मातृभूमि का वीर पुत्र हूँ
हाथ पताका अंबर छू लूँ।

थककर, खड़ा रहूँ न पथ पर
पार लक्ष्य कर जाऊँगा
मातृभूमि को सींचता लहू
हाथ पताका अंबर छू लूँ।

हंसकर खड़ा तान सीने पर।
वार दुश्मनो का जानूंगा
माँ भारती का रक्षक हूँ
हाथ पताका अंबर छू लूँ।

✍संजय कुमार “सन्जू”
शिमला हिमाचल प्रदेश

Language: Hindi
46 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from संजय कुमार संजू
View all
You may also like:
दौड़ते ही जा रहे सब हर तरफ
दौड़ते ही जा रहे सब हर तरफ
Dhirendra Singh
🥀*गुरु चरणों की धूल* 🥀
🥀*गुरु चरणों की धूल* 🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मनी प्लांट
मनी प्लांट
कार्तिक नितिन शर्मा
3165.*पूर्णिका*
3165.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दोस्त और दोस्ती
दोस्त और दोस्ती
Neeraj Agarwal
अफसोस है मैं आजाद भारत बोल रहा हूॅ॑
अफसोस है मैं आजाद भारत बोल रहा हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
मुफ़्त
मुफ़्त
नंदन पंडित
प्यार में
प्यार में
श्याम सिंह बिष्ट
इतनी मिलती है तेरी सूरत से सूरत मेरी ‌
इतनी मिलती है तेरी सूरत से सूरत मेरी ‌
Phool gufran
वन  मोर  नचे  घन  शोर  करे, जब  चातक दादुर  गीत सुनावत।
वन मोर नचे घन शोर करे, जब चातक दादुर गीत सुनावत।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
"समय"
Dr. Kishan tandon kranti
मां
मां
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
चुप्पी और गुस्से का वर्णभेद / MUSAFIR BAITHA
चुप्पी और गुस्से का वर्णभेद / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
उसका अपना कोई
उसका अपना कोई
Dr fauzia Naseem shad
" ज़ख़्मीं पंख‌ "
Chunnu Lal Gupta
तेरे हुस्न के होगें लाखों दिवानें , हम तो तेरे दिवानों के का
तेरे हुस्न के होगें लाखों दिवानें , हम तो तेरे दिवानों के का
Sonu sugandh
साधक
साधक
सतीश तिवारी 'सरस'
प्रेम की तलाश में सिला नही मिला
प्रेम की तलाश में सिला नही मिला
Er. Sanjay Shrivastava
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
" अंधेरी रातें "
Yogendra Chaturwedi
ओझल तारे हो रहे, अभी हो रही भोर।
ओझल तारे हो रहे, अभी हो रही भोर।
surenderpal vaidya
मैं हु दीवाना तेरा
मैं हु दीवाना तेरा
Basant Bhagawan Roy
"लक्ष्य"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
लोग कहते हैं कि प्यार अँधा होता है।
लोग कहते हैं कि प्यार अँधा होता है।
आनंद प्रवीण
अहंकार का एटम
अहंकार का एटम
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
मतदान
मतदान
Dr Archana Gupta
वक़्त
वक़्त
विजय कुमार अग्रवाल
मेरी आरज़ू है ये
मेरी आरज़ू है ये
shabina. Naaz
Loading...