Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 May 2023 · 2 min read

हाई स्कूल के मेंढक (छोटी कहानी)

हाई स्कूल के मेंढक (छोटी कहानी)
****************************
मैं गहरी नींद में सो रहा था । तभी सपने में एक मेंढक आकर मेरे सामने खड़ा हो गया। फिर दूसरा मेंढक आया तीसरा आया, चौथा आया। दस-पंद्रह मेंढक इकट्ठे हो गए।
मैंने कहा” क्यों भाई, क्या बात हो गई ?
इतने मेंढक क्यों आ गए ? ”
वह बोले “हम तुमसे कुछ पूछने आए हैं । तुमने हाई स्कूल में बायोलॉजी के प्रैक्टिकल के समय एक- एक करके हम सबका पेट काटा और हमें मरने के लिए छोड़ दिया। तुमने ऐसा क्यों किया ?”
मैं सकपका गया ।कोई जवाब देते न बना। ।रपटते हुए मैंने कहा “यह तो पैंतालिस साल पुरानी बात हो गई. अब गड़े मुर्दे क्यों उखाड़ रहे हो? ”
वह बोले “हम तो गड़े मुर्दे हैं। उखड़ेंगे और सवाल पूछेंगे। यह बताओ तुमने हमारा पेट काटकर क्या सीखा ?”
मैंने कहा” भैया पुरानी बात है ।जाने दो। हमने कुछ नहीं सीखा। कोर्स में तुम्हें काटना था, इसलिए हमने काटा। न उस समय कुछ सीखा, न आज कुछ सीखा”
मेंढक बोले “इसका मतलब तुम भी स्वीकार करते हो कि हमारे काटने से तुम्हें कोई फायदा नहीं पहुंचा।”
मैंने कहा “ज्ञान की दृष्टि से कोई लाभ नहीं हुआ। तुम्हारा पेट काटने के बाद हमें जो कुछ मिला वह तो एक चार्ट की मदद से या निर्जीव मॉडल के माध्यम से भी सिखलाया जा सकता था।”
मेंढक बोले “तुमने गलती मान ली। अब हम लोग चलते हैं और दूसरे के पास जाकर उससे भी यही सवाल पूछेंगे”,।
मैंने कहा “दूसरा कौन?
वह बोला” हजारों लोगों ने हमारे बंधुओं को मौत के घाट उतार कर प्रैक्टिकल के नाम पर मारा है। हम एक-एक करके सब के सपनों में आएंगे और उन्हें परेशान करेंगे।”
मैंने कहा “भाई साहब ! फिर दोबारा तो मेरे पास नहीं आएंगे?”
वह बोले “नहीं हम केवल एक बार सब के पास जाएंगे।” …मैंने चैन की सॉंस ली।
^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^
लेखक: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

894 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
आओ गुफ्तगू करे
आओ गुफ्तगू करे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मौत के लिए किसी खंज़र की जरूरत नहीं,
मौत के लिए किसी खंज़र की जरूरत नहीं,
लक्ष्मी सिंह
तुम्हारी हँसी......!
तुम्हारी हँसी......!
Awadhesh Kumar Singh
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
उम्मीद की आँखों से अगर देख रहे हो,
उम्मीद की आँखों से अगर देख रहे हो,
Shweta Soni
जल रहे अज्ञान बनकर, कहेें मैं शुभ सीख हूँ
जल रहे अज्ञान बनकर, कहेें मैं शुभ सीख हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
“गुरुर मत करो”
“गुरुर मत करो”
Virendra kumar
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अपने मन मंदिर में, मुझे रखना, मेरे मन मंदिर में सिर्फ़ तुम रहना…
अपने मन मंदिर में, मुझे रखना, मेरे मन मंदिर में सिर्फ़ तुम रहना…
Anand Kumar
24/230. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/230. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हम जैसे बरबाद ही,
हम जैसे बरबाद ही,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"लकीरों के रंग"
Dr. Kishan tandon kranti
आलता-महावर
आलता-महावर
Pakhi Jain
राहों में खिंची हर लकीर बदल सकती है ।
राहों में खिंची हर लकीर बदल सकती है ।
Phool gufran
हम हिंदुस्तानियों की पहचान है हिंदी।
हम हिंदुस्तानियों की पहचान है हिंदी।
Ujjwal kumar
बड़े होते बच्चे
बड़े होते बच्चे
Manu Vashistha
रख लेना तुम सम्भाल कर
रख लेना तुम सम्भाल कर
Pramila sultan
अक़्सर बूढ़े शज़र को परिंदे छोड़ जाते है
अक़्सर बूढ़े शज़र को परिंदे छोड़ जाते है
'अशांत' शेखर
ताटंक कुकुभ लावणी छंद और विधाएँ
ताटंक कुकुभ लावणी छंद और विधाएँ
Subhash Singhai
बीतल बरस।
बीतल बरस।
Acharya Rama Nand Mandal
*जिंदगी के आकलन की, जब हुई शुरुआत थी (हिंदी गजल/ गीतिका)*
*जिंदगी के आकलन की, जब हुई शुरुआत थी (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
अज्ञात के प्रति-1
अज्ञात के प्रति-1
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बाल बिखरे से,आखें धंस रहीं चेहरा मुरझाया सा हों गया !
बाल बिखरे से,आखें धंस रहीं चेहरा मुरझाया सा हों गया !
The_dk_poetry
आपका समाज जितना ज्यादा होगा!
आपका समाज जितना ज्यादा होगा!
Suraj kushwaha
भाषाओं पे लड़ना छोड़ो, भाषाओं से जुड़ना सीखो, अपनों से मुँह ना
भाषाओं पे लड़ना छोड़ो, भाषाओं से जुड़ना सीखो, अपनों से मुँह ना
DrLakshman Jha Parimal
चुप्पी और गुस्से का वर्णभेद / MUSAFIR BAITHA
चुप्पी और गुस्से का वर्णभेद / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
अपनी कद्र
अपनी कद्र
Paras Nath Jha
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
हाइकु शतक (हाइकु संग्रह)
हाइकु शतक (हाइकु संग्रह)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
■ आज का दोहा
■ आज का दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...