Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jan 29, 2017 · 1 min read

हाईकु-पंच

आज के हमारे हाईकु देखिए कुछ इस तरह….

हाईकु-पंच

हम जो लिखे
नाम के लिए तब
क्षणिक सुख

हम क्यो लिखें
कुछ दाम के लिए
कुटिल सुख

हम क्या लिखे
शुभ नाम के लिए
सहज सुख

यदि ना लिखें
झूँठी शान के लिए
अलग सुख

हम तो लिखें
स्वपर हित साध
अपूर्व सुख

राजेन्द्र’अनेकांत’
बालाघाट दि.२८-०१-१७

185 Views
You may also like:
💐 हे तात नमन है तुमको 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खुदा भेजेगा ज़रूर।
Taj Mohammad
*ध्यान में निराकार को पाना (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
मुझमें भारत तुझमें भारत
Rj Anand Prajapati
साजिश अपने ही रचते हैं
gurudeenverma198
नुमाइश बना दी तुने I
Dr.sima
मजदूर की रोटी
AMRESH KUMAR VERMA
खूबसूरत एहसास.......
Dr. Alpa H. Amin
भाग्य लिपि
ओनिका सेतिया 'अनु '
✍️✍️चार बूँदे...✍️✍️
"अशांत" शेखर
*!* सोच नहीं कमजोर है तू *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
அழியக்கூடிய மற்றும் அழியாத
Shyam Sundar Subramanian
मै हूं एक मिट्टी का घड़ा
Ram Krishan Rastogi
शिकायत खुद से है अब तो......
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
*अमृत-सरोवर में नौका-विहार*
Ravi Prakash
में और मेरी बुढ़िया
Ram Krishan Rastogi
बसन्त बहार
N.ksahu0007@writer
हाइकु:(लता की यादें!)
Prabhudayal Raniwal
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
पिता घर की पहचान
vivek.31priyanka
अल्फाजों के घाव।
Taj Mohammad
हम भी
Dr fauzia Naseem shad
वो आवाज
Mahendra Rai
परिवार
Dr Meenu Poonia
🍀🌺प्रेम की राह पर-43🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरी धड़कन जूलियट और तेरा दिल रोमियो हो जाएगा
Krishan Singh
नशा कऽ क नहि गबावं अपन जान यौ
VY Entertainment
क्या अटल था?
Saraswati Bajpai
श्रंगार के वियोगी कवि श्री मुन्नू लाल शर्मा और उनकी...
Ravi Prakash
Loading...