Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Oct 2023 · 2 min read

हाइपरटेंशन

निग्रह बाबा एक ऐसा नाम जो अपने जमाने मे बहुत सम्मानित एव प्रेरणा स्रोत था ।

निग्रह एक गरीब ब्राह्मण परिवार का होनहार छात्र था घर परिवार वालो एव उसके नाते रिश्तेदारों को अपने होनहार के भविष्य कि उज्वल संभावनाएं देख कर आह्लादित था ।

वास्तव में निग्रह को ईश्वर ने गजब कि मेधा शक्ति प्रदान कर रखी थी उसके साथ के अन्य छात्र निग्रह
कि नकल करते उससे अपने पठन पाठन में सहयोग लेते विद्यालय प्रशासन भी अपने होनहार छात्र निग्रह पर बहुत अभिमानित रहता।

निग्रह ने विद्यालय का नाम हर प्रतियोगिता प्रतिस्पर्धा में रोशन किया था अक्सर निग्रह की चर्चा होती रहती ।

दोपहर कि चिलचिलाती धूप तरबूज का मौसम निग्रह अपने मित्रों के साथ विद्यालय से बाहर निकला मित्रों ने उससे तरबूज खरीदने के लिये रुकने के लिए कहा और सब तरबूज के ठेले के पास रुक गए ।

तरबूज वाले के पास मुश्किल से सात आठ लोग ही तरबूज के लिए खड़े थे बारी बारी से वह सबको तरबूज दे ही रहा था इस बीच निग्रह ने भी अपने एव दोस्तो के लिए तरबूज मांगा ।

गरीब तरबूज वाला बोला मॉलिक कुछ देर रुके मैं आप सबको तरबूज देता हूँ धूप बहुत तेज थी निग्रह के मित्रों ने निग्रह से कहा क्या बात है निग्रह कॉलेज के सामने खड़ा तरबूज वाला तुम्हारी बात नही सुन रहा है जबकि कॉलेज में प्रिंसिपल साहब भी तुम्हे सबसे अधिक तवज्जो देते है।

निग्रह ने कुछ देर तक अपने मित्रों की बात को अनसुनी करता रहा लेकिन उसके मित्र उंसे चढ़ाते रहे कभी कालेज में उसकी प्रतिष्ठा का वास्ता देकर कभी उसकी तमाम सफलताओ के सम्मान के लिए मात्र दस से पंद्रह ही मिनट में निग्रह को उसके साथियों ने इतना बढ़ा चढ़ा कर इतना उत्तेजित कर दिया कि उसने क्रोधित होकर तरबूज वाले से कहा कि तरबूज देते हो कि नही और उसने अपने एक हाथ मे ठेले पर पड़े तरबूज काटने वाले एक बड़े छुरे को उठा लिया तरबूज वाला बेफिक्र दूसरे छुरे से तरबूज काट ही रहा था तब तक निग्रह इतना उत्तेजित हो गया कि हाथ मे लिए छुरे को उसने गरीब तरबूज वाले के पेट मे घुसेड़ दिया और नीचे से ऊपर तक छुरे को घुमा दिया ।

कुछ देर पहले तक तरबूज काटता गरीब तरबूज वाला खुद तरबूज कि तरह कटा तड़फड़ाता दम तोड़ दिया निग्रह के दोस्तो को वहाँ से भगते देर न लगी लेकिन निग्रह को जैसे सांप सूंघ गया हो वह एक पेशेवर अपराधी तो था नही कुछ ही देर में मौके पर पुलिस पंहुची और निग्रह के कब्जे से चाकू के साथ उसे हिरासत में ले लिया ।

निग्रह के खिलाफ कानूनी कार्यवाही भी बहुत जल्दी ही पूरी हो गयी उसके पुराने रिकार्ड एव तरबूज वाले के परिवार के अनुरोध पर सजा से माफी मिल गई लेकिन निग्रह विक्षिप्त होकर गली मोहल्ले चौराहे यही कहता है उत्तेजना का मैं निग्रह हूँ जो कभी उग्रह नही हो सकता मरने से पहले।

नंदलाल मणि त्रिपाठी पीतांबर गोरखपुर उतर प्रदेश।।

Language: Hindi
74 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
View all
You may also like:
कँवल कहिए
कँवल कहिए
Dr. Sunita Singh
बगुलों को भी मिल रहा,
बगुलों को भी मिल रहा,
sushil sarna
गर्मी
गर्मी
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
मानवता का धर्म है,सबसे उत्तम धर्म।
मानवता का धर्म है,सबसे उत्तम धर्म।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
होली के त्यौहार पर तीन कुण्डलिया
होली के त्यौहार पर तीन कुण्डलिया
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
होंसला
होंसला
Shutisha Rajput
दूसरों के अधिकारों
दूसरों के अधिकारों
Dr.Rashmi Mishra
किरदार अगर रौशन है तो
किरदार अगर रौशन है तो
shabina. Naaz
"एक ही जीवन में
पूर्वार्थ
तुम्हें ना भूल पाऊँगी, मधुर अहसास रक्खूँगी।
तुम्हें ना भूल पाऊँगी, मधुर अहसास रक्खूँगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
बाल कविता :गर्दभ जी
बाल कविता :गर्दभ जी
Ravi Prakash
प्रोटोकॉल
प्रोटोकॉल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*कमबख़्त इश्क़*
*कमबख़्त इश्क़*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*मैंने देखा है * ( 18 of 25 )
*मैंने देखा है * ( 18 of 25 )
Kshma Urmila
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सत्य पर चलना बड़ा कठिन है
सत्य पर चलना बड़ा कठिन है
Udaya Narayan Singh
वक्रतुंडा शुचि शुंदा सुहावना,
वक्रतुंडा शुचि शुंदा सुहावना,
Neelam Sharma
तुम नहीं आये
तुम नहीं आये
Surinder blackpen
छत्तीसगढ़ स्थापना दिवस
छत्तीसगढ़ स्थापना दिवस
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
राम से बड़ा राम का नाम
राम से बड़ा राम का नाम
Anil chobisa
विजेता
विजेता
Paras Nath Jha
काम ये करिए नित्य,
काम ये करिए नित्य,
Shweta Soni
रफ़्ता रफ़्ता (एक नई ग़ज़ल)
रफ़्ता रफ़्ता (एक नई ग़ज़ल)
Vinit kumar
तप त्याग समर्पण भाव रखों
तप त्याग समर्पण भाव रखों
Er.Navaneet R Shandily
टिमटिमाता समूह
टिमटिमाता समूह
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
💐प्रेम कौतुक-189💐
💐प्रेम कौतुक-189💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
घर नही है गांव में
घर नही है गांव में
Priya Maithil
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
बंटते हिन्दू बंटता देश
बंटते हिन्दू बंटता देश
विजय कुमार अग्रवाल
Loading...