Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2024 · 1 min read

हाइकु: गौ बचाओं.!

*************************************************
हिन्दुस्तान में-
पूजते है गौ-माता!
गौ मत मारो!
———————————-
पयस्विनी में-
देवी-देवता वास!
धेनु बचाओं!
———————————–
माक्खन चोर-
कृष्णा की प्यारी है गौ!
गऊ बचाओं!
———————————–
ये हिंदुमाता-
कितनी दयालु है!
मनु को लाभ!
———————————–
गौ- लाभकारी!
गौ-मूत्र का सेवन-
रोग से मुक्ति!
———————————–
गौ- फलदायी!
गौ-दुग्ध का सेवन-
हो काया नूर!
———————————–
गोंवती दुग्ध-
मानव को चाहिए!
गोंवी बचाओं!
———————————–
गोबर खाद-
शस्य उपज वृद्धि!
गऊ बचाओं!
———————————–
गौ-मूत्र करो-
शस्य में छिड़काव!
फसल स्वस्थ!
———————————–
निर्दोष गोंवी!
लोभी मनु ना माने-
करें गौ-हत्या!
————————————
वें जल्लाद है!
कौन रोकेगा उन्हें..?
काटते है- गौ!
————————————
सैंकड़ों गैया-
रोज कटे जग में!
कौन रोकेगा…?
————————————
मनु! चलाओं-
‘गौ-रक्षा’ अभियान!
होगा कल्याण!
************************
गौ-माता को शत् शत् नमन!
************************
*रचयिता: प्रभुदयाल रानीवाल
:===:उज्जैन{मध्यप्रदेश}:===:
************************

Language: Hindi
2 Likes · 4 Comments · 574 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरे प्रिय पवनपुत्र हनुमान
मेरे प्रिय पवनपुत्र हनुमान
Anamika Tiwari 'annpurna '
नेताजी सुभाषचंद्र बोस
नेताजी सुभाषचंद्र बोस
ऋचा पाठक पंत
दरक जाती हैं दीवारें  यकीं ग़र हो न रिश्तों में
दरक जाती हैं दीवारें यकीं ग़र हो न रिश्तों में
Mahendra Narayan
अंतरात्मा की आवाज
अंतरात्मा की आवाज
Dr. Pradeep Kumar Sharma
खूबसूरती एक खूबसूरत एहसास
खूबसूरती एक खूबसूरत एहसास
Dr fauzia Naseem shad
हे! नव युवको !
हे! नव युवको !
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सबूत- ए- इश्क़
सबूत- ए- इश्क़
राहुल रायकवार जज़्बाती
एक ऐसी दुनिया बनाऊँगा ,
एक ऐसी दुनिया बनाऊँगा ,
Rohit yadav
जुदाई का एहसास
जुदाई का एहसास
प्रदीप कुमार गुप्ता
बुलन्द होंसला रखने वाले लोग, कभी डरा नहीं करते
बुलन्द होंसला रखने वाले लोग, कभी डरा नहीं करते
The_dk_poetry
मंदिर बनगो रे
मंदिर बनगो रे
Sandeep Pande
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Phool gufran
चाय पीने से पिलाने से नहीं होता है
चाय पीने से पिलाने से नहीं होता है
Manoj Mahato
अरदास
अरदास
Buddha Prakash
you don’t need a certain number of friends, you just need a
you don’t need a certain number of friends, you just need a
पूर्वार्थ
2318.पूर्णिका
2318.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
नारी अस्मिता
नारी अस्मिता
Shyam Sundar Subramanian
अंतरात्मा की आवाज
अंतरात्मा की आवाज
SURYA PRAKASH SHARMA
वर्तमान राजनीति
वर्तमान राजनीति
नवीन जोशी 'नवल'
" सत कर्म"
Yogendra Chaturwedi
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
शाश्वत, सत्य, सनातन राम
शाश्वत, सत्य, सनातन राम
श्रीकृष्ण शुक्ल
*रामपुर से प्रकाशित हिंदी साप्ताहिक पत्रों से मेरा संबंध*
*रामपुर से प्रकाशित हिंदी साप्ताहिक पत्रों से मेरा संबंध*
Ravi Prakash
"परोपकार"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम्हारे साथ,
तुम्हारे साथ,
हिमांशु Kulshrestha
कुछ
कुछ
Shweta Soni
आकुल बसंत!
आकुल बसंत!
Neelam Sharma
*माँ दुर्गा का प्रथम स्वरूप - शैलपुत्री*
*माँ दुर्गा का प्रथम स्वरूप - शैलपुत्री*
Shashi kala vyas
नये साल में
नये साल में
Mahetaru madhukar
Hello
Hello
Yash mehra
Loading...