Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 May 2023 · 1 min read

हवा बहुत सर्द है

निकलो न बेपरवाह,
हवा बहुत सर्द है,
हो गुलाब की तरह!
नाजुक, मासूम, खूबसूरत,
महंँक बिखेरने के लिए,
सुंदर दिखने के लिए,
संस्कृति की प्रतीक!
पर समझता कौन?
अनपढ़; निरक्षर;
जिसे है, गेहूंँ की फिक्र,
भूख मिटाने की;
पेट की;
तन की;
वह तो गुलाब को
कुचलना जानता है,
मसलना जानता है,
वह दिल-ए-बेजार,
बड़ा बेदर्द है,
निकलो न बेपरवाह,
हवा बहुत सर्द है।

मौलिक व स्वरचित
©® श्री रमण ‘श्रीपद्’
बेगूसराय, (बिहार)

2 Likes · 134 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
View all
You may also like:
कि मुझे सबसे बहुत दूर ले जाएगा,
कि मुझे सबसे बहुत दूर ले जाएगा,
Deepesh सहल
Happy Holi
Happy Holi
अनिल अहिरवार"अबीर"
यादें मोहब्बत की
यादें मोहब्बत की
Mukesh Kumar Sonkar
मात पिता
मात पिता
विजय कुमार अग्रवाल
💐प्रेम कौतुक-180💐
💐प्रेम कौतुक-180💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रिश्तों में वक्त
रिश्तों में वक्त
पूर्वार्थ
वो क्या गिरा
वो क्या गिरा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कर रहे हैं वंदना
कर रहे हैं वंदना
surenderpal vaidya
"पिता है तो"
Dr. Kishan tandon kranti
डरने कि क्या बात
डरने कि क्या बात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हम हैं क्योंकि वह थे
हम हैं क्योंकि वह थे
Shekhar Chandra Mitra
2678.*पूर्णिका*
2678.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आई दिवाली कोरोना में
आई दिवाली कोरोना में
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Ishq ke panne par naam tera likh dia,
Ishq ke panne par naam tera likh dia,
Chinkey Jain
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
" भाषा क जटिलता "
DrLakshman Jha Parimal
कोहिनूराँचल
कोहिनूराँचल
डिजेन्द्र कुर्रे
*खुद को  खुदा  समझते लोग हैँ*
*खुद को खुदा समझते लोग हैँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बस, इतना सा करना...गौर से देखते रहना
बस, इतना सा करना...गौर से देखते रहना
Teena Godhia
गर लिखने का सलीका चाहिए।
गर लिखने का सलीका चाहिए।
Dr. ADITYA BHARTI
मुल्क
मुल्क
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हम सब मिलकर, ऐसे यह दिवाली मनाये
हम सब मिलकर, ऐसे यह दिवाली मनाये
gurudeenverma198
नया एक रिश्ता पैदा क्यों करें हम
नया एक रिश्ता पैदा क्यों करें हम
Shakil Alam
दो दिन की जिंदगी है अपना बना ले कोई।
दो दिन की जिंदगी है अपना बना ले कोई।
Phool gufran
तेरी चाहत का कैदी
तेरी चाहत का कैदी
N.ksahu0007@writer
कैसे कह दूं पंडित हूँ
कैसे कह दूं पंडित हूँ
Satish Srijan
अक्सर लोग सोचते हैं,
अक्सर लोग सोचते हैं,
करन ''केसरा''
अच्छे बच्चे
अच्छे बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नव-निवेदन
नव-निवेदन
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
*चैत : 13 दोहे*
*चैत : 13 दोहे*
Ravi Prakash
Loading...