Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 May 2016 · 1 min read

*हवा का झोंका*

मस्त हवा का झोंका आया
लहराया फ़िर है बलखाया
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
वसुधा नाची झूम-झूम कर
अम्बर ने भी गान सुनाया
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
महक उठा है मन का उपवन
खुशबू को इसने बिखराया
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
नयी उमंगों का जीवन में
अब तो है परचम फहराया
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
खुशियों को फैला कर के
हर ग़म को है दूर भगाया
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
धर्मेन्द्र अरोड़ा

Language: Hindi
295 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
डॉ. ध्रुव की दृष्टि में कविता का अमृतस्वरूप
डॉ. ध्रुव की दृष्टि में कविता का अमृतस्वरूप
कवि रमेशराज
ओ माँ मेरी लाज रखो
ओ माँ मेरी लाज रखो
Basant Bhagawan Roy
मन मस्तिष्क और तन को कुछ समय आराम देने के लिए उचित समय आ गया
मन मस्तिष्क और तन को कुछ समय आराम देने के लिए उचित समय आ गया
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
2772. *पूर्णिका*
2772. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पंछी और पेड़
पंछी और पेड़
नन्दलाल सुथार "राही"
शौक-ए-आदम
शौक-ए-आदम
AJAY AMITABH SUMAN
लहज़ा गुलाब सा है, बातें क़माल हैं
लहज़ा गुलाब सा है, बातें क़माल हैं
Dr. Rashmi Jha
"दीपावाली का फटाका"
Radhakishan R. Mundhra
कुछ बहुएँ ससुराल में
कुछ बहुएँ ससुराल में
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
वास्तविक प्रकाशक
वास्तविक प्रकाशक
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Sometimes words are not as desperate as feelings.
Sometimes words are not as desperate as feelings.
Sakshi Tripathi
अपनी वाणी से :
अपनी वाणी से :
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
तूणीर (श्रेष्ठ काव्य रचनाएँ)
तूणीर (श्रेष्ठ काव्य रचनाएँ)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सुनो पहाड़ की...!!! (भाग - ९)
सुनो पहाड़ की...!!! (भाग - ९)
Kanchan Khanna
"जो लोग
*Author प्रणय प्रभात*
देख लेना चुप न बैठेगा, हार कर भी जीत जाएगा शहर…
देख लेना चुप न बैठेगा, हार कर भी जीत जाएगा शहर…
Anand Kumar
मोदी जी का स्वच्छ भारत का जो सपना है
मोदी जी का स्वच्छ भारत का जो सपना है
gurudeenverma198
ईश्वर, कौआ और आदमी के कान
ईश्वर, कौआ और आदमी के कान
Dr MusafiR BaithA
!! मेरी विवशता !!
!! मेरी विवशता !!
Akash Yadav
India is my national
India is my national
Rajan Sharma
शीर्षक -  आप और हम जीवन के सच
शीर्षक - आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
*रंगीला रे रंगीला (Song)*
*रंगीला रे रंगीला (Song)*
Dushyant Kumar
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
न दिखावा खातिर
न दिखावा खातिर
Satish Srijan
*ऐसा हमेशा कृष्ण जैसा, मित्र होना चाहिए (मुक्तक)*
*ऐसा हमेशा कृष्ण जैसा, मित्र होना चाहिए (मुक्तक)*
Ravi Prakash
कितनी प्यारी प्रकृति
कितनी प्यारी प्रकृति
जगदीश लववंशी
"महान ज्योतिबा"
Dr. Kishan tandon kranti
नींद आती है......
नींद आती है......
Kavita Chouhan
गए हो तुम जब से जाना
गए हो तुम जब से जाना
The_dk_poetry
अगर गौर से विचार किया जाएगा तो यही पाया जाएगा कि इंसान से ज्
अगर गौर से विचार किया जाएगा तो यही पाया जाएगा कि इंसान से ज्
Seema Verma
Loading...