Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2024 · 1 min read

हर लम्हे में

हर लम्हे में

हर लम्हे में
आस है विश्वास है
जीवन ज्योत भी
जीते जी की मौत भी
मधुर प्यार भी कटु तकरार भी
हर लम्हे में
उम्मीद की आहट है
कुछ कर गुजरने की छटपटाहट है
संगीता बैनीवाल

2 Likes · 92 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2940.*पूर्णिका*
2940.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
टूटे पैमाने ......
टूटे पैमाने ......
sushil sarna
मन चंगा तो कठौती में गंगा / MUSAFIR BAITHA
मन चंगा तो कठौती में गंगा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
बारम्बार प्रणाम
बारम्बार प्रणाम
Pratibha Pandey
*ख़ुशी की बछिया* ( 15 of 25 )
*ख़ुशी की बछिया* ( 15 of 25 )
Kshma Urmila
बदल चुका क्या समय का लय?
बदल चुका क्या समय का लय?
Buddha Prakash
It always seems impossible until It's done
It always seems impossible until It's done
Naresh Kumar Jangir
******जय श्री खाटूश्याम जी की*******
******जय श्री खाटूश्याम जी की*******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"फसलों के राग"
Dr. Kishan tandon kranti
🙅परिभाषा🙅
🙅परिभाषा🙅
*प्रणय प्रभात*
आज की बेटियां
आज की बेटियां
Shekhar Chandra Mitra
कह पाना मुश्किल बहुत, बातें कही हमें।
कह पाना मुश्किल बहुत, बातें कही हमें।
surenderpal vaidya
मन के सवालों का जवाब नाही
मन के सवालों का जवाब नाही
भरत कुमार सोलंकी
अर्जुन सा तू तीर रख, कुंती जैसी पीर।
अर्जुन सा तू तीर रख, कुंती जैसी पीर।
Suryakant Dwivedi
कभी वाकमाल चीज था, अभी नाचीज हूँ
कभी वाकमाल चीज था, अभी नाचीज हूँ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चलो...
चलो...
Srishty Bansal
जय जय हिन्दी
जय जय हिन्दी
gurudeenverma198
दर्द देकर मौहब्बत में मुस्कुराता है कोई।
दर्द देकर मौहब्बत में मुस्कुराता है कोई।
Phool gufran
एक दिन उसने यूं ही
एक दिन उसने यूं ही
Rachana
इतिहास गवाह है
इतिहास गवाह है
शेखर सिंह
नसीब में था अकेलापन,
नसीब में था अकेलापन,
Umender kumar
दिल को दिल से खुशी होती है
दिल को दिल से खुशी होती है
shabina. Naaz
करवाचौथ
करवाचौथ
Surinder blackpen
दोहा- बाबूजी (पिताजी)
दोहा- बाबूजी (पिताजी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जन्म नही कर्म प्रधान
जन्म नही कर्म प्रधान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सनातन सँस्कृति
सनातन सँस्कृति
Bodhisatva kastooriya
জীবনের অর্থ এক এক জনের কাছে এক এক রকম। জীবনের অর্থ হল আপনার
জীবনের অর্থ এক এক জনের কাছে এক এক রকম। জীবনের অর্থ হল আপনার
Sakhawat Jisan
सरकारों के बस में होता हालतों को सुधारना तो अब तक की सरकारें
सरकारों के बस में होता हालतों को सुधारना तो अब तक की सरकारें
REVATI RAMAN PANDEY
पत्नी व प्रेमिका में क्या फर्क है बताना।
पत्नी व प्रेमिका में क्या फर्क है बताना।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...