Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2017 · 1 min read

हर बच्चा कलाकार होता है।

????
हर बच्चा कलाकार होता है,
मन कल्पना से भरा होता है।
मन में विचारों का द्वन्द होता है,
तब कोई नया सृजन होता है
हर बच्चा कलाकार होता है।

?

चीजों को कभी तोड़ता है,
कभी चीजों को जोड़ता है।
नयी-नयी चीजें सोचता है,
नयी -नयी करतब करता है
हर बच्चा कलाकार होता है।

?

पर विचार नाजुक होता है।
डाँटडपट से मर सकता है।
प्रोत्साहन करने से बढ़ता है।
विरानों में भी रंग भरता है।
हर बच्चा कलाकार होता है।

????—लक्ष्मी सिंह

848 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
आज फ़िर दिल ने इक तमन्ना की..
आज फ़िर दिल ने इक तमन्ना की..
Rashmi Sanjay
"बाजरे का जायका"
Dr Meenu Poonia
घर आ जाओ अब महारानी (उपालंभ गीत)
घर आ जाओ अब महारानी (उपालंभ गीत)
दुष्यन्त 'बाबा'
हो तेरी ज़िद
हो तेरी ज़िद
Dr fauzia Naseem shad
शिवा कहे,
शिवा कहे, "शिव" की वाणी, जन, दुनिया थर्राए।
SPK Sachin Lodhi
हम वो हिंदुस्तानी है,
हम वो हिंदुस्तानी है,
भवेश
*रिमझिम-रिमझिम बूॅंदें बरसीं, गाते मेघ-मल्हार (गीत)*
*रिमझिम-रिमझिम बूॅंदें बरसीं, गाते मेघ-मल्हार (गीत)*
Ravi Prakash
💐प्रेम कौतुक-341💐
💐प्रेम कौतुक-341💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■ आज की बात
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
अर्चना की कुंडलियां भाग 2
अर्चना की कुंडलियां भाग 2
Dr Archana Gupta
2857.*पूर्णिका*
2857.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जिंदगी गुज़र जाती हैं
जिंदगी गुज़र जाती हैं
Neeraj Agarwal
An Evening
An Evening
goutam shaw
मूल्य
मूल्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मृत्यु... (एक अटल सत्य )
मृत्यु... (एक अटल सत्य )
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
सिद्धार्थ बुद्ध की करुणा
सिद्धार्थ बुद्ध की करुणा
Buddha Prakash
झील किनारे
झील किनारे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
प्यासा के हुनर
प्यासा के हुनर
Vijay kumar Pandey
जादुई कलम
जादुई कलम
Arvina
*वो मेरी जान, मुझे बहुत याद आती है(जेल से)*
*वो मेरी जान, मुझे बहुत याद आती है(जेल से)*
Dushyant Kumar
रमेशराज की कविता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की कविता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
बमुश्किल से मुश्किल तक पहुँची
बमुश्किल से मुश्किल तक पहुँची
सिद्धार्थ गोरखपुरी
🌿⚘️प्राचीन  मंदिर (मड़) ककरुआ⚘️🌿
🌿⚘️प्राचीन मंदिर (मड़) ककरुआ⚘️🌿
Ms.Ankit Halke jha
सूखा शजर
सूखा शजर
Surinder blackpen
मतलबी किरदार
मतलबी किरदार
Aman Kumar Holy
तुझसा कोई प्यारा नहीं
तुझसा कोई प्यारा नहीं
Mamta Rani
""बहुत दिनों से दूर थे तुमसे _
Rajesh vyas
जब सांझ ढल चुकी है तो क्यूं ना रात हो
जब सांझ ढल चुकी है तो क्यूं ना रात हो
Ravi Ghayal
बहुत कुछ जल रहा है अंदर मेरे
बहुत कुछ जल रहा है अंदर मेरे
डॉ. दीपक मेवाती
Loading...