Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

हर बच्चा कलाकार होता है।

????
हर बच्चा कलाकार होता है,
मन कल्पना से भरा होता है।
मन में विचारों का द्वन्द होता है,
तब कोई नया सृजन होता है
हर बच्चा कलाकार होता है।

?

चीजों को कभी तोड़ता है,
कभी चीजों को जोड़ता है।
नयी-नयी चीजें सोचता है,
नयी -नयी करतब करता है
हर बच्चा कलाकार होता है।

?

पर विचार नाजुक होता है।
डाँटडपट से मर सकता है।
प्रोत्साहन करने से बढ़ता है।
विरानों में भी रंग भरता है।
हर बच्चा कलाकार होता है।

????—लक्ष्मी सिंह

394 Views
You may also like:
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
चमचागिरी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मन की पीड़ा
Dr fauzia Naseem shad
खुद को तुम पहचानों नारी ( भाग १)
Anamika Singh
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
ओ मेरे साथी ! देखो
Anamika Singh
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
बोझ
आकांक्षा राय
फीका त्यौहार
पाण्डेय चिदानन्द
अच्छा आहार, अच्छा स्वास्थ्य
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
पिता जी का आशीर्वाद है !
Kuldeep mishra (KD)
मैं हिन्दी हूँ , मैं हिन्दी हूँ / (हिन्दी दिवस...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ग़रीब की दिवाली!
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कौन दिल का
Dr fauzia Naseem shad
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
पिता
Shailendra Aseem
याद पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
Loading...