Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2024 · 1 min read

हर-दिन ,हर-लम्हा,नयी मुस्कान चाहिए।

हर-दिन ,हर-लम्हा,नयी मुस्कान चाहिए।
ऊँचाइयाँ छू लूँ ,वो आयाम चाहिए।
अँधेरों में खोना ,मेरी फितरत नहीं है,
मुझे अपने वजूद, की पहचान चाहिए।

डॉ. रागिनी शर्मा,इन्दौर

1 Like · 65 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तिलक-विआह के तेलउँस खाना
तिलक-विआह के तेलउँस खाना
आकाश महेशपुरी
मैं पढ़ता हूं
मैं पढ़ता हूं
डॉ० रोहित कौशिक
मानस हंस छंद
मानस हंस छंद
Subhash Singhai
हैंडपंपों पे : उमेश शुक्ल के हाइकु
हैंडपंपों पे : उमेश शुक्ल के हाइकु
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मां कृपा दृष्टि कर दे
मां कृपा दृष्टि कर दे
Seema gupta,Alwar
आगे बढ़ना है जिन्हें, सीखें चमचा-ज्ञान (कुंडलिया )
आगे बढ़ना है जिन्हें, सीखें चमचा-ज्ञान (कुंडलिया )
Ravi Prakash
विछोह के पल
विछोह के पल
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"उम्मीदों की जुबानी"
Dr. Kishan tandon kranti
इसे कहते हैं
इसे कहते हैं
*Author प्रणय प्रभात*
आपकी आत्मचेतना और आत्मविश्वास ही आपको सबसे अधिक प्रेरित करने
आपकी आत्मचेतना और आत्मविश्वास ही आपको सबसे अधिक प्रेरित करने
Neelam Sharma
3030.*पूर्णिका*
3030.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
संस्कार मनुष्य का प्रथम और अपरिहार्य सृजन है। यदि आप इसका सृ
संस्कार मनुष्य का प्रथम और अपरिहार्य सृजन है। यदि आप इसका सृ
Sanjay ' शून्य'
बेचारा प्रताड़ित पुरुष
बेचारा प्रताड़ित पुरुष
Manju Singh
#विषय --रक्षा बंधन
#विषय --रक्षा बंधन
rekha mohan
गज़ल क्या लिखूँ मैं तराना नहीं है
गज़ल क्या लिखूँ मैं तराना नहीं है
VINOD CHAUHAN
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह
धर्म अर्थ कम मोक्ष
धर्म अर्थ कम मोक्ष
Dr.Pratibha Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
चिड़िया बैठी सोच में, तिनका-तिनका जोड़।
चिड़िया बैठी सोच में, तिनका-तिनका जोड़।
डॉ.सीमा अग्रवाल
* मुस्कुराते हुए *
* मुस्कुराते हुए *
surenderpal vaidya
*काल क्रिया*
*काल क्रिया*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सर्जिकल स्ट्राइक
सर्जिकल स्ट्राइक
लक्ष्मी सिंह
*हिंदी मेरे देश की जुबान है*
*हिंदी मेरे देश की जुबान है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कैसे कांटे हो तुम
कैसे कांटे हो तुम
Basant Bhagawan Roy
यूँ तो हम अपने दुश्मनों का भी सम्मान करते हैं
यूँ तो हम अपने दुश्मनों का भी सम्मान करते हैं
ruby kumari
तेरी चाहत में सच तो तुम हो
तेरी चाहत में सच तो तुम हो
Neeraj Agarwal
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*शिवे भक्तिः शिवे भक्तिः शिवे भक्ति  भर्वे भवे।*
*शिवे भक्तिः शिवे भक्तिः शिवे भक्ति भर्वे भवे।*
Shashi kala vyas
यादों के बादल
यादों के बादल
singh kunwar sarvendra vikram
दिल होता .ना दिल रोता
दिल होता .ना दिल रोता
Vishal Prajapati
Loading...