Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Dec 2023 · 1 min read

हर दफ़ा जब बात रिश्तों की आती है तो इतना समझ आ जाता है की ये

हर दफ़ा जब बात रिश्तों की आती है तो इतना समझ आ जाता है की ये सब समाज के बनाये वो बंधन है जो जरूरत के तौर पे जोडे रखने के लिए होता है,
खैर सच कहूँ तो इतने रिश्तों को हमने आजमा लिया है की अब डर लगता है, जब इंसान का दूसरे लोगो के साथ रिश्ते बनने लगते है फिर पुराने रिश्ते उस पुराने फर्नीचर की तरह हो जाते है जिसे या तो इस्तेमाल करना ही लोग छोड देते है या फिर जरूरत से ज्यादा उसे इस्तेमाल नहीं करते…
खैर समय के साथ बदलते हालात के साथ लोगो का बदल जाना रिश्तों के कमजोरी दिखाता है वरना निभाने वाले बुरे हालात मे भी साथ देते है……
खैर इतना ज्ञान काफी होगा रिश्तों को समझने के लिए

115 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
(11) मैं प्रपात महा जल का !
(11) मैं प्रपात महा जल का !
Kishore Nigam
नानी का गांव
नानी का गांव
साहित्य गौरव
लक्ष्य एक होता है,
लक्ष्य एक होता है,
नेताम आर सी
हे विश्वनाथ महाराज, तुम सुन लो अरज हमारी
हे विश्वनाथ महाराज, तुम सुन लो अरज हमारी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
महा कवि वृंद रचनाकार,
महा कवि वृंद रचनाकार,
Neelam Sharma
धुँधलाती इक साँझ को, उड़ा परिन्दा ,हाय !
धुँधलाती इक साँझ को, उड़ा परिन्दा ,हाय !
Pakhi Jain
पिरामिड -यथार्थ के रंग
पिरामिड -यथार्थ के रंग
sushil sarna
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
यादों की सुनवाई होगी
यादों की सुनवाई होगी
Shweta Soni
राहुल की अंतरात्मा
राहुल की अंतरात्मा
Ghanshyam Poddar
*रामपुर के राजा रामसिंह (नाटक)*
*रामपुर के राजा रामसिंह (नाटक)*
Ravi Prakash
भगवा है पहचान हमारी
भगवा है पहचान हमारी
Dr. Pratibha Mahi
!! ख़ुद को खूब निरेख !!
!! ख़ुद को खूब निरेख !!
Chunnu Lal Gupta
युवा मन❤️‍🔥🤵
युवा मन❤️‍🔥🤵
डॉ० रोहित कौशिक
तुम हारिये ना हिम्मत
तुम हारिये ना हिम्मत
gurudeenverma198
मैं हर इक चीज़ फानी लिख रहा हूं
मैं हर इक चीज़ फानी लिख रहा हूं
शाह फैसल मुजफ्फराबादी
सुबह वक्त पर नींद खुलती नहीं
सुबह वक्त पर नींद खुलती नहीं
शिव प्रताप लोधी
सांसों के सितार पर
सांसों के सितार पर
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
आसान शब्द में समझिए, मेरे प्यार की कहानी।
आसान शब्द में समझिए, मेरे प्यार की कहानी।
पूर्वार्थ
चुनावी वादा
चुनावी वादा
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
रास्ते है बड़े उलझे-उलझे
रास्ते है बड़े उलझे-उलझे
Buddha Prakash
"दो पहलू"
Yogendra Chaturwedi
2794. *पूर्णिका*
2794. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
खिड़कियाँ -- कुछ खुलीं हैं अब भी - कुछ बरसों से बंद हैं
खिड़कियाँ -- कुछ खुलीं हैं अब भी - कुछ बरसों से बंद हैं
Atul "Krishn"
💐प्रेम कौतुक-255💐
💐प्रेम कौतुक-255💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"सियार"
Dr. Kishan tandon kranti
चरम सुख
चरम सुख
मनोज कर्ण
चंद दोहे नारी पर...
चंद दोहे नारी पर...
डॉ.सीमा अग्रवाल
*
*"घंटी"*
Shashi kala vyas
* बताएं किस तरह तुमको *
* बताएं किस तरह तुमको *
surenderpal vaidya
Loading...