Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Nov 2023 · 1 min read

हर तीखे मोड़ पर मन में एक सुगबुगाहट सी होती है। न जाने क्यों

हर तीखे मोड़ पर मन में एक सुगबुगाहट सी होती है। न जाने क्यों लगता है कि कहीं अगले मोड़ पर उसे इंतज़ार न हो मेरा!!!
‘गुरु मिश्रा’

213 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"रिश्ता" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
राजनीति में ना प्रखर,आते यह बलवान ।
राजनीति में ना प्रखर,आते यह बलवान ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
" जब तक आप लोग पढोगे नहीं, तो जानोगे कैसे,
शेखर सिंह
आज़ ज़रा देर से निकल,ऐ चांद
आज़ ज़रा देर से निकल,ऐ चांद
Keshav kishor Kumar
बच्चे
बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2331.पूर्णिका
2331.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अर्ज है
अर्ज है
Basant Bhagawan Roy
नर नारी
नर नारी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
💐अज्ञात के प्रति-128💐
💐अज्ञात के प्रति-128💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पता ना चला
पता ना चला
Dr. Kishan tandon kranti
अंतहीन प्रश्न
अंतहीन प्रश्न
Shyam Sundar Subramanian
भूला नहीं हूँ मैं अभी भी
भूला नहीं हूँ मैं अभी भी
gurudeenverma198
खाना खाया या नहीं ये सवाल नहीं पूछता,
खाना खाया या नहीं ये सवाल नहीं पूछता,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
किस्मत की लकीरें
किस्मत की लकीरें
Dr Parveen Thakur
दगा बाज़ आसूं
दगा बाज़ आसूं
Surya Barman
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।
Ravi Yadav
करवाचौथ
करवाचौथ
Mukesh Kumar Sonkar
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
आत्मविश्वास ही हमें शीर्ष पर है पहुंचाती... (काव्य)
आत्मविश्वास ही हमें शीर्ष पर है पहुंचाती... (काव्य)
AMRESH KUMAR VERMA
तारों से अभी ज्यादा बातें नहीं होती,
तारों से अभी ज्यादा बातें नहीं होती,
manjula chauhan
काम क्रोध मद लोभ के,
काम क्रोध मद लोभ के,
sushil sarna
हिन्दी दोहा- मीन-मेख
हिन्दी दोहा- मीन-मेख
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
संसार है मतलब का
संसार है मतलब का
अरशद रसूल बदायूंनी
आओ ऐसा एक भारत बनाएं
आओ ऐसा एक भारत बनाएं
नेताम आर सी
अगले बरस जल्दी आना
अगले बरस जल्दी आना
Kavita Chouhan
पिता
पिता
लक्ष्मी सिंह
"लाचार मैं या गुब्बारे वाला"
संजय कुमार संजू
तुम्हारा एक दिन..…........एक सोच
तुम्हारा एक दिन..…........एक सोच
Neeraj Agarwal
■ विडंबना-
■ विडंबना-
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...