Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2024 · 1 min read

हर गम छुपा लेते है।

उनको देखकर हम हर गम छुपा लेते हैं।
सामने उनके झूठा ही सही पर हम मुस्कुरा देते हैं।।1।।

गम का कोई भी साया ना पड़े उन पर।
वो हमेशा खुश रहे जिन्दगी में हम ये दुआ देते हैं।।2।।

हर्फ ना आए उसके किरदार पर कभी।
रेत पे लिख कर उसका नाम हर बार मिटा देते हैं।।3।।

जरूरी नहीं हरबात लबों से कही जाए।
कुछ इन्सान जुदा अंदाज से खुद को बता देते हैं।।4।।

कुछ लोग एहसासे कमतरी करा देते हैं।
अहसान कर के वह लोगों पर इसको जता देते हैं।।5।।

माफ करना जो यूं अश्क नज़रों में आए।
तुम खुश रहो चलो हम तुमको फिरसे हंसा देते है।।6।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

54 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Taj Mohammad
View all
You may also like:
वो केवल श्रृष्टि की कर्ता नहीं है।
वो केवल श्रृष्टि की कर्ता नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
काफी ढूंढ रही थी में खुशियों को,
काफी ढूंढ रही थी में खुशियों को,
Kanchan Alok Malu
जिज्ञासा
जिज्ञासा
Neeraj Agarwal
" फ़साने हमारे "
Aarti sirsat
कर्म-बीज
कर्म-बीज
Ramswaroop Dinkar
स्वभाव मधुर होना चाहिए, मीठी तो कोयल भी बोलती है।।
स्वभाव मधुर होना चाहिए, मीठी तो कोयल भी बोलती है।।
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
"जिन्दाबाद"
Dr. Kishan tandon kranti
ये साला टमाटर
ये साला टमाटर
*प्रणय प्रभात*
शुभम दुष्यंत राणा Shubham Dushyant Rana जिनका जीवन समर्पित है जनसेवा के लिए आखिर कौन है शुभम दुष्यंत राणा Shubham Dushyant Rana ?
शुभम दुष्यंत राणा Shubham Dushyant Rana जिनका जीवन समर्पित है जनसेवा के लिए आखिर कौन है शुभम दुष्यंत राणा Shubham Dushyant Rana ?
Bramhastra sahityapedia
जिन्दगी जीना बहुत ही आसान है...
जिन्दगी जीना बहुत ही आसान है...
Abhijeet
नया साल
नया साल
'अशांत' शेखर
मेहनत का फल (शिक्षाप्रद कहानी)
मेहनत का फल (शिक्षाप्रद कहानी)
AMRESH KUMAR VERMA
हे कलम
हे कलम
Kavita Chouhan
स्त्रियों में ईश्वर, स्त्रियों का ताड़न
स्त्रियों में ईश्वर, स्त्रियों का ताड़न
Dr MusafiR BaithA
पद्मावती पिक्चर के बहाने
पद्मावती पिक्चर के बहाने
Manju Singh
Love
Love
Kanchan Khanna
न किजिए कोशिश हममें, झांकने की बार-बार।
न किजिए कोशिश हममें, झांकने की बार-बार।
ओसमणी साहू 'ओश'
हम तो बस कहते रहे, अपने दिल की बात।
हम तो बस कहते रहे, अपने दिल की बात।
Suryakant Dwivedi
अभी तो रास्ता शुरू हुआ है।
अभी तो रास्ता शुरू हुआ है।
Ujjwal kumar
शब्द
शब्द
ओंकार मिश्र
छठ परब।
छठ परब।
Acharya Rama Nand Mandal
फूल खिलते जा रहे हैं हो गयी है भोर।
फूल खिलते जा रहे हैं हो गयी है भोर।
surenderpal vaidya
अखंड साँसें प्रतीक हैं, उद्देश्य अभी शेष है।
अखंड साँसें प्रतीक हैं, उद्देश्य अभी शेष है।
Manisha Manjari
2577.पूर्णिका
2577.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ज़ख़्म-ए-दिल आज मुस्कुरा देंगे
ज़ख़्म-ए-दिल आज मुस्कुरा देंगे
Monika Arora
भोलेनाथ
भोलेनाथ
Adha Deshwal
विरहणी के मुख से कुछ मुक्तक
विरहणी के मुख से कुछ मुक्तक
Ram Krishan Rastogi
*मिले हमें गुरुदेव खुशी का, स्वर्णिम दिन कहलाया 【हिंदी गजल/ग
*मिले हमें गुरुदेव खुशी का, स्वर्णिम दिन कहलाया 【हिंदी गजल/ग
Ravi Prakash
जब आपका ध्यान अपने लक्ष्य से हट जाता है,तब नहीं चाहते हुए भी
जब आपका ध्यान अपने लक्ष्य से हट जाता है,तब नहीं चाहते हुए भी
Paras Nath Jha
कविता: सजना है साजन के लिए
कविता: सजना है साजन के लिए
Rajesh Kumar Arjun
Loading...