Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

हर एकपल तेरी दया से माँ

हर एकपल तेरी दया से माँ, मेरी जीवन की सदा चलती है।
कोई तेरे सिवा ना दुनियाँ में, मेरी आशा तुम्हीं पे रहती है।।

तेरे दर तो हर खुशी मैया, मुझे वो हर खुशी तू दे मैया
तू ममतामई भवानी है, जग जननी, जग कल्याणी है
अपनी दृष्टी दया की मुझपे माँ, बस रखना ये मेरी विनती है।
हर एकपल तेरी दया से माँ, मेरी जीवन की सदा चलती है।।

मेरी झोली माँ देख खाली है, भरती झोली तू शेरावाली है
जाए ना लौट के कोई खाली, तेरे दर से ओ माँ ज्योतावाली
तूही दुनियाँ में एक सहारा माँ, नाव भव से तू पार करती है।
हर एकपल तेरी दया से माँ, मेरी जीवन की सदा चलती है।।

✍️ बसंत भगवान राय
(धुन: कितनी चाहत छुपा के बैठा हु)

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 79 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Basant Bhagawan Roy
View all
You may also like:
काश.......
काश.......
Faiza Tasleem
रहने भी दो यह हमसे मोहब्बत
रहने भी दो यह हमसे मोहब्बत
gurudeenverma198
वायरल होने का मतलब है सब जगह आप के ही चर्चे बिखरे पड़े हो।जो
वायरल होने का मतलब है सब जगह आप के ही चर्चे बिखरे पड़े हो।जो
Rj Anand Prajapati
दोस्तों के साथ धोखेबाजी करके
दोस्तों के साथ धोखेबाजी करके
ruby kumari
*भरत चले प्रभु राम मनाने (कुछ चौपाइयॉं)*
*भरत चले प्रभु राम मनाने (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
🌷🌷  *
🌷🌷 *"स्कंदमाता"*🌷🌷
Shashi kala vyas
कैसे भूलूँ
कैसे भूलूँ
Dipak Kumar "Girja"
🙅आज का ज्ञान🙅
🙅आज का ज्ञान🙅
*प्रणय प्रभात*
जिंदगी से कुछ यू निराश हो जाते हैं
जिंदगी से कुछ यू निराश हो जाते हैं
Ranjeet kumar patre
"वृद्धाश्रम"
Radhakishan R. Mundhra
चला आया घुमड़ सावन, नहीं आए मगर साजन।
चला आया घुमड़ सावन, नहीं आए मगर साजन।
डॉ.सीमा अग्रवाल
साथ हो एक मगर खूबसूरत तो
साथ हो एक मगर खूबसूरत तो
ओनिका सेतिया 'अनु '
प्यारी प्यारी सी
प्यारी प्यारी सी
SHAMA PARVEEN
डिग्रियां तो मात्र आपके शैक्षिक खर्चों की रसीद मात्र हैं ,
डिग्रियां तो मात्र आपके शैक्षिक खर्चों की रसीद मात्र हैं ,
Lokesh Sharma
ऋतु शरद
ऋतु शरद
Sandeep Pande
धूतानां धूतम अस्मि
धूतानां धूतम अस्मि
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तुम बस ज़रूरत ही नहीं,
तुम बस ज़रूरत ही नहीं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मेरी माँ
मेरी माँ
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
किताब में किसी खुशबू सा मुझे रख लेना
किताब में किसी खुशबू सा मुझे रख लेना
Shweta Soni
कोई पैग़ाम आएगा (नई ग़ज़ल) Vinit Singh Shayar
कोई पैग़ाम आएगा (नई ग़ज़ल) Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
सब्र का फल
सब्र का फल
Bodhisatva kastooriya
हम पचास के पार
हम पचास के पार
Sanjay Narayan
Dear Cupid,
Dear Cupid,
Vedha Singh
मुक्तक-विन्यास में रमेशराज की तेवरी
मुक्तक-विन्यास में रमेशराज की तेवरी
कवि रमेशराज
*हिंदी मेरे देश की जुबान है*
*हिंदी मेरे देश की जुबान है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
तुम्हारे हमारे एहसासात की है
तुम्हारे हमारे एहसासात की है
Dr fauzia Naseem shad
आप किससे प्यार करते हैं?
आप किससे प्यार करते हैं?
Otteri Selvakumar
तुम्हें तो फुर्सत मिलती ही नहीं है,
तुम्हें तो फुर्सत मिलती ही नहीं है,
Dr. Man Mohan Krishna
"दण्डकारण्य"
Dr. Kishan tandon kranti
मूक संवेदना...
मूक संवेदना...
Neelam Sharma
Loading...