Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2024 · 1 min read

हरे भरे खेत

खेत हरे भरे हरियाली चहुंओर।
देखो सुंदर है यहां का हर छोर ।।
खुशबू से महक रही है दिशाएं।
मन सुंदर सा गीत गुनगुनाएं।।
ऊपर है नीला नीला गगन।
नीचे है धरती मगन मगन।।
सोने जैसी है सरसों की फ़सल।
देख देख मन पाए खुशी हर पल।।
कुछ पल ठहरे पेड़ो की छांव में।
देखो शुद्ध हवा बहती है गांव में।।
—- जेपीएल

Language: Hindi
1 Like · 53 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from जगदीश लववंशी
View all
You may also like:
स्वांग कुली का
स्वांग कुली का
Er. Sanjay Shrivastava
समय संवाद को लिखकर कभी बदला नहीं करता
समय संवाद को लिखकर कभी बदला नहीं करता
Shweta Soni
शस्त्र संधान
शस्त्र संधान
Ravi Shukla
बदरा बरसे
बदरा बरसे
Dr. Kishan tandon kranti
अपना घर किसको कहें, उठते ढेर सवाल ( कुंडलिया )
अपना घर किसको कहें, उठते ढेर सवाल ( कुंडलिया )
Ravi Prakash
कोना मेरे नाम का
कोना मेरे नाम का
Dr.Priya Soni Khare
शक
शक
Paras Nath Jha
जिंदगी है कि जीने का सुरूर आया ही नहीं
जिंदगी है कि जीने का सुरूर आया ही नहीं
Deepak Baweja
ख़ामोश सा शहर
ख़ामोश सा शहर
हिमांशु Kulshrestha
अँधेरे में नहीं दिखता
अँधेरे में नहीं दिखता
Anil Mishra Prahari
Have faith in your doubt
Have faith in your doubt
AJAY AMITABH SUMAN
तुम्हें ना भूल पाऊँगी, मधुर अहसास रक्खूँगी।
तुम्हें ना भूल पाऊँगी, मधुर अहसास रक्खूँगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
इंसान को इंसान से दुर करनेवाला केवल दो चीज ही है पहला नाम मे
इंसान को इंसान से दुर करनेवाला केवल दो चीज ही है पहला नाम मे
Dr. Man Mohan Krishna
सत्य
सत्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
■ नेशनल ओलंपियाड
■ नेशनल ओलंपियाड
*Author प्रणय प्रभात*
इन आँखों को हो गई,
इन आँखों को हो गई,
sushil sarna
चले ससुराल पँहुचे हवालात
चले ससुराल पँहुचे हवालात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
!! बोलो कौन !!
!! बोलो कौन !!
Chunnu Lal Gupta
किसी की गलती देखकर तुम शोर ना करो
किसी की गलती देखकर तुम शोर ना करो
कवि दीपक बवेजा
Tumhari khahish khuch iss kadar thi ki sajish na samajh paya
Tumhari khahish khuch iss kadar thi ki sajish na samajh paya
Sakshi Tripathi
परित्यक्ता
परित्यक्ता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
बच्चे पैदा करना बड़ी बात नही है
बच्चे पैदा करना बड़ी बात नही है
Rituraj shivem verma
अरमां (घमण्ड)
अरमां (घमण्ड)
umesh mehra
..........लहजा........
..........लहजा........
Naushaba Suriya
और चलते रहे ये कदम यूँही दरबदर
और चलते रहे ये कदम यूँही दरबदर
'अशांत' शेखर
हमें भी जिंदगी में रंग भरने का जुनून था
हमें भी जिंदगी में रंग भरने का जुनून था
VINOD CHAUHAN
इशारों इशारों में ही, मेरा दिल चुरा लेते हो
इशारों इशारों में ही, मेरा दिल चुरा लेते हो
Ram Krishan Rastogi
जुगनू
जुगनू
Gurdeep Saggu
!! ईश्वर का धन्यवाद करो !!
!! ईश्वर का धन्यवाद करो !!
Akash Yadav
*किस्मत में यार नहीं होता*
*किस्मत में यार नहीं होता*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...