Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2024 · 1 min read

हरे काँच की चूड़ियाँ,

हरे काँच की चूड़ियाँ,
कहती हैं वो बात ।
बीती जिनके शोर में,
द्वन्द्व भरी वो रात ।।
सुशील सरना / 10-7-24

22 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बलात्कार
बलात्कार
rkchaudhary2012
लब्ज़ परखने वाले अक्सर,
लब्ज़ परखने वाले अक्सर,
ओसमणी साहू 'ओश'
rain down abundantly.
rain down abundantly.
Monika Arora
परिवर्तन
परिवर्तन
Paras Nath Jha
मौसम....
मौसम....
sushil yadav
दानवीरता की मिशाल : नगरमाता बिन्नीबाई सोनकर
दानवीरता की मिशाल : नगरमाता बिन्नीबाई सोनकर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
5) “पूनम का चाँद”
5) “पूनम का चाँद”
Sapna Arora
हाथों की लकीरों तक
हाथों की लकीरों तक
Dr fauzia Naseem shad
#संस्मरण
#संस्मरण
*प्रणय प्रभात*
बदनाम गली थी
बदनाम गली थी
Anil chobisa
सावन म वैशाख समा गे
सावन म वैशाख समा गे
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
दान गरीब भाई को कीजिए -कुंडलियां -विजय कुमार पाण्डेय
दान गरीब भाई को कीजिए -कुंडलियां -विजय कुमार पाण्डेय
Vijay kumar Pandey
"बहुत है"
Dr. Kishan tandon kranti
🥰🥰🥰
🥰🥰🥰
शेखर सिंह
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
भोजपुरी गाने वर्तमान में इस लिए ट्रेंड ज्यादा कर रहे है क्यो
भोजपुरी गाने वर्तमान में इस लिए ट्रेंड ज्यादा कर रहे है क्यो
Rj Anand Prajapati
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मृत्यु पर विजय
मृत्यु पर विजय
Mukesh Kumar Sonkar
हम सुख़न गाते रहेंगे...
हम सुख़न गाते रहेंगे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
पश्चिम का सूरज
पश्चिम का सूरज
डॉ० रोहित कौशिक
अगर प्यार तुम हमसे करोगे
अगर प्यार तुम हमसे करोगे
gurudeenverma198
दौर ऐसा हैं
दौर ऐसा हैं
SHAMA PARVEEN
वक्त (प्रेरणादायक कविता):- सलमान सूर्य
वक्त (प्रेरणादायक कविता):- सलमान सूर्य
Salman Surya
प्रेम बनो,तब राष्ट्र, हर्षमय सद् फुलवारी
प्रेम बनो,तब राष्ट्र, हर्षमय सद् फुलवारी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"दोस्ती का मतलब"
Radhakishan R. Mundhra
रात बसर की मैंने जिस जिस शहर में,
रात बसर की मैंने जिस जिस शहर में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
इंतिज़ार
इंतिज़ार
Shyam Sundar Subramanian
न जाने क्यों अक्सर चमकीले रैपर्स सी हुआ करती है ज़िन्दगी, मोइ
न जाने क्यों अक्सर चमकीले रैपर्स सी हुआ करती है ज़िन्दगी, मोइ
पूर्वार्थ
मन में क्यों भरा रहे घमंड
मन में क्यों भरा रहे घमंड
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
3337.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3337.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
Loading...