Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Oct 2016 · 1 min read

हरेक की यहां जोर आजमाइश है

पल पल इंसा की नई फरमाइश है
हरेक की यहां जोर आजमाइश है
**************************
खत्म किये जाते हैं जिंदगी जो यहां
उनकी भी यहां जीने की ख्वाइश है
**************************
कपिल कुमार
27/10/2016

Language: Hindi
341 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
राम राम
राम राम
Sunita Gupta
गये ज़माने की यादें
गये ज़माने की यादें
Shaily
गुलाब
गुलाब
Satyaveer vaishnav
अलाव
अलाव
गुप्तरत्न
"सत्य"
Dr. Kishan tandon kranti
भारत और मीडिया
भारत और मीडिया
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
😊संशोधित कविता😊
😊संशोधित कविता😊
*Author प्रणय प्रभात*
सिर्फ दरवाजे पे शुभ लाभ,
सिर्फ दरवाजे पे शुभ लाभ,
नेताम आर सी
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रीति क्या है मुझे तुम बताओ जरा
प्रीति क्या है मुझे तुम बताओ जरा
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
पहले आप
पहले आप
Shivkumar Bilagrami
चुल्लू भर पानी में
चुल्लू भर पानी में
Satish Srijan
मुझ को इतना बता दे,
मुझ को इतना बता दे,
Shutisha Rajput
*हास्य-व्यंग्य*
*हास्य-व्यंग्य*
Ravi Prakash
Love whole heartedly
Love whole heartedly
Dhriti Mishra
मेरे होंठों पर
मेरे होंठों पर
Surinder blackpen
Tum to kahte the sath nibhaoge , tufano me bhi
Tum to kahte the sath nibhaoge , tufano me bhi
Sakshi Tripathi
बेमतलब सा तू मेरा‌, और‌ मैं हर मतलब से सिर्फ तेरी
बेमतलब सा तू मेरा‌, और‌ मैं हर मतलब से सिर्फ तेरी
Minakshi
जो लोग ये कहते हैं कि सारे काम सरकार नहीं कर सकती, कुछ कार्य
जो लोग ये कहते हैं कि सारे काम सरकार नहीं कर सकती, कुछ कार्य
Dr. Man Mohan Krishna
2566.पूर्णिका
2566.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
आज सर ढूंढ रहा है फिर कोई कांधा
आज सर ढूंढ रहा है फिर कोई कांधा
Vijay Nayak
मैथिली
मैथिली
Acharya Rama Nand Mandal
प्रथम संवाद में अपने से श्रेष्ठ को कभी मित्र नहीं कहना , हो
प्रथम संवाद में अपने से श्रेष्ठ को कभी मित्र नहीं कहना , हो
DrLakshman Jha Parimal
जय जय हिन्दी
जय जय हिन्दी
gurudeenverma198
जैसे ये घर महकाया है वैसे वो आँगन महकाना
जैसे ये घर महकाया है वैसे वो आँगन महकाना
Dr Archana Gupta
तेरी दुनिया में
तेरी दुनिया में
Dr fauzia Naseem shad
ढलती उम्र का जिक्र करते हैं
ढलती उम्र का जिक्र करते हैं
Harminder Kaur
तुम - दीपक नीलपदम्
तुम - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बड़े लोग क्रेडिट देते है
बड़े लोग क्रेडिट देते है
Amit Pandey
दो शे'र ( अशआर)
दो शे'र ( अशआर)
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
Loading...