Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Aug 2023 · 1 min read

*”हरियाली तीज”*

“हरियाली तीज”
सोलह श्रृंगार कर सखियो के संग ,
शिव गौरा पूजन मन में लाये उमंग ,
हरियाली तीज में छाए सतरंगी रंग ,
बरसे बदिरया छाये सतरंगी रंग ,
मस्ती में झूमे कजरी गीत गाये सखियों के संग ,
हरी हरी चूड़ियाँ धानी चुनरिया ओढे पिया संग,
अमुआ के डाल पे झूला झूले छाई मस्ती उमंग।

चलो सखी हरियाली तीज मनाये ,
सोलह श्रृंगार शिव गौरा पूजन रिझाये ,
हरियाली तीज त्यौहार का उमंग ,
हरी चुनर ओढे के प्रियतम के संग ,
सावन महीना छाया मनभावन रंग ,
शिव गौरा पूजन करने चली सखियों के संग।

शशिकला व्यास शिल्पी ✍️

350 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हरदा अग्नि कांड
हरदा अग्नि कांड
GOVIND UIKEY
Global climatic change and it's impact on Human life
Global climatic change and it's impact on Human life
Shyam Sundar Subramanian
14--- 🌸अस्तित्व का संकट 🌸
14--- 🌸अस्तित्व का संकट 🌸
Mahima shukla
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नहीं आती कुछ भी समझ में तेरी कहानी जिंदगी
नहीं आती कुछ भी समझ में तेरी कहानी जिंदगी
gurudeenverma198
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ज्ञान -दीपक
ज्ञान -दीपक
Pt. Brajesh Kumar Nayak
2404.पूर्णिका
2404.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
शायर तो नहीं
शायर तो नहीं
Bodhisatva kastooriya
प्रेम गजब है
प्रेम गजब है
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
मनभावन
मनभावन
SHAMA PARVEEN
*सभी ने सत्य यह माना, सभी को एक दिन जाना ((हिंदी गजल/ गीतिका
*सभी ने सत्य यह माना, सभी को एक दिन जाना ((हिंदी गजल/ गीतिका
Ravi Prakash
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
Vansh Agarwal
“कब मानव कवि बन जाता हैं ”
“कब मानव कवि बन जाता हैं ”
Rituraj shivem verma
नज़्म
नज़्म
Shiva Awasthi
प्यार
प्यार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कोई यादों में रहा, कोई ख्यालों में रहा;
कोई यादों में रहा, कोई ख्यालों में रहा;
manjula chauhan
गीत
गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
आजादी की कहानी
आजादी की कहानी
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
डॉ. ध्रुव की दृष्टि में कविता का अमृतस्वरूप
डॉ. ध्रुव की दृष्टि में कविता का अमृतस्वरूप
कवि रमेशराज
है वक़्त बड़ा शातिर
है वक़्त बड़ा शातिर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
एक ख्वाब थे तुम,
एक ख्वाब थे तुम,
लक्ष्मी सिंह
ऐसा बदला है मुकद्दर ए कर्बला की ज़मी तेरा
ऐसा बदला है मुकद्दर ए कर्बला की ज़मी तेरा
shabina. Naaz
बहुत झुका हूँ मैं
बहुत झुका हूँ मैं
VINOD CHAUHAN
साहित्य चेतना मंच की मुहीम घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि
साहित्य चेतना मंच की मुहीम घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि
Dr. Narendra Valmiki
--: पत्थर  :--
--: पत्थर :--
Dhirendra Singh
तिमिर घनेरा बिछा चतुर्दिक्रं,चमात्र इंजोर नहीं है
तिमिर घनेरा बिछा चतुर्दिक्रं,चमात्र इंजोर नहीं है
पूर्वार्थ
🙅सीधी बात🙅
🙅सीधी बात🙅
*प्रणय प्रभात*
बड़ा मुंहफट सा है किरदार हमारा
बड़ा मुंहफट सा है किरदार हमारा
ruby kumari
Loading...