Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 May 2023 · 2 min read

हरिगीतिका छंद

हरिगीतिका छंद – यह एक मात्रिक छंद है।इसमें 28 मात्राएँ होती हैं।16 और 12 पर यति का प्रयोग होता है। इसकी 5 वीं ,12 वीं,19 वीं, और 26 वीं मात्रा अनिवार्यतः लघु होती है।इसके चरणांत में रगण (ऽ।ऽ) का प्रयोग कर्णप्रिय होता है।फारसी की बह्र – मुतफ़ायलुन, मुतफ़ायलुन, मुतफ़ायलुन, मुतफ़ायलुन या मुस्तफ़अलन, मुस्तफ़अलन,मुस्तफ़अलन, मुस्तफ़अलन- इस छंद से मिलती है।
बह्र- ऽऽ।ऽ, ऽऽ।ऽ, ऽऽ।ऽ, ऽऽ।ऽ
मुक्तक-
पगडंडियाँ वापस बुलातीं आज फिर से गाँव की।
आओ चले चिंता नहीं ,है बंधु कोई ठाँव की।
रहते सभी हैं साथ में , अपनत्व की गंगा बहे,
सब लोग कहते कष्ट को,जूती यहाँ पर पाँव की।।1

भूखा नहीं प्यासा नहीं कोई हमारे गाँव में।
दिल की अमीरी है भले जूती नहीं है पाँव में।
पक्के नहीं हैं घर डगर सदियों पुरानी चल रही,
लेते मज़ा सब ज़िंदगी का बैठ बरगद छाँव में।।2
डाॅ बिपिन पाण्डेय

गीतिका-

लिखता रहूँ नित काव्य नूतन प्यार दे माँ शारदे।
मम लेखनी को भाव का उपहार दे माँ शारदे।।1

भावुक नहीं संवेदना से संबंध भी अपना नहीं,
पर काव्य लेखन का मुझे व्यवहार दे माँ शारदे।।2

कंपित रहें सुन शब्द के हर नाद को पापी सदा,
वीणा सरिस ही कंठ को ,झंकार दे माँ शारदे।।3

ममता दया करुणा सने जिनके हृदय में भाव हैं,
उनको कृपा कर प्रीति का संसार दे माँ शारदे।।4

सब युग्म हों रसमय अलंकृत भाव से परिपूर्ण हों,
हर शब्द को सत्कृत्य सा विस्तार दे माँ शारदे।।5

आवाज़ दुखियों की बने निस्वार्थ होकर लेखनी,
प्रेरक सुकोमल ज्ञानमय उद्गार दे माँ शारदे।।6

हंसासना विद्या प्रदायिनि श्वेत पट तन धारिणी,
निर्वाण कामी दास को जग सार दो माँ शारदे।।7
डाॅ बिपिन पाण्डेय

Language: Hindi
1 Like · 271 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2347.पूर्णिका
2347.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मलाल आते हैं
मलाल आते हैं
Dr fauzia Naseem shad
वतन
वतन
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
चिंतन
चिंतन
ओंकार मिश्र
पकौड़े चाय ही बेचा करो अच्छा है जी।
पकौड़े चाय ही बेचा करो अच्छा है जी।
सत्य कुमार प्रेमी
जीवन और मृत्यु के मध्य, क्या उच्च ये सम्बन्ध है।
जीवन और मृत्यु के मध्य, क्या उच्च ये सम्बन्ध है।
Manisha Manjari
बुद्ध रूप ने मोह लिया संसार।
बुद्ध रूप ने मोह लिया संसार।
Buddha Prakash
दुर्बल कायर का ही तो बाली आधा वल हर पाता है।
दुर्बल कायर का ही तो बाली आधा वल हर पाता है।
umesh mehra
Yaade tumhari satane lagi h
Yaade tumhari satane lagi h
Kumar lalit
हलमुखी छंद
हलमुखी छंद
Neelam Sharma
पिछले 4 5 सालों से कुछ चीजें बिना बताए आ रही है
पिछले 4 5 सालों से कुछ चीजें बिना बताए आ रही है
Paras Mishra
मित्रतापूर्ण कीजिए,
मित्रतापूर्ण कीजिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सिर्फ व्यवहारिक तौर पर निभाये गए
सिर्फ व्यवहारिक तौर पर निभाये गए
Ragini Kumari
Who is whose best friend
Who is whose best friend
Ankita Patel
कभी लगते थे, तेरे आवाज़ बहुत अच्छे
कभी लगते थे, तेरे आवाज़ बहुत अच्छे
Anand Kumar
*जब से मुकदमे में फॅंसा, कचहरी आने लगा (हिंदी गजल)*
*जब से मुकदमे में फॅंसा, कचहरी आने लगा (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
मुस्कराते हुए गुजरी वो शामे।
मुस्कराते हुए गुजरी वो शामे।
कुमार
✍🏻 ■ रसमय दोहे...
✍🏻 ■ रसमय दोहे...
*Author प्रणय प्रभात*
जमाना नहीं शराफ़त का (सामायिक कविता)
जमाना नहीं शराफ़त का (सामायिक कविता)
Dr. Kishan Karigar
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
* सुन्दर फूल *
* सुन्दर फूल *
surenderpal vaidya
कश्मकश
कश्मकश
swati katiyar
"आशा-तृष्णा"
Dr. Kishan tandon kranti
“ GIVE HONOUR TO THEIR FANS AND FOLLOWERS”
“ GIVE HONOUR TO THEIR FANS AND FOLLOWERS”
DrLakshman Jha Parimal
संसार में कोई किसी का नही, सब अपने ही स्वार्थ के अंधे हैं ।
संसार में कोई किसी का नही, सब अपने ही स्वार्थ के अंधे हैं ।
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
नेता पलटू राम
नेता पलटू राम
Jatashankar Prajapati
शौक में नहीं उड़ता है वो, उड़ना उसकी फक्र पहचान है,
शौक में नहीं उड़ता है वो, उड़ना उसकी फक्र पहचान है,
manjula chauhan
जिंदगी में हर पल खुशियों की सौगात रहे।
जिंदगी में हर पल खुशियों की सौगात रहे।
Phool gufran
राखी है अनमोल बहना की ?
राखी है अनमोल बहना की ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*****खुद का परिचय *****
*****खुद का परिचय *****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...