Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 May 2023 · 1 min read

हरा-भरा बगीचा

यह जो हरा-भरा
बगीचा है
पूरखों ने लहू से
सींचा है
कोई पौधा उखड़ने
मत देना
तुम इसको उजड़ने
मत देना…
(१)
रंग-रंग की
चिड़ियां इसमें
चहकती रहें तो
बेहतर है
वे पेड़-पेड़
डाली-डाली
फुदकती रहें तो
बेहतर है
कोई पंख कुतरने
मत देना
तुम इसको उजड़ने
मत देना…
(२)
आस-पास के
जंगल से
कोई वहशी
न आ पाए
हमारे मासूम
हिरनों पर
अपनी वहशत
न दिखा पाए
कोई फूल
कुचलने मत देना
तुम इसको
उजड़ने मत देना…
(३)
ख़ुशबू हवा में
घुलने दो
रोशनी फ़िज़ा में
फैलने दो
अब भौंरों को
तुम कलियों से
बिना झिझक के
मिलने दो
दो दिलों को
बिछड़ने मत देना
तुम इसको
उजड़ने मत देना…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#भारत #एकता #प्रेम #खुशहाली
#शांति #विकास #सुरक्षा #स्वच्छता
#नौजवान #सेना #हरियाली #समानता

Language: Hindi
Tag: गीत
475 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चौकड़िया छंद / ईसुरी छंद , विधान उदाहरण सहित , व छंद से सृजित विधाएं
चौकड़िया छंद / ईसुरी छंद , विधान उदाहरण सहित , व छंद से सृजित विधाएं
Subhash Singhai
नौकरी (१)
नौकरी (१)
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
जिदंगी हर कदम एक नयी जंग है,
जिदंगी हर कदम एक नयी जंग है,
Sunil Maheshwari
#शेर
#शेर
*प्रणय प्रभात*
नीचे तबके का मनुष्य , जागरूक , शिक्षित एवं सबसे महत्वपूर्ण ब
नीचे तबके का मनुष्य , जागरूक , शिक्षित एवं सबसे महत्वपूर्ण ब
Raju Gajbhiye
बिन फले तो
बिन फले तो
surenderpal vaidya
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रफ्ता रफ्ता हमने जीने की तलब हासिल की
रफ्ता रफ्ता हमने जीने की तलब हासिल की
कवि दीपक बवेजा
जब स्वार्थ अदब का कंबल ओढ़ कर आता है तो उसमें प्रेम की गरमाह
जब स्वार्थ अदब का कंबल ओढ़ कर आता है तो उसमें प्रेम की गरमाह
Lokesh Singh
हमको
हमको
Divya Mishra
12. घर का दरवाज़ा
12. घर का दरवाज़ा
Rajeev Dutta
Colours of Life!
Colours of Life!
R. H. SRIDEVI
मरने से पहले / मुसाफ़िर बैठा
मरने से पहले / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
छल ......
छल ......
sushil sarna
मेरी दुनियाँ.....
मेरी दुनियाँ.....
Naushaba Suriya
लोग खुश होते हैं तब
लोग खुश होते हैं तब
gurudeenverma198
गाछ सभक लेल
गाछ सभक लेल
DrLakshman Jha Parimal
वक़्त की एक हद
वक़्त की एक हद
Dr fauzia Naseem shad
युवा भारत को जानो
युवा भारत को जानो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
I.N.D.I.A
I.N.D.I.A
Sanjay ' शून्य'
कुछ इनायतें ख़ुदा की, कुछ उनकी दुआएं हैं,
कुछ इनायतें ख़ुदा की, कुछ उनकी दुआएं हैं,
Nidhi Kumar
"दुम"
Dr. Kishan tandon kranti
स्वप्न लोक के खिलौने - दीपक नीलपदम्
स्वप्न लोक के खिलौने - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
गुलाम
गुलाम
Punam Pande
सरस्वती माँ ज्ञान का, सबको देना दान ।
सरस्वती माँ ज्ञान का, सबको देना दान ।
जगदीश शर्मा सहज
गम हमें होगा बहुत
गम हमें होगा बहुत
VINOD CHAUHAN
दोस्ती
दोस्ती
Monika Verma
इश्क
इश्क
SUNIL kumar
जल जंगल जमीन
जल जंगल जमीन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*जानो आँखों से जरा ,किसका मुखड़ा कौन (कुंडलिया)*
*जानो आँखों से जरा ,किसका मुखड़ा कौन (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...