Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 May 2023 · 1 min read

हरा न पाये दौड़कर,

हरा न पाये दौड़कर,
जो जीवन की रेस
वही करेंगे आप पर,
झूठे-मूठे केस
–महावीर उत्तरांचली

294 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
"तुम्हारे शिकवों का अंत चाहता हूँ
दुष्यन्त 'बाबा'
" भूलने में उसे तो ज़माने लगे "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
💐प्रेम कौतुक-208💐
💐प्रेम कौतुक-208💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सफलता
सफलता
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
रात का आलम था और ख़ामोशियों की गूंज थी
रात का आलम था और ख़ामोशियों की गूंज थी
N.ksahu0007@writer
भीख
भीख
Mukesh Kumar Sonkar
इल्ज़ाम ना दे रहे हैं।
इल्ज़ाम ना दे रहे हैं।
Taj Mohammad
गेंदबाज़ी को
गेंदबाज़ी को
*Author प्रणय प्रभात*
*प्रेम भेजा  फ्राई है*
*प्रेम भेजा फ्राई है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बाल कविता: मोर
बाल कविता: मोर
Rajesh Kumar Arjun
All you want is to see me grow
All you want is to see me grow
Ankita Patel
उमंग
उमंग
Akash Yadav
खंड 8
खंड 8
Rambali Mishra
3049.*पूर्णिका*
3049.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इसकी औक़ात
इसकी औक़ात
Dr fauzia Naseem shad
*खिलती उसकी जिंदगी , पाई जिसने हार (कुंडलिया)*
*खिलती उसकी जिंदगी , पाई जिसने हार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अनजान रिश्ते...
अनजान रिश्ते...
Harminder Kaur
पत्रकारों को पत्रकार के ही भाषा में जवाब दिया जा सकता है । प
पत्रकारों को पत्रकार के ही भाषा में जवाब दिया जा सकता है । प
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
दोगला चेहरा
दोगला चेहरा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बिल्ली
बिल्ली
SHAMA PARVEEN
नीम
नीम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वक्त अब कलुआ के घर का ठौर है
वक्त अब कलुआ के घर का ठौर है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
समझ मत मील भर का ही, सृजन संसार मेरा है ।
समझ मत मील भर का ही, सृजन संसार मेरा है ।
Ashok deep
♥️♥️ Dr. Arun Kumar shastri
♥️♥️ Dr. Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दीपावली
दीपावली
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
किसी को अपने संघर्ष की दास्तान नहीं
किसी को अपने संघर्ष की दास्तान नहीं
Jay Dewangan
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
एक ही राम
एक ही राम
Satish Srijan
ये अमलतास खुद में कुछ ख़ास!
ये अमलतास खुद में कुछ ख़ास!
Neelam Sharma
बड़े लोग क्रेडिट देते है
बड़े लोग क्रेडिट देते है
Amit Pandey
Loading...