Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jan 2017 · 1 min read

हरा केसरिया फिर मिलकर, तिरंगा संग लहरायें

गिरा दीवार नफरत की, चलो फिर एक हो जायें
हरा केसरिया फिर मिलकर, तिरंगा संग लहरायें
दिखा दे देश दुनिया को वतन की शान की खातिर
मिटा दें दहशतें सारी अमन औ शांति फैलाये

लोधी डॉ. आशा ‘अदिति’
भोपाल

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 370 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सुंदरता की देवी 🙏
सुंदरता की देवी 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
भूतल अम्बर अम्बु में, सदा आपका वास।🙏
भूतल अम्बर अम्बु में, सदा आपका वास।🙏
संजीव शुक्ल 'सचिन'
💐प्रेम कौतुक-555💐
💐प्रेम कौतुक-555💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
प्रिय
प्रिय
The_dk_poetry
21 उम्र ढ़ल गई
21 उम्र ढ़ल गई
Dr Shweta sood
बापू गाँधी
बापू गाँधी
Kavita Chouhan
वो इश्क़ कहलाता है !
वो इश्क़ कहलाता है !
Akash Yadav
World Environment Day
World Environment Day
Tushar Jagawat
मिथ्या इस  संसार में,  अर्थहीन  सम्बंध।
मिथ्या इस संसार में, अर्थहीन सम्बंध।
sushil sarna
** फितरत **
** फितरत **
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
*
*"गौतम बुद्ध"*
Shashi kala vyas
मानवता का मुखड़ा
मानवता का मुखड़ा
Seema Garg
"" *नारी* ""
सुनीलानंद महंत
हादसों का बस
हादसों का बस
Dr fauzia Naseem shad
18. कन्नौज
18. कन्नौज
Rajeev Dutta
"गुमनाम जिन्दगी ”
Pushpraj Anant
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
विराम चिह्न
विराम चिह्न
Neelam Sharma
पुश्तैनी दौलत
पुश्तैनी दौलत
Satish Srijan
यह तो होता है दौर जिंदगी का
यह तो होता है दौर जिंदगी का
gurudeenverma198
मैं रात भर मैं बीमार थीऔर वो रातभर जागती रही
मैं रात भर मैं बीमार थीऔर वो रातभर जागती रही
Dr Manju Saini
20-चेहरा हर सच बता नहीं देता
20-चेहरा हर सच बता नहीं देता
Ajay Kumar Vimal
2876.*पूर्णिका*
2876.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इंद्रधनुष सी जिंदगी
इंद्रधनुष सी जिंदगी
Dr Parveen Thakur
लोगों के रिश्तों में अक्सर
लोगों के रिश्तों में अक्सर "मतलब" का वजन बहुत ज्यादा होता है
Jogendar singh
अनारकली भी मिले और तख़्त भी,
अनारकली भी मिले और तख़्त भी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कोई काम हो तो बताना,पर जरूरत पर बहाना
कोई काम हो तो बताना,पर जरूरत पर बहाना
पूर्वार्थ
हुआ है इश्क जब से मैं दिवानी हो गई हूँ
हुआ है इश्क जब से मैं दिवानी हो गई हूँ
Dr Archana Gupta
Loading...