Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jun 2016 · 1 min read

हरदम खेल दिखाये

नए ज़िन्दगी देखो हमको हरदम खेल दिखाये
अगर हँसाती हमें कभी तो ये ही हमें रुलाये
एक मदारी है ईश्वर औ हम सब यहाँ जमूरे
डोर उसी के हाथों में वो जैसा हमें नचाये
डॉ अर्चना गुप्ता

Language: Hindi
323 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
"आय और उम्र"
Dr. Kishan tandon kranti
* जन्मभूमि का धाम *
* जन्मभूमि का धाम *
surenderpal vaidya
उसे खो देने का डर रोज डराता था,
उसे खो देने का डर रोज डराता था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सबके सामने रहती है,
सबके सामने रहती है,
लक्ष्मी सिंह
कोई किसी से सुंदरता में नहीं कभी कम होता है
कोई किसी से सुंदरता में नहीं कभी कम होता है
Shweta Soni
इन आँखों को भी अब हकीम की जरूरत है..
इन आँखों को भी अब हकीम की जरूरत है..
Tarun Garg
प्रेम
प्रेम
Satish Srijan
लोकशैली में तेवरी
लोकशैली में तेवरी
कवि रमेशराज
यारी
यारी
Dr. Mahesh Kumawat
हर गम छुपा लेते है।
हर गम छुपा लेते है।
Taj Mohammad
ख़ुद को हमने निकाल रखा है
ख़ुद को हमने निकाल रखा है
Mahendra Narayan
हिदायत
हिदायत
Bodhisatva kastooriya
हसीनाओं से कभी भूलकर भी दिल मत लगाना
हसीनाओं से कभी भूलकर भी दिल मत लगाना
gurudeenverma198
जीवन का मुस्कान
जीवन का मुस्कान
Awadhesh Kumar Singh
*शुभ स्वतंत्रता दिवस हमारा (बाल कविता)*
*शुभ स्वतंत्रता दिवस हमारा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मुक्तक - यूं ही कोई किसी को बुलाता है क्या।
मुक्तक - यूं ही कोई किसी को बुलाता है क्या।
सत्य कुमार प्रेमी
तूझे क़ैद कर रखूं ऐसा मेरी चाहत नहीं है
तूझे क़ैद कर रखूं ऐसा मेरी चाहत नहीं है
Keshav kishor Kumar
मां बाप
मां बाप
Mukesh Kumar Sonkar
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
मिट्टी के परिधान सब,
मिट्टी के परिधान सब,
sushil sarna
चुलबुली मौसम
चुलबुली मौसम
अनिल "आदर्श"
वो हमको देखकर मुस्कुराने में व्यस्त थे,
वो हमको देखकर मुस्कुराने में व्यस्त थे,
Smriti Singh
अपना-अपना भाग्य
अपना-अपना भाग्य
Indu Singh
शब्द अभिव्यंजना
शब्द अभिव्यंजना
Neelam Sharma
माँ
माँ
Kavita Chouhan
सिर्फ तुम
सिर्फ तुम
Arti Bhadauria
किताबें
किताबें
Dr. Pradeep Kumar Sharma
काल का स्वरूप🙏
काल का स्वरूप🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
3219.*पूर्णिका*
3219.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*शादी के पहले, शादी के बाद*
*शादी के पहले, शादी के बाद*
Dushyant Kumar
Loading...