Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jun 6, 2016 · 1 min read

हरदम खेल दिखाये

नए ज़िन्दगी देखो हमको हरदम खेल दिखाये
अगर हँसाती हमें कभी तो ये ही हमें रुलाये
एक मदारी है ईश्वर औ हम सब यहाँ जमूरे
डोर उसी के हाथों में वो जैसा हमें नचाये
डॉ अर्चना गुप्ता

187 Views
You may also like:
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
तुम हमें तन्हा कर गए
Anamika Singh
A wise man 'The Ambedkar'
Buddha Prakash
जीवन संगनी की विदाई
Ram Krishan Rastogi
आज तन्हा है हर कोई
Anamika Singh
संघर्ष
Arjun Chauhan
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
सिर्फ तुम
Seema 'Tu haina'
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बहुमत
मनोज कर्ण
पढ़वा लो या लिखवा लो (शिक्षक की पीड़ा का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
छीन लेता है साथ अपनो का
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Mamta Rani
इसलिए याद भी नहीं करते
Dr fauzia Naseem shad
आपको याद भी तो करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अबके सावन लौट आओ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
क्या लगा आपको आप छोड़कर जाओगे,
Vaishnavi Gupta
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Shiva Gouri tiwari
नदी बन जा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...