Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2024 · 1 min read

हम भी देखेंगे ज़माने में सितम कितना है ।

हम भी देखेंगे ज़माने में सितम कितना है ।
देखो ज़ालिमो ने इसमें दिया ज़ख़्म कितना है।
कब तलक चुप है मेरी भी जुबान भी लोगों ।
जिस दिन बोलेगी तो देखना के ग़म कितना है
Phool gufran

98 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आत्मसंवाद
आत्मसंवाद
Shyam Sundar Subramanian
The bestest education one can deliver is  humanity and achie
The bestest education one can deliver is humanity and achie
Nupur Pathak
कृपया मेरी सहायता करो...
कृपया मेरी सहायता करो...
Srishty Bansal
वो भी तो ऐसे ही है
वो भी तो ऐसे ही है
gurudeenverma198
***
*** " पापा जी उन्हें भी कुछ समझाओ न...! " ***
VEDANTA PATEL
"You can still be the person you want to be, my love. Mistak
पूर्वार्थ
अंधविश्वास का पोषण
अंधविश्वास का पोषण
Mahender Singh
लिये मनुज अवतार प्रकट हुये हरि जेलों में।
लिये मनुज अवतार प्रकट हुये हरि जेलों में।
कार्तिक नितिन शर्मा
‘निराला’ का व्यवस्था से विद्रोह
‘निराला’ का व्यवस्था से विद्रोह
कवि रमेशराज
अस्तित्व है उसका
अस्तित्व है उसका
Dr fauzia Naseem shad
💐प्रेम कौतुक-172💐
💐प्रेम कौतुक-172💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भीनी भीनी आ रही सुवास है।
भीनी भीनी आ रही सुवास है।
Omee Bhargava
माता पिता नर नहीं नारायण हैं ? ❤️🙏🙏
माता पिता नर नहीं नारायण हैं ? ❤️🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दुनियादारी....
दुनियादारी....
Abhijeet
■ आज की बात
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
राम राम सिया राम
राम राम सिया राम
नेताम आर सी
फागुनी धूप, बसंती झोंके
फागुनी धूप, बसंती झोंके
Shweta Soni
गुरु पूर्णिमा
गुरु पूर्णिमा
Radhakishan R. Mundhra
अपनी बुरी आदतों पर विजय पाने की खुशी किसी युद्ध में विजय पान
अपनी बुरी आदतों पर विजय पाने की खुशी किसी युद्ध में विजय पान
Paras Nath Jha
*य से यज्ञ (बाल कविता)*
*य से यज्ञ (बाल कविता)*
Ravi Prakash
दोहा- मीन-मेख
दोहा- मीन-मेख
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"बहुत दिनों से"
Dr. Kishan tandon kranti
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।
Ravi Yadav
पाती
पाती
डॉक्टर रागिनी
जीवन की धूल ..
जीवन की धूल ..
Shubham Pandey (S P)
मिलने के समय अक्सर ये दुविधा होती है
मिलने के समय अक्सर ये दुविधा होती है
Keshav kishor Kumar
मसला ये हैं कि ज़िंदगी उलझनों से घिरी हैं।
मसला ये हैं कि ज़िंदगी उलझनों से घिरी हैं।
ओसमणी साहू 'ओश'
बुलेटप्रूफ गाड़ी
बुलेटप्रूफ गाड़ी
Shivkumar Bilagrami
एक ज़िद थी
एक ज़िद थी
हिमांशु Kulshrestha
मुहब्बत कुछ इस कदर, हमसे बातें करती है…
मुहब्बत कुछ इस कदर, हमसे बातें करती है…
Anand Kumar
Loading...