Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jun 2022 · 1 min read

हम ना सोते हैं।

याद आयी तो रो देंगे इसीलिए तन्हा ना रहते है।
ख्वाबो में आ जायेगा तू रातों में हम ना सोते है।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

Language: Hindi
Tag: शेर
3 Likes · 4 Comments · 185 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
किसी की तारीफ़ करनी है तो..
किसी की तारीफ़ करनी है तो..
Brijpal Singh
"BETTER COMPANY"
DrLakshman Jha Parimal
गुब्बारे की तरह नहीं, फूल की तरह फूलना।
गुब्बारे की तरह नहीं, फूल की तरह फूलना।
निशांत 'शीलराज'
पुरुष का दर्द
पुरुष का दर्द
पूर्वार्थ
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
*निंदिया कुछ ऐसी तू घुट्टी पिला जा*-लोरी
*निंदिया कुछ ऐसी तू घुट्टी पिला जा*-लोरी
Poonam Matia
🙏गजानन चले आओ🙏
🙏गजानन चले आओ🙏
SPK Sachin Lodhi
मानव हमारी आगोश में ही पलते हैं,
मानव हमारी आगोश में ही पलते हैं,
Ashok Sharma
गुमूस्सेर्वी
गुमूस्सेर्वी "Gümüşservi "- One of the most beautiful words of the world.
कुमार
व्यावहारिक सत्य
व्यावहारिक सत्य
Shyam Sundar Subramanian
धरा प्रकृति माता का रूप
धरा प्रकृति माता का रूप
Buddha Prakash
*पापड़ कौन बनाता घर में (हिंदी गजल/गीतिका)*
*पापड़ कौन बनाता घर में (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
पांव में मेंहदी लगी है
पांव में मेंहदी लगी है
Surinder blackpen
*बेचारे नेता*
*बेचारे नेता*
दुष्यन्त 'बाबा'
ह्रदय जब स्वच्छता से ओतप्रोत होगा।
ह्रदय जब स्वच्छता से ओतप्रोत होगा।
Sahil Ahmad
जो कुछ भी है आज है,
जो कुछ भी है आज है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Jindagi ko dhabba banaa dalti hai
Jindagi ko dhabba banaa dalti hai
Dr.sima
■ टिप्पणी / शब्द संकेत
■ टिप्पणी / शब्द संकेत
*Author प्रणय प्रभात*
ऐ! दर्द
ऐ! दर्द
Satish Srijan
जो हैं आज अपनें..
जो हैं आज अपनें..
Srishty Bansal
ईश्वर से शिकायत क्यों...
ईश्वर से शिकायत क्यों...
Radhakishan R. Mundhra
लालच
लालच
Vandna thakur
आवारगी
आवारगी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Finding alternative  is not as difficult as becoming alterna
Finding alternative is not as difficult as becoming alterna
Sakshi Tripathi
परख: जिस चेहरे पर मुस्कान है, सच्चा वही इंसान है!
परख: जिस चेहरे पर मुस्कान है, सच्चा वही इंसान है!
Rohit Gupta
***
*** " हमारी इसरो शक्ति...! " ***
VEDANTA PATEL
आप मे आपका नहीं कुछ भी
आप मे आपका नहीं कुछ भी
Dr fauzia Naseem shad
ना तुमसे बिछड़ने का गम है......
ना तुमसे बिछड़ने का गम है......
Ashish shukla
तेरे नाम यह पैगा़म है सगी़र की ग़ज़ल।
तेरे नाम यह पैगा़म है सगी़र की ग़ज़ल।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बदल देते हैं ये माहौल, पाकर चंद नोटों को,
बदल देते हैं ये माहौल, पाकर चंद नोटों को,
Jatashankar Prajapati
Loading...