Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jun 2022 · 1 min read

हम ना सोते हैं।

याद आयी तो रो देंगे इसीलिए तन्हा ना रहते है।
ख्वाबो में आ जायेगा तू रातों में हम ना सोते है।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

3 Likes · 4 Comments · 94 Views
You may also like:
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
गाँव की साँझ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
जीवन की प्रक्रिया में
Dr fauzia Naseem shad
यह सिर्फ़ वर्दी नहीं, मेरी वो दौलत है जो मैंने...
Lohit Tamta
ठोकरों ने समझाया
Anamika Singh
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मजबूर ! मजदूर
शेख़ जाफ़र खान
किसी का होके रह जाना
Dr fauzia Naseem shad
हवा का हुक़्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रूठ गई हैं बरखा रानी
Dr Archana Gupta
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
मेरे पापा
Anamika Singh
इंतज़ार थमा
Dr fauzia Naseem shad
इज़हार-ए-इश्क 2
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
तुम ना आए....
डॉ.सीमा अग्रवाल
✍️प्यारी बिटिया ✍️
Vaishnavi Gupta
ज़िंदगी हमको
Dr fauzia Naseem shad
तेरी ज़रूरत बन जाऊं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
बेरूखी
Anamika Singh
गीत
शेख़ जाफ़र खान
✍️रास्ता मंज़िल का✍️
Vaishnavi Gupta
नए-नए हैं गाँधी / (श्रद्धांजलि नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...