Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

*** हम दो राही….!!! ***

“” कुछ साल पहले की ये सफ़र…
न था पहले से, कुछ खबर…!
न मुझे पता, न तुम्हें पता भी कुछ पता..
है ये कैसा डगर..!
लेकिन…! चल पड़े, हम दोनो…
बन के एक हमसफ़र…!
इस सफ़र में…
कुछ ठहराव होगा, ठहरेंगे…!
कुछ बिखराव होंगे, न बिखरेंगे…!
लेकिन हम न रूकेंगे…!!
क्या है उम्र इस रिश्ते की…?
हमें कुछ खबर नहीं…!
क्या है सच्चाई इस रिश्ते की…?
मुझे या तुम्हें कुछ पता नहीं…!
क्या है असर…
मौजूदा स्थिति में, इस रिश्ते की..?
हमें कुछ ग़म नहीं…!
पर… साथ चलते हैं…
एक जुनून लेकर…!
साथ चलते हैं…!
नेक-अनेक अरमान लेकर…!
चलते रहेंगे, इस सफ़र में…
समझौते की गाड़ी में सवार होकर…!
आज…
ये जो तुम्हारे-मेरे जवानी की तस्वीर है…
कल…
उसमें भी बुढ़ापे की अनेक लकीरें होंगी…!
न होगा कोई साथ…
अंततः हम दोनो ही आस-पास होंगे,
जो थामेगा इन झुर्रियों वाले हाथ…!
अकेलेपन की आहट होगी…
तिरस्कारों की सनसनाहट होगी…!
और न कोई अपना साथ साथ होगा..
लेकिन…!
तुम्हें थामने, मेरे झुर्रियों वाले हाथ होगा…!
थरथराते, मेरे हाथों में…
तेरी झुमके, तेरे पहनावे-लिबास होंगे…!
न इसमें सौदे की कोई बात होगी…
न अनुबंध वाली कोई जज़्बात होगी…!
अनवरत चलेंगे…
एक राही बनकर…!
एक अच्छे हमसफ़र बनकर….!! “”

***********∆∆∆**********

Language: Hindi
71 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
क्या कहेंगे लोग
क्या कहेंगे लोग
Surinder blackpen
सूरज - चंदा
सूरज - चंदा
Prakash Chandra
"गुजारिश"
Dr. Kishan tandon kranti
दर्द तन्हाई मुहब्बत जो भी हो भरपूर होना चाहिए।
दर्द तन्हाई मुहब्बत जो भी हो भरपूर होना चाहिए।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
बस तुम हो और परछाई तुम्हारी, फिर भी जीना पड़ता है
बस तुम हो और परछाई तुम्हारी, फिर भी जीना पड़ता है
पूर्वार्थ
होली की पौराणिक कथाएँ।।।
होली की पौराणिक कथाएँ।।।
Jyoti Khari
हमने माना कि हालात ठीक नहीं हैं
हमने माना कि हालात ठीक नहीं हैं
SHAMA PARVEEN
जल रहें हैं, जल पड़ेंगे और जल - जल   के जलेंगे
जल रहें हैं, जल पड़ेंगे और जल - जल के जलेंगे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
है कश्मकश - इधर भी - उधर भी
है कश्मकश - इधर भी - उधर भी
Atul "Krishn"
23/61.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/61.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्रदर्शन
प्रदर्शन
Sanjay ' शून्य'
कोरे पन्ने
कोरे पन्ने
Dr. Seema Varma
हरा नहीं रहता
हरा नहीं रहता
Dr fauzia Naseem shad
इन वादियों में फिज़ा फिर लौटकर आएगी,
इन वादियों में फिज़ा फिर लौटकर आएगी,
करन ''केसरा''
*चले राम को वन से लाने, भरत चरण-अनुरागी (गीत)*
*चले राम को वन से लाने, भरत चरण-अनुरागी (गीत)*
Ravi Prakash
💐प्रेम कौतुक-375💐
💐प्रेम कौतुक-375💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
किसको-किसको क़ैद करोगे?
किसको-किसको क़ैद करोगे?
Shekhar Chandra Mitra
आप चाहे जितने भी बड़े पद पर क्यों न बैठे हों, अगर पद के अनुर
आप चाहे जितने भी बड़े पद पर क्यों न बैठे हों, अगर पद के अनुर
Anand Kumar
हिजरत - चार मिसरे
हिजरत - चार मिसरे
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
Har subha uthti hai ummid ki kiran
Har subha uthti hai ummid ki kiran
कवि दीपक बवेजा
वीरगति सैनिक
वीरगति सैनिक
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
11, मेरा वजूद
11, मेरा वजूद
Dr Shweta sood
समस्या का समाधान
समस्या का समाधान
Paras Nath Jha
“तब्दीलियां” ग़ज़ल
“तब्दीलियां” ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
सच अति महत्वपूर्ण यह,
सच अति महत्वपूर्ण यह,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
स्वार्थ
स्वार्थ
Sushil chauhan
हिन्दी की दशा
हिन्दी की दशा
श्याम लाल धानिया
कल हमारे साथ जो थे
कल हमारे साथ जो थे
ruby kumari
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
चाबी घर की हो या दिल की
चाबी घर की हो या दिल की
शेखर सिंह
Loading...