Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jul 2016 · 2 min read

***हम तो कबूतर शांति पथ के***

***हम तो कबूतर शांति पथ के***

[मुहावरों का प्रयोग]

****************************************

हम तो कबूतर शांति पथ के ,क्यूँ उल्लू हमको घूर रहे।

मानवता है धर्म हमारा , वो मानवता से दूर रहे।।

हर बार दिया मौका हमने ,बस उसकी टेढ़ी पूंछ रही !

बातों से दुष्ट नहीं माना ,तो रण में लातें खूब दई !!

गिड़गिड़ाया पड़ा कदमों में ,सारे ही नखरे चूर रहे !

हम तो कबूतर शांति पथ के ,क्यूँ उल्लू हमको घूर रहे !! [१]

हमदर्दी की गोली से वो ,अक्सर बदहज़मी पाता है !

अस्त्र-शस्त्र की होड़ करे तो , बस मुँह की ही वो खाता है !!

पिट-पिट कर भी फुंकार भरे ,वह लज्जित भी भरपूर रहे !

हम तो कबूतर शांति पथ के ,क्यूँ उल्लू हमको घूर रहे !![२]

दुर्गन्ध विकारों की मन में , नीयत खोटी, चोटी पर है !

मक्कारी का कुनबा जोड़ा ,धरी नींव गद्दारी पर है !!

आतंकी रक्त शिराओं में , विश्व-जन के लिये क्रूर रहे !

हम तो कबूतर शांति पथ के ,क्यूँ उल्लू हमको घूर रहे !! [३]

हर-बार उमड़ कर आता वो,पर तड़फ-तड़फ मर जाता ! है

भारत के शेरों का गर्जन, बस नानी याद दिलाता है !!

खण्ड-खण्ड कर दो तन उनका ,जो मद में अक्सर चूर रहे !

हम तो कबूतर शांति पथ के ,क्यूँ उल्लू हमको घूर रहे !![४]

नापाक इरादे हैं उसके ,वो प्राणी हित में है खतरा !

मिट्टी में उसको दफना दो ,कर दो निष्क्रिय कतरा-कतरा !!

कुचल धरो फन उसका ऐसा ,फिर न वो कभी मगरूर रहे !

हम तो कबूतर शांति पथ के ,क्यूँ उल्लू हमको घूर रहे !![५]

हम तो पुजारी शांति के हैं , मत समझो तुम कमजोर हमें !

जब भी सिर आ पडे मुसीबत, तो आता पाना छोर हमें !!

नौ दो ग्यारह हो जा दुश्मन , बस ऐसा सबक जरूर रहे !

हम तो कबूतर शांति पथ के ,क्यूँ उल्लू हमको घूर रहे !![६]

खून पसीना एक करें हम ,तब ये खुशहाली आती है !

वो आतंकी के साथ खड़ा ,करतूतें नरक डुबाती हैं !!

मर्यादायें जो भूल चुका , वो सदा-सदा मजबूर रहे !

हम तो कबूतर शांति पथ के ,क्यूँ उल्लू हमको घूर रहे !![७]

चरित, धर्म औ शर्म सभी को,वो सच्च तिलांजलि दे बैठा !

मानवता के आभूषण ये ,कभी भाव हमारा न ऐंठा !!

तूती बोल रही भारत की ,ये देश सदा मशहूर रहे !

हम तो कबूतर शांति पथ के ,क्यूँ उल्लू हमको घूर रहे !![८]

फलदार सदा झुककर रहते ,निकृष्ट ही सदा अकड़ते हैं !

गुणवान सदा झंडा गाड़ें ,गुणहीन तो बस गरजते हैं !!

छोड़ चलो अरिताई सारी ,बस प्रेम भरा दस्तूर रहे !

हम तो कबूतर शांति पथ के ,क्यूँ उल्लू हमको घूर रहे !![९]

*******सुरेशपाल वर्मा जसाला (दिल्ली) ,

Language: Hindi
Tag: कविता
1249 Views
You may also like:
💐💐परमार्थ: तथा प्रतिपरमार्थ:💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
#गणतंत्र दिवस#
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
नारी का क्रोध
लक्ष्मी सिंह
ग़ज़ल / ये दीवार गिराने दो....!
*Author प्रणय प्रभात*
डर
Sushil chauhan
Writing Challenge- सम्मान (Respect)
Sahityapedia
सच कह रहा हूँ तुमसे
gurudeenverma198
रक्षा के पावन बंधन का, अमर प्रेम त्यौहार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सफर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पहचान...
मनोज कर्ण
धीरे-धीरे समय सफर कर गया
Pratibha Kumari
बहारन (भोजपुरी कहानी) (प्रतियोगिता के लिए)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
एक घर।
Anil Mishra Prahari
✍️पेड़ की आत्मकथा✍️
'अशांत' शेखर
*जिनसे दूर नहान (हास्य_कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"आओ हम सब मिल कर गाएँ भारत माँ के गान"
Lohit Tamta
विसर्जन गीत
Shiva Awasthi
"शब्दकोश में शब्द नहीं हैं, इसका वर्णन रहने दो"
Kumar Akhilesh
यह रात कट जाए
Shivkumar Bilagrami
पत्थर दिखता है . (ग़ज़ल)
Mahendra Narayan
बेवफा
Aditya Raj
एक पाती पितरों के नाम
Ram Krishan Rastogi
वादे
Anurag pandey
संघर्ष पथ
Aditya Prakash
सीधे सीधे कहते हैं।
Taj Mohammad
अप्रैल-फूल दोहा एकादशी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गुरु तुम क्या हो यार !
jaswant Lakhara
सपना वाली लड़की
Shekhar Chandra Mitra
आज भी ढूंढती नज़र उसको
Dr fauzia Naseem shad
गाऊँ तेरी महिमा का गान (हरिशयन एकादशी विशेष)
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...