Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 1, 2016 · 2 min read

***हम तो कबूतर शांति पथ के***

***हम तो कबूतर शांति पथ के***

[मुहावरों का प्रयोग]

****************************************

हम तो कबूतर शांति पथ के ,क्यूँ उल्लू हमको घूर रहे।

मानवता है धर्म हमारा , वो मानवता से दूर रहे।।

हर बार दिया मौका हमने ,बस उसकी टेढ़ी पूंछ रही !

बातों से दुष्ट नहीं माना ,तो रण में लातें खूब दई !!

गिड़गिड़ाया पड़ा कदमों में ,सारे ही नखरे चूर रहे !

हम तो कबूतर शांति पथ के ,क्यूँ उल्लू हमको घूर रहे !! [१]

हमदर्दी की गोली से वो ,अक्सर बदहज़मी पाता है !

अस्त्र-शस्त्र की होड़ करे तो , बस मुँह की ही वो खाता है !!

पिट-पिट कर भी फुंकार भरे ,वह लज्जित भी भरपूर रहे !

हम तो कबूतर शांति पथ के ,क्यूँ उल्लू हमको घूर रहे !![२]

दुर्गन्ध विकारों की मन में , नीयत खोटी, चोटी पर है !

मक्कारी का कुनबा जोड़ा ,धरी नींव गद्दारी पर है !!

आतंकी रक्त शिराओं में , विश्व-जन के लिये क्रूर रहे !

हम तो कबूतर शांति पथ के ,क्यूँ उल्लू हमको घूर रहे !! [३]

हर-बार उमड़ कर आता वो,पर तड़फ-तड़फ मर जाता ! है

भारत के शेरों का गर्जन, बस नानी याद दिलाता है !!

खण्ड-खण्ड कर दो तन उनका ,जो मद में अक्सर चूर रहे !

हम तो कबूतर शांति पथ के ,क्यूँ उल्लू हमको घूर रहे !![४]

नापाक इरादे हैं उसके ,वो प्राणी हित में है खतरा !

मिट्टी में उसको दफना दो ,कर दो निष्क्रिय कतरा-कतरा !!

कुचल धरो फन उसका ऐसा ,फिर न वो कभी मगरूर रहे !

हम तो कबूतर शांति पथ के ,क्यूँ उल्लू हमको घूर रहे !![५]

हम तो पुजारी शांति के हैं , मत समझो तुम कमजोर हमें !

जब भी सिर आ पडे मुसीबत, तो आता पाना छोर हमें !!

नौ दो ग्यारह हो जा दुश्मन , बस ऐसा सबक जरूर रहे !

हम तो कबूतर शांति पथ के ,क्यूँ उल्लू हमको घूर रहे !![६]

खून पसीना एक करें हम ,तब ये खुशहाली आती है !

वो आतंकी के साथ खड़ा ,करतूतें नरक डुबाती हैं !!

मर्यादायें जो भूल चुका , वो सदा-सदा मजबूर रहे !

हम तो कबूतर शांति पथ के ,क्यूँ उल्लू हमको घूर रहे !![७]

चरित, धर्म औ शर्म सभी को,वो सच्च तिलांजलि दे बैठा !

मानवता के आभूषण ये ,कभी भाव हमारा न ऐंठा !!

तूती बोल रही भारत की ,ये देश सदा मशहूर रहे !

हम तो कबूतर शांति पथ के ,क्यूँ उल्लू हमको घूर रहे !![८]

फलदार सदा झुककर रहते ,निकृष्ट ही सदा अकड़ते हैं !

गुणवान सदा झंडा गाड़ें ,गुणहीन तो बस गरजते हैं !!

छोड़ चलो अरिताई सारी ,बस प्रेम भरा दस्तूर रहे !

हम तो कबूतर शांति पथ के ,क्यूँ उल्लू हमको घूर रहे !![९]

*******सुरेशपाल वर्मा जसाला (दिल्ली) ,

1060 Views
You may also like:
💐💐स्वरूपे कोलाहल: नैव💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पर्यावरण दिवस
Ram Krishan Rastogi
✍️मैं परिंदा...!✍️
"अशांत" शेखर
✍️स्त्री : दोन बाजु✍️
"अशांत" शेखर
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
महामोह की महानिशा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भगवान विरसा मुंडा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आइसक्रीम लुभाए
Buddha Prakash
✍️✍️व्यवस्था✍️✍️
"अशांत" शेखर
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
सुंदर बाग़
DESH RAJ
बादल को पाती लिखी
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
पापा
Nitu Sah
आगे बढ़,मतदान करें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
“ शिष्टता के धेने रहू ”
DrLakshman Jha Parimal
** The Highway road **
Buddha Prakash
तुम और मैं
Ram Krishan Rastogi
परीक्षा को समझो उत्सव समान
ओनिका सेतिया 'अनु '
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
बताकर अपना गम।
Taj Mohammad
जुबान काट दी जाएगी - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
विचलित मन
AMRESH KUMAR VERMA
छंदों में मात्राओं का खेल
Subhash Singhai
सोना
Vikas Sharma'Shivaaya'
क्या कोई मुझे भी बताएगा
Krishan Singh
मौत ने की हमसे साज़िश।
Taj Mohammad
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
✍️अज़ीब इत्तेफ़ाक है✍️
"अशांत" शेखर
मोहब्बत ही आजकल कम हैं
Dr.sima
Loading...