Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Dec 2022 · 1 min read

हम जो तुम किसी से ना कह सको वो कहानी है

हम जो तुम किसी से ना कह सको वो कहानी है
जो चाहा कर भी ना मिटा सको वो निशानी है
पता नही क्यों भीख मांगते है तुमसे प्यार की
तुम वो तो जिसने आज तक हमारी एक ना मानी है
फिर भी बहुत बहुत प्यार करते है तुमसे
तुम्हारे मामले में इस कमीने दिल ने हमारी एक ना मानी हैं
(J_kay_chhonkar)

Language: Hindi
Tag: Ahsaas
3 Likes · 1 Comment · 197 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हे गर्भवती !
हे गर्भवती !
Akash Yadav
नन्हीं सी प्यारी कोकिला
नन्हीं सी प्यारी कोकिला
जगदीश लववंशी
भीगी पलकें...
भीगी पलकें...
Naushaba Suriya
चरचा गरम बा
चरचा गरम बा
Shekhar Chandra Mitra
ईश्वर से बात
ईश्वर से बात
Rakesh Bahanwal
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
*खुद को  खुदा  समझते लोग हैँ*
*खुद को खुदा समझते लोग हैँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हर इंसान वो रिश्ता खोता ही है,
हर इंसान वो रिश्ता खोता ही है,
Rekha khichi
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*
*"देश की आत्मा है हिंदी"*
Shashi kala vyas
मेरी मां।
मेरी मां।
Taj Mohammad
दिवाली त्योहार का महत्व
दिवाली त्योहार का महत्व
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
!! दो अश्क़ !!
!! दो अश्क़ !!
Chunnu Lal Gupta
चूड़ी पायल बिंदिया काजल गजरा सब रहने दो
चूड़ी पायल बिंदिया काजल गजरा सब रहने दो
Vishal babu (vishu)
छल छल छलके आँख से,
छल छल छलके आँख से,
sushil sarna
2576.पूर्णिका
2576.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रोशनी का पेड़
रोशनी का पेड़
Kshma Urmila
*जय सियाराम राम राम राम...*
*जय सियाराम राम राम राम...*
Harminder Kaur
चोर उचक्के बेईमान सब, सेवा करने आए
चोर उचक्के बेईमान सब, सेवा करने आए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
* तुम न मिलती *
* तुम न मिलती *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
** वर्षा ऋतु **
** वर्षा ऋतु **
surenderpal vaidya
क्या हुआ ???
क्या हुआ ???
Shaily
सत्य की खोज, कविता
सत्य की खोज, कविता
Mohan Pandey
14- वसुधैव कुटुम्ब की, गरिमा बढाइये
14- वसुधैव कुटुम्ब की, गरिमा बढाइये
Ajay Kumar Vimal
चिंतन
चिंतन
ओंकार मिश्र
हँसते गाते हुए
हँसते गाते हुए
Shweta Soni
बादल और बरसात
बादल और बरसात
Neeraj Agarwal
आखिर उन पुरुष का,दर्द कौन समझेगा
आखिर उन पुरुष का,दर्द कौन समझेगा
पूर्वार्थ
🙅आम सूचना🙅
🙅आम सूचना🙅
*Author प्रणय प्रभात*
जय हो माई।
जय हो माई।
Rj Anand Prajapati
Loading...