Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 1 min read

हम छि मिथिला के बासी

हम छि मिथिला के बासी, जनकपुर छै यौ पावनधाम…!
जीवन निर्वाह मे घूमैछी देश विदेश मन रहैय वही ठाम…!!

जय मिथिला जय मातृ भुमि

Language: Maithili
45 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कविता
कविता
Rambali Mishra
वो देखो ख़त्म हुई चिड़ियों की जमायत देखो हंस जा जाके कौओं से
वो देखो ख़त्म हुई चिड़ियों की जमायत देखो हंस जा जाके कौओं से
Neelam Sharma
मेरी फितरत
मेरी फितरत
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
आदतों में तेरी ढलते-ढलते, बिछड़न शोहबत से खुद की हो गयी।
आदतों में तेरी ढलते-ढलते, बिछड़न शोहबत से खुद की हो गयी।
Manisha Manjari
वक्त गुजर जायेगा
वक्त गुजर जायेगा
Sonu sugandh
क्रांतिकारी किसी देश के लिए वह उत्साहित स्तंभ रहे है जिनके ज
क्रांतिकारी किसी देश के लिए वह उत्साहित स्तंभ रहे है जिनके ज
Rj Anand Prajapati
फिजा में तैर रही है तुम्हारी ही खुशबू।
फिजा में तैर रही है तुम्हारी ही खुशबू।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
और नहीं बस और नहीं, धरती पर हिंसा और नहीं
और नहीं बस और नहीं, धरती पर हिंसा और नहीं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शुक्रिया जिंदगी!
शुक्रिया जिंदगी!
Madhavi Srivastava
ज़िंदगी की अहमियत
ज़िंदगी की अहमियत
Dr fauzia Naseem shad
पथ नहीं होता सरल
पथ नहीं होता सरल
surenderpal vaidya
युग बीते और आज भी ,
युग बीते और आज भी ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
ख्वाब को ख़ाक होने में वक्त नही लगता...!
ख्वाब को ख़ाक होने में वक्त नही लगता...!
Aarti sirsat
आदमी क्या है - रेत पर लिखे कुछ शब्द ,
आदमी क्या है - रेत पर लिखे कुछ शब्द ,
Anil Mishra Prahari
नौका को सिन्धु में उतारो
नौका को सिन्धु में उतारो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
बसंत
बसंत
manjula chauhan
यूं जो उसको तकते हो।
यूं जो उसको तकते हो।
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
लहर आजादी की
लहर आजादी की
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
मां रा सपना
मां रा सपना
Rajdeep Singh Inda
सुधर जाओ, द्रोणाचार्य
सुधर जाओ, द्रोणाचार्य
Shekhar Chandra Mitra
मैं चांद को पाने का सपना सजाता हूं।
मैं चांद को पाने का सपना सजाता हूं।
Dr. ADITYA BHARTI
श्रद्धा के चिथड़े उड़ जाएं
श्रद्धा के चिथड़े उड़ जाएं
*Author प्रणय प्रभात*
आत्मसंवाद
आत्मसंवाद
Shyam Sundar Subramanian
*जिंदगी भर धन जुटाया, बाद में किसको मिला (हिंदी गजल)*
*जिंदगी भर धन जुटाया, बाद में किसको मिला (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
एक बार फिर ।
एक बार फिर ।
Dhriti Mishra
"शहर की याद"
Dr. Kishan tandon kranti
दर्द तन्हाई मुहब्बत जो भी हो भरपूर होना चाहिए।
दर्द तन्हाई मुहब्बत जो भी हो भरपूर होना चाहिए।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
योग
योग
लक्ष्मी सिंह
3267.*पूर्णिका*
3267.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...