Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Aug 2016 · 1 min read

हम खरी खरी बोले हैं

मुक्तक
मन में कपट हाथ में औषधि, आडंबर के चोले हैं।
बात कहाँ पक्की करते वे , बार – बार ही डोले हैं।
घर जाकर फटकार दिया यदि, दिखा दिया दर्पण उनको।
इसमें कौन बुराई है हम, खरी – खरी ही बोले हैं।
अंकित शर्मा ‘इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ, सबलगढ(म.प्र.)

Language: Hindi
477 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
View all
You may also like:
अब मेरे दिन के गुजारे भी नहीं होते हैं साकी,
अब मेरे दिन के गुजारे भी नहीं होते हैं साकी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
विश्व पर्यटन दिवस
विश्व पर्यटन दिवस
Neeraj Agarwal
जो समय सम्मुख हमारे आज है।
जो समय सम्मुख हमारे आज है।
surenderpal vaidya
मातृशक्ति
मातृशक्ति
Sanjay ' शून्य'
*वरिष्ठ नागरिक (हास्य कुंडलिया)*
*वरिष्ठ नागरिक (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सौ बार मरता है
सौ बार मरता है
sushil sarna
2912.*पूर्णिका*
2912.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
माँ काली
माँ काली
Sidhartha Mishra
मेरा प्यार तुझको अपनाना पड़ेगा
मेरा प्यार तुझको अपनाना पड़ेगा
gurudeenverma198
वक्त
वक्त
Shyam Sundar Subramanian
न मैंने अबतक बुद्धत्व प्राप्त किया है
न मैंने अबतक बुद्धत्व प्राप्त किया है
ruby kumari
कदम रखूं ज्यों शिखर पर
कदम रखूं ज्यों शिखर पर
Divya Mishra
"अकेलापन"
Pushpraj Anant
किसी भी देश काल और स्थान पर भूकम्प आने का एक कारण होता है मे
किसी भी देश काल और स्थान पर भूकम्प आने का एक कारण होता है मे
Rj Anand Prajapati
🌺हे परम पिता हे परमेश्वर 🙏🏻
🌺हे परम पिता हे परमेश्वर 🙏🏻
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
सेर
सेर
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
पत्थर (कविता)
पत्थर (कविता)
Pankaj Bindas
ग़ज़ल/नज़्म: एक तेरे ख़्वाब में ही तो हमने हजारों ख़्वाब पाले हैं
ग़ज़ल/नज़्म: एक तेरे ख़्वाब में ही तो हमने हजारों ख़्वाब पाले हैं
अनिल कुमार
तुमने - दीपक नीलपदम्
तुमने - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
जब तुमने सहर्ष स्वीकारा है!
जब तुमने सहर्ष स्वीकारा है!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
मैं तूफान हूँ जिधर से गुजर जाऊँगा
मैं तूफान हूँ जिधर से गुजर जाऊँगा
VINOD CHAUHAN
योग ही स्वस्थ जीवन का योग है
योग ही स्वस्थ जीवन का योग है
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
"अपेक्षा"
Yogendra Chaturwedi
योग
योग
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
पुस्तक तो पुस्तक रहा, पाठक हुए महान।
पुस्तक तो पुस्तक रहा, पाठक हुए महान।
Manoj Mahato
■ आज का चिंतन...
■ आज का चिंतन...
*प्रणय प्रभात*
ज्ञानवान के दीप्त भाल पर
ज्ञानवान के दीप्त भाल पर
महेश चन्द्र त्रिपाठी
*** मैं प्यासा हूँ ***
*** मैं प्यासा हूँ ***
Chunnu Lal Gupta
मजदूर
मजदूर
Dinesh Kumar Gangwar
सत्संग संध्या इवेंट
सत्संग संध्या इवेंट
पूर्वार्थ
Loading...