Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Aug 2016 · 1 min read

हम खरी खरी बोले हैं

*मुक्तक*
मन में कपट हाथ में औषधि, आडंबर के चोले हैं।
बात कहाँ पक्की करते वे , बार – बार ही डोले हैं।
घर जाकर फटकार दिया यदि, दिखा दिया दर्पण उनको।
इसमें कौन बुराई है हम, खरी – खरी ही बोले हैं।
अंकित शर्मा ‘इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ, सबलगढ(म.प्र.)

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
272 Views
You may also like:
पिता
Surjeet Kumar
जस का तस / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मजदूर हुआ तो क्या हुआ
gurudeenverma198
हमनवा कोई न था
Dr. Sunita Singh
बन कर शबनम।
Taj Mohammad
ये उम्मीद की रौशनी, बुझे दीपों को रौशन कर जातीं...
Manisha Manjari
- "इतिहास ख़ुद रचना होगा"-
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
✍️✍️असर✍️✍️
'अशांत' शेखर
महर्षि बाल्मीकि
Ashutosh Singh
एक नया इतिहास लिखो
Rashmi Sanjay
🚩जाग्रत हिंदुस्तान चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बेटी....
Chandra Prakash Patel
तुम्हारे शहर में कुछ दिन ठहर के देखूंगा।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
आया जो,वो आएगा
AMRESH KUMAR VERMA
जरूरी कहां कुल का दिया कुल को रोशन करें
कवि दीपक बवेजा
कभी मिलोगी तब सुनाऊँगा ---- ✍️ मुन्ना मासूम
मुन्ना मासूम
वन्दे मातरम वन्दे मातरम
Swami Ganganiya
है आया पन्द्रह अगस्त है।।
पाण्डेय चिदानन्द
*त्यौहार हिन्द के(बाल कविता)*
Ravi Prakash
आग लगा दो पर्दे में
Shekhar Chandra Mitra
तेरा नूर
Dr.S.P. Gautam
हाथ में खंजर लिए
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
'रूप बदलते रिश्ते'
Godambari Negi
शिक्षक दिवस पर गुरुजनों को शत् शत् नमन 🙏🎉
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हिन्दी के हित प्यार चाहिए
surenderpal vaidya
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कोई अफ़सोस फिर नहीं होता
Dr fauzia Naseem shad
मेरे मन के भाव
Ram Krishan Rastogi
कहानी *"ममता"* पार्ट-3 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
Loading...