Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jan 2024 · 1 min read

हम कहाँ से कहाँ आ गए हैं। पहले के समय में आयु में बड़ों का स

हम कहाँ से कहाँ आ गए हैं। पहले के समय में आयु में बड़ों का सम्मान होता था। अब लोग आय में बड़ों का सम्मान करते हैं! – ख़ान इशरत परवेज़

204 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्यार विश्वाश है इसमें कोई वादा नहीं होता!
प्यार विश्वाश है इसमें कोई वादा नहीं होता!
Diwakar Mahto
जिसके पास
जिसके पास "ग़ैरत" नाम की कोई चीज़ नहीं, उन्हें "ज़लील" होने का
*प्रणय प्रभात*
दोहा त्रयी . . . .
दोहा त्रयी . . . .
sushil sarna
भगवान भी रंग बदल रहा है
भगवान भी रंग बदल रहा है
VINOD CHAUHAN
*Maturation*
*Maturation*
Poonam Matia
आन-बान-शान हमारी हिंदी भाषा
आन-बान-शान हमारी हिंदी भाषा
Raju Gajbhiye
कुण्डलिया छंद
कुण्डलिया छंद
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पुजारी शांति के हम, जंग को भी हमने जाना है।
पुजारी शांति के हम, जंग को भी हमने जाना है।
सत्य कुमार प्रेमी
Imagine you're busy with your study and work but someone wai
Imagine you're busy with your study and work but someone wai
पूर्वार्थ
उजियारी ऋतुओं में भरती
उजियारी ऋतुओं में भरती
Rashmi Sanjay
सच तो बस
सच तो बस
Neeraj Agarwal
*हे शारदे मां*
*हे शारदे मां*
Dr. Priya Gupta
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
रक्तदान पर कुंडलिया
रक्तदान पर कुंडलिया
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
वक्त बदलते ही चूर- चूर हो जाता है,
वक्त बदलते ही चूर- चूर हो जाता है,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"तितली रानी"
Dr. Kishan tandon kranti
मनमीत मेरे तुम हो
मनमीत मेरे तुम हो
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
आत्मघाती हमला
आत्मघाती हमला
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
World Earth Day
World Earth Day
Tushar Jagawat
माथे पर दुपट्टा लबों पे मुस्कान रखती है
माथे पर दुपट्टा लबों पे मुस्कान रखती है
Keshav kishor Kumar
हर पल
हर पल
Davina Amar Thakral
चुनाव 2024....
चुनाव 2024....
Sanjay ' शून्य'
आप सुनो तो तान छेड़ दूं
आप सुनो तो तान छेड़ दूं
Suryakant Dwivedi
*पाते हैं सौभाग्य से, पक्षी अपना नीड़ ( कुंडलिया )*
*पाते हैं सौभाग्य से, पक्षी अपना नीड़ ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
बदली है मुफ़लिसी की तिज़ारत अभी यहाँ
बदली है मुफ़लिसी की तिज़ारत अभी यहाँ
Mahendra Narayan
2327.पूर्णिका
2327.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बे खुदी में सवाल करते हो
बे खुदी में सवाल करते हो
SHAMA PARVEEN
कुछ इस तरह से खेला
कुछ इस तरह से खेला
Dheerja Sharma
गुरु दीक्षा
गुरु दीक्षा
GOVIND UIKEY
Loading...