Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Sep 23, 2022 · 1 min read

हम ऐसे ज़ोहरा-जमालों में डूब जाते हैं

ग़ज़ल
हम ऐसे ज़ोहरा-जमालों में डूब जाते हैं
उन आँखों में कभी बालों में डूब जाते हैं

जो मुस्कुराने से बनते हैं गालों पर डिंपल
तो हम तेरे उन्हीं गालों में डूब जाते हैं

किया है पार समंदर तो बारहा हमने
बस एक तेरे ख़यालों में डूब जाते हैं

चमकते ख़ूब ही देखे सियाह रातों में
ये जुगनू दिन के उजालों में डूब जाते हैं

जवाब मिलते नहीं है कभी कोई हमको
सवाल भी तो सवालों में डूब जाते हैं

निवालों के लिए करते हैं जो कड़ी मेहनत
वो शाम होते पियालों में डूब जाते हैं

‘अनीस’ अपनी वो मंज़िल को पा नहीं सकते
जो अपने पाँव के छालों में डूब जाते हैं
– अनीस शाह ‘अनीस’

1 Like · 13 Views
You may also like:
कुछ और तो नहीं
Dr fauzia Naseem shad
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
मुझे आज भी तुमसे प्यार है
Ram Krishan Rastogi
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
जिंदगी
Abhishek Pandey Abhi
हमसे न अब करो
Dr fauzia Naseem shad
बरसात आई झूम के...
Buddha Prakash
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
श्रीमती का उलाहना
श्री रमण 'श्रीपद्'
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
बोझ
आकांक्षा राय
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
तू नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
हमनें ख़्वाबों को देखना छोड़ा
Dr fauzia Naseem shad
यकीन कैसा है
Dr fauzia Naseem shad
समय ।
Kanchan sarda Malu
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
याद तेरी फिर आई है
Anamika Singh
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
हमको जो समझे हमीं सा ।
Dr fauzia Naseem shad
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
देश के नौजवानों
Anamika Singh
Loading...