Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Sep 2022 · 1 min read

हम ऐसे ज़ोहरा-जमालों में डूब जाते हैं

ग़ज़ल
हम ऐसे ज़ोहरा-जमालों में डूब जाते हैं
उन आँखों में कभी बालों में डूब जाते हैं

जो मुस्कुराने से बनते हैं गालों पर डिंपल
तो हम तेरे उन्हीं गालों में डूब जाते हैं

किया है पार समंदर तो बारहा हमने
बस एक तेरे ख़यालों में डूब जाते हैं

चमकते ख़ूब ही देखे सियाह रातों में
ये जुगनू दिन के उजालों में डूब जाते हैं

जवाब मिलते नहीं है कभी कोई हमको
सवाल भी तो सवालों में डूब जाते हैं

निवालों के लिए करते हैं जो कड़ी मेहनत
वो शाम होते पियालों में डूब जाते हैं

‘अनीस’ अपनी वो मंज़िल को पा नहीं सकते
जो अपने पाँव के छालों में डूब जाते हैं
– अनीस शाह ‘अनीस’

Language: Hindi
3 Likes · 171 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Anis Shah
View all
You may also like:
■ कोई तो हो...।।
■ कोई तो हो...।।
*Author प्रणय प्रभात*
हमें भी जिंदगी में रंग भरने का जुनून था
हमें भी जिंदगी में रंग भरने का जुनून था
VINOD CHAUHAN
आजकल के परिवारिक माहौल
आजकल के परिवारिक माहौल
पूर्वार्थ
कविता(प्रेम,जीवन, मृत्यु)
कविता(प्रेम,जीवन, मृत्यु)
Shiva Awasthi
विष का कलश लिये धन्वन्तरि
विष का कलश लिये धन्वन्तरि
कवि रमेशराज
ऐ पड़ोसी सोच
ऐ पड़ोसी सोच
Satish Srijan
RATHOD SRAVAN WAS GREAT HONORED
RATHOD SRAVAN WAS GREAT HONORED
राठौड़ श्रावण लेखक, प्रध्यापक
आज किस्सा हुआ तमाम है।
आज किस्सा हुआ तमाम है।
Taj Mohammad
मासूमियत की हत्या से आहत
मासूमियत की हत्या से आहत
Sanjay ' शून्य'
नया ट्रैफिक-प्लान (बाल कविता)
नया ट्रैफिक-प्लान (बाल कविता)
Ravi Prakash
नया सबेरा
नया सबेरा
Shekhar Chandra Mitra
शक्कर में ही घोलिए,
शक्कर में ही घोलिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिल
दिल
Neeraj Agarwal
माँ तेरा ना होना
माँ तेरा ना होना
shivam kumar mishra
“यह मेरा रिटाइअर्मन्ट नहीं, मध्यांतर है”
“यह मेरा रिटाइअर्मन्ट नहीं, मध्यांतर है”
DrLakshman Jha Parimal
💐प्रेम कौतुक-174💐
💐प्रेम कौतुक-174💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तड़पता भी है दिल
तड़पता भी है दिल
हिमांशु Kulshrestha
जगत का हिस्सा
जगत का हिस्सा
Harish Chandra Pande
दिल की बातें....
दिल की बातें....
Kavita Chouhan
निशानी
निशानी
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"सूर्य -- जो अस्त ही नहीं होता उसका उदय कैसे संभव है" ! .
Atul "Krishn"
मार   बेरोजगारी   की   सहते  रहे
मार बेरोजगारी की सहते रहे
अभिनव अदम्य
इंतजार करो
इंतजार करो
Buddha Prakash
Ek jindagi ke sapne hajar,
Ek jindagi ke sapne hajar,
Sakshi Tripathi
मैं भी चापलूस बन गया (हास्य कविता)
मैं भी चापलूस बन गया (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
वक्त हूं खराब आज
वक्त हूं खराब आज
साहित्य गौरव
कोरोना संक्रमण
कोरोना संक्रमण
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अच्छा अख़लाक़
अच्छा अख़लाक़
Dr fauzia Naseem shad
"हंस"
Dr. Kishan tandon kranti
बेटियां एक सहस
बेटियां एक सहस
तरुण सिंह पवार
Loading...