Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Sep 2016 · 1 min read

हम उन्हें अच्छे नहीं लगते (कविता)

इस शस्य श्यामला भारत भूमि की
हर चीज उन्हें अच्छी लगती है
नदी, झरने, ताल-तलैया, सब कुछ….

पीले-पीले सरसों हों
या बौर से लदी अमरायी
या फिर
हमारे खून पसीने से लहलहाती फसल
सब कुछ उन्हें बहुत भाती है

हमारे श्रम से बनी
ऊँची-ऊँची अट्टालिकायें
उन्हें बहुत सुकून देती हैं

पीपल का वृक्ष हो या
तुलसी का पौधा
या फिर दूध पीती पाषाण मूर्तियाँ
इन सबकी उपासना उन्हें अच्छी लगती है
पर हम उन्हें अच्छे नहीं लगते

सिनेमा हाल में एक ही कतार में बैठकर
हम फ़िल्में देखते हैं जरूर
पर चारपाई पर बैठकर
हमारा पढ़ना-लिखना उन्हें अपमानजनक लगता है

हम भी हैं इसी वसुंधरा की उपज
यह देश हमारा भी है जितना कि उनका है
परन्तु खिलखिलाते हुए हमारे बच्चे
उन्हें अच्छे नहीं लगते

खेतों में काम करती हुई
हमारी बहू-बेटियां
उनकी पिशाच वासनाओं का शिकार होती हैं
और हमारी सरकारी नौकरी
उनकी आँखों की किरकिरी है

हम घर में हों या बाहर
बस से यात्रा कर रहे हों
या फिर ट्रेन से
किसी संगीत सभा में हों
या स्कूल में
वे जानना चाहते हैं सबसे पहले
हमारी जाति
क्योंकि सिर्फ उनको ही पता है
हमारी नीची जाति होने का रहस्य

वे चाहते हैं कि
हम उनके सामने झुक के चलें
झुक कर रहें
झुक कर जियें
एक आज्ञा पालक गुलाम की तरह
– सुरेश चन्द

Language: Hindi
384 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बेदर्द ...................................
बेदर्द ...................................
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
आंखों की चमक ऐसी, बिजली सी चमकने दो।
आंखों की चमक ऐसी, बिजली सी चमकने दो।
सत्य कुमार प्रेमी
नागपंचमी........एक पर्व
नागपंचमी........एक पर्व
Neeraj Agarwal
तो क्या हुआ
तो क्या हुआ
Sûrëkhâ
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
24/247. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/247. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरा तकिया
मेरा तकिया
Madhu Shah
" खामोश आंसू "
Aarti sirsat
न बदले...!
न बदले...!
Srishty Bansal
माँ अपने बेटे से कहती है :-
माँ अपने बेटे से कहती है :-
Neeraj Mishra " नीर "
लेखनी को श्रृंगार शालीनता ,मधुर्यता और शिष्टाचार से संवारा ज
लेखनी को श्रृंगार शालीनता ,मधुर्यता और शिष्टाचार से संवारा ज
DrLakshman Jha Parimal
"कंचे का खेल"
Dr. Kishan tandon kranti
ईश्वर का
ईश्वर का "ह्यूमर" रचना शमशान वैराग्य -  Fractional Detachment  
Atul "Krishn"
रोज रात जिन्दगी
रोज रात जिन्दगी
Ragini Kumari
अपना नैनीताल...
अपना नैनीताल...
डॉ.सीमा अग्रवाल
श्री राधा मोहन चतुर्वेदी
श्री राधा मोहन चतुर्वेदी
Ravi Prakash
चाय की चुस्की संग
चाय की चुस्की संग
Surinder blackpen
इश्क़ में हम कोई भी हद पार कर जायेंगे,
इश्क़ में हम कोई भी हद पार कर जायेंगे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
प्रीति क्या है मुझे तुम बताओ जरा
प्रीति क्या है मुझे तुम बताओ जरा
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
🙅मैं नहीं कहता...🙅
🙅मैं नहीं कहता...🙅
*प्रणय प्रभात*
हारता वो है जो शिकायत
हारता वो है जो शिकायत
नेताम आर सी
बलिदान
बलिदान
लक्ष्मी सिंह
भगवान कहाँ है तू?
भगवान कहाँ है तू?
Bodhisatva kastooriya
चूल्हे की रोटी
चूल्हे की रोटी
प्रीतम श्रावस्तवी
तज द्वेष
तज द्वेष
Neelam Sharma
वो रास्ता तलाश रहा हूं
वो रास्ता तलाश रहा हूं
Vikram soni
आया बाढ नग पहाड़ पे🌷✍️
आया बाढ नग पहाड़ पे🌷✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जीवन में सबसे मूल्यवान अगर मेरे लिए कुछ है तो वह है मेरा आत्
जीवन में सबसे मूल्यवान अगर मेरे लिए कुछ है तो वह है मेरा आत्
Dr Tabassum Jahan
तुम तो हो जाते हो नाराज
तुम तो हो जाते हो नाराज
gurudeenverma198
अबकी बार निपटा दो,
अबकी बार निपटा दो,
शेखर सिंह
Loading...