Sep 2, 2016 · 1 min read

हम उन्हें अच्छे नहीं लगते (कविता)

इस शस्य श्यामला भारत भूमि की
हर चीज उन्हें अच्छी लगती है
नदी, झरने, ताल-तलैया, सब कुछ….

पीले-पीले सरसों हों
या बौर से लदी अमरायी
या फिर
हमारे खून पसीने से लहलहाती फसल
सब कुछ उन्हें बहुत भाती है

हमारे श्रम से बनी
ऊँची-ऊँची अट्टालिकायें
उन्हें बहुत सुकून देती हैं

पीपल का वृक्ष हो या
तुलसी का पौधा
या फिर दूध पीती पाषाण मूर्तियाँ
इन सबकी उपासना उन्हें अच्छी लगती है
पर हम उन्हें अच्छे नहीं लगते

सिनेमा हाल में एक ही कतार में बैठकर
हम फ़िल्में देखते हैं जरूर
पर चारपाई पर बैठकर
हमारा पढ़ना-लिखना उन्हें अपमानजनक लगता है

हम भी हैं इसी वसुंधरा की उपज
यह देश हमारा भी है जितना कि उनका है
परन्तु खिलखिलाते हुए हमारे बच्चे
उन्हें अच्छे नहीं लगते

खेतों में काम करती हुई
हमारी बहू-बेटियां
उनकी पिशाच वासनाओं का शिकार होती हैं
और हमारी सरकारी नौकरी
उनकी आँखों की किरकिरी है

हम घर में हों या बाहर
बस से यात्रा कर रहे हों
या फिर ट्रेन से
किसी संगीत सभा में हों
या स्कूल में
वे जानना चाहते हैं सबसे पहले
हमारी जाति
क्योंकि सिर्फ उनको ही पता है
हमारी नीची जाति होने का रहस्य

वे चाहते हैं कि
हम उनके सामने झुक के चलें
झुक कर रहें
झुक कर जियें
एक आज्ञा पालक गुलाम की तरह
– सुरेश चन्द

180 Views
You may also like:
साथी क्रिकेटरों के मध्य "हॉलीवुड" नाम से मशहूर शेन वॉर्न
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मैं तुम पर क्या छन्द लिखूँ?
रोहिणी नन्दन मिश्र
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
# हमको नेता अब नवल मिले .....
Chinta netam मन
विषय:सूर्योपासना
Vikas Sharma'Shivaaya'
"साहिल"
Dr. Alpa H.
निर्गुण सगुण भेद..?
मनोज कर्ण
पिता हैं छाँव जैसे
अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
💐प्रेम की राह पर-24💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भगवान श्री परशुराम जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरे दिल का दर्द
Ram Krishan Rastogi
सीख
Pakhi Jain
यादों की गठरी
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
पापा
Kanchan Khanna
नमन!
Shriyansh Gupta
रिश्ते
कुलदीप दहिया "मरजाणा दीप"
पिता जी का आशीर्वाद है !
Kuldeep mishra (KD)
ग़ज़ल
Anis Shah
माँ तेरी जैसी कोई नही।
Anamika Singh
पिता खुशियों का द्वार है।
Taj Mohammad
गुजर रही है जिंदगी अब ऐसे मुकाम से
Ram Krishan Rastogi
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
सितम देखते हैं by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
ये पहाड़ कायम है रहते ।
Buddha Prakash
'बेदर्दी'
Godambari Negi
कच्चे आम
Prabhat Ranjan
*हिम्मत मत हारो ( गीत )*
Ravi Prakash
🔥😊 तेरे प्यार ने
N.ksahu0007@writer
Loading...