Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Oct 2022 · 1 min read

हम आपको नहीं

अपनी नज़र में अपना
रखते है आईना ।
हम आपको नहीं
बस खुद को जानते हैं ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
14 Likes · 179 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
रै तमसा, तू कब बदलेगी…
रै तमसा, तू कब बदलेगी…
Anand Kumar
बुंदेली दोहा- जंट (मजबूत)
बुंदेली दोहा- जंट (मजबूत)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मुझे मालूम है, मेरे मरने पे वो भी
मुझे मालूम है, मेरे मरने पे वो भी "अश्क " बहाए होगे..?
Sandeep Mishra
हाजीपुर
हाजीपुर
Hajipur
गांधी और गोडसे में तुम लोग किसे चुनोगे?
गांधी और गोडसे में तुम लोग किसे चुनोगे?
Shekhar Chandra Mitra
अपनी अपनी सोच
अपनी अपनी सोच
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
खो गए हैं ये धूप के साये
खो गए हैं ये धूप के साये
Shweta Soni
"Awakening by the Seashore"
Manisha Manjari
#लघुकथा- चुनावी साल, वही बवाल
#लघुकथा- चुनावी साल, वही बवाल
*Author प्रणय प्रभात*
Let your thoughts
Let your thoughts
Dhriti Mishra
कसौटी
कसौटी
Astuti Kumari
मुहब्बत की लिखावट में लिखा हर गुल का अफ़साना
मुहब्बत की लिखावट में लिखा हर गुल का अफ़साना
आर.एस. 'प्रीतम'
मुस्कान
मुस्कान
Neeraj Agarwal
चलो , फिर करते हैं, नामुमकिन को मुमकिन ,
चलो , फिर करते हैं, नामुमकिन को मुमकिन ,
Atul Mishra
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*कागभुशुंडी जी थे ज्ञानी (चौपाइयॉं)*
*कागभुशुंडी जी थे ज्ञानी (चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
जितना अता किया रब,
जितना अता किया रब,
Satish Srijan
अतीत कि आवाज
अतीत कि आवाज
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
वक्त के हाथों मजबूर सभी होते है
वक्त के हाथों मजबूर सभी होते है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
*** सागर की लहरें....! ***
*** सागर की लहरें....! ***
VEDANTA PATEL
उच्च पदों पर आसीन
उच्च पदों पर आसीन
Dr.Rashmi Mishra
कल पर कोई काम न टालें
कल पर कोई काम न टालें
महेश चन्द्र त्रिपाठी
आज फिर दर्द के किस्से
आज फिर दर्द के किस्से
Shailendra Aseem
रंग तो प्रेम की परिभाषा है
रंग तो प्रेम की परिभाषा है
Dr. Man Mohan Krishna
अपने आप को ही सदा श्रेष्ठ व कर्मठ ना समझें , आपकी श्रेष्ठता
अपने आप को ही सदा श्रेष्ठ व कर्मठ ना समझें , आपकी श्रेष्ठता
Seema Verma
जब किसी व्यक्ति और महिला के अंदर वासना का भूकम्प आता है तो उ
जब किसी व्यक्ति और महिला के अंदर वासना का भूकम्प आता है तो उ
Rj Anand Prajapati
सौतियाडाह
सौतियाडाह
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
" नम पलकों की कोर "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
ढलता वक्त
ढलता वक्त
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
Loading...