Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2024 · 1 min read

हम अपनों से न करें उम्मीद ,

हम अपनों से न करें उम्मीद ,
तो गैरों से करें क्या ?
अगर करते हैं गैरों से उम्मीद ,
तो फिर अपनों का फायदा ही क्या !

1 Like · 2 Comments · 67 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओनिका सेतिया 'अनु '
View all
You may also like:
अर्कान - फाइलातुन फ़इलातुन फैलुन / फ़अलुन बह्र - रमल मुसद्दस मख़्बून महज़ूफ़ो मक़़्तअ
अर्कान - फाइलातुन फ़इलातुन फैलुन / फ़अलुन बह्र - रमल मुसद्दस मख़्बून महज़ूफ़ो मक़़्तअ
Neelam Sharma
इश्क़ और इंकलाब
इश्क़ और इंकलाब
Shekhar Chandra Mitra
रोला छंद
रोला छंद
sushil sarna
जीवन को जीतती हैं
जीवन को जीतती हैं
Dr fauzia Naseem shad
ईश्वर शरण सिंघल मुक्तक
ईश्वर शरण सिंघल मुक्तक
Ravi Prakash
"आशिकी में"
Dr. Kishan tandon kranti
23/01.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/01.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अपनी कीमत उतनी रखिए जितना अदा की जा सके
अपनी कीमत उतनी रखिए जितना अदा की जा सके
Ranjeet kumar patre
प्रेम मोहब्बत इश्क के नाते जग में देखा है बहुतेरे,
प्रेम मोहब्बत इश्क के नाते जग में देखा है बहुतेरे,
Anamika Tiwari 'annpurna '
कोशिश न करना
कोशिश न करना
surenderpal vaidya
25-बढ़ रही है रोज़ महँगाई किसे आवाज़ दूँ
25-बढ़ रही है रोज़ महँगाई किसे आवाज़ दूँ
Ajay Kumar Vimal
*****देव प्रबोधिनी*****
*****देव प्रबोधिनी*****
Kavita Chouhan
।।आध्यात्मिक प्रेम।।
।।आध्यात्मिक प्रेम।।
Aryan Raj
शुक्र है, मेरी इज्जत बच गई
शुक्र है, मेरी इज्जत बच गई
Dhirendra Singh
जय भोलेनाथ ।
जय भोलेनाथ ।
Anil Mishra Prahari
उम्मीद
उम्मीद
Paras Nath Jha
जो हैं आज अपनें..
जो हैं आज अपनें..
Srishty Bansal
मेरी देह बीमार मानस का गेह है / मुसाफ़िर बैठा
मेरी देह बीमार मानस का गेह है / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
मुक्तक -
मुक्तक -
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मोबाइल
मोबाइल
Punam Pande
मुद्दत से संभाला था
मुद्दत से संभाला था
Surinder blackpen
थोड़ी मोहब्बत तो उसे भी रही होगी हमसे
थोड़ी मोहब्बत तो उसे भी रही होगी हमसे
शेखर सिंह
*”ममता”* पार्ट-1
*”ममता”* पार्ट-1
Radhakishan R. Mundhra
दुनिया में अधिकांश लोग
दुनिया में अधिकांश लोग
*प्रणय प्रभात*
गुलाबों सी महक है तेरे इन लिबासों में,
गुलाबों सी महक है तेरे इन लिबासों में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*जंगल की आग*
*जंगल की आग*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जब स्वयं के तन पर घाव ना हो, दर्द समझ नहीं आएगा।
जब स्वयं के तन पर घाव ना हो, दर्द समझ नहीं आएगा।
Manisha Manjari
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
SPK Sachin Lodhi
मेरे पांच रोला छंद
मेरे पांच रोला छंद
Sushila joshi
बहे संवेदन रुप बयार🙏
बहे संवेदन रुप बयार🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...