Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Mar 2024 · 1 min read

हमें सलीका न आया।

ज़िन्दगी को जीनें का हमें तरीका न आया।
पढ़े तो हम खूब ही पर हमें सलीका न आया।।1।।

क्या क्या बयां करें हम तुम्हें मां की खूबियां।
मां के जैसा हमने यहां कोई मसीहा न पाया।।2।।

बड़े ही परेशा होकर घूमे हम सेहरा सेहरा।
पर तिश्नगी में हमने आब का दरिया न पाया।।3।।

चले तो हम खूब काफिलों में सबके साथ।
पर सफरे जिंदगी में साथ किसी का न पाया।।4।।

परेशानी के सबब में मैंने इबादत तो खूब की।
पर खुदाओं को पसंद मेरा अकीदा न आया।।5।।

चढ़े जिसका हर ही फूल यहां दरगाहों पर
ऐसा फूलों का हमनें कोई बागीचा न पाया।।6।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

54 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Taj Mohammad
View all
You may also like:
भीड़ के साथ
भीड़ के साथ
Paras Nath Jha
आये हो मिलने तुम,जब ऐसा हुआ
आये हो मिलने तुम,जब ऐसा हुआ
gurudeenverma198
*भगत सिंह हूँ फैन  सदा तेरी शराफत का*
*भगत सिंह हूँ फैन सदा तेरी शराफत का*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
!! हे लोकतंत्र !!
!! हे लोकतंत्र !!
Akash Yadav
उस दिन
उस दिन
Shweta Soni
लत / MUSAFIR BAITHA
लत / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
पुस्तक
पुस्तक
Sangeeta Beniwal
*दासता जीता रहा यह, देश निज को पा गया (मुक्तक)*
*दासता जीता रहा यह, देश निज को पा गया (मुक्तक)*
Ravi Prakash
उस्ताद नहीं होता
उस्ताद नहीं होता
Dr fauzia Naseem shad
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
धरा हमारी स्वच्छ हो, सबका हो उत्कर्ष।
धरा हमारी स्वच्छ हो, सबका हो उत्कर्ष।
surenderpal vaidya
धर्म खतरे में है.. का अर्थ
धर्म खतरे में है.. का अर्थ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
न पाने का गम अक्सर होता है
न पाने का गम अक्सर होता है
Kushal Patel
बाबू
बाबू
Ajay Mishra
"बड़ी चुनौती ये चिन्ता"
Dr. Kishan tandon kranti
ऐसा लगता है कि एमपी में
ऐसा लगता है कि एमपी में
*प्रणय प्रभात*
आत्म मंथन
आत्म मंथन
Dr. Mahesh Kumawat
चुनाव
चुनाव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रानी मर्दानी
रानी मर्दानी
Dr.Pratibha Prakash
सच्चे इश्क़ का नाम... राधा-श्याम
सच्चे इश्क़ का नाम... राधा-श्याम
Srishty Bansal
जो आज शुरुआत में तुम्हारा साथ नहीं दे रहे हैं वो कल तुम्हारा
जो आज शुरुआत में तुम्हारा साथ नहीं दे रहे हैं वो कल तुम्हारा
Dr. Man Mohan Krishna
नशा-ए-दौलत तेरा कब तक साथ निभाएगा,
नशा-ए-दौलत तेरा कब तक साथ निभाएगा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मेरा यार
मेरा यार
rkchaudhary2012
डॉ. नामवर सिंह की आलोचना के अन्तर्विरोध
डॉ. नामवर सिंह की आलोचना के अन्तर्विरोध
कवि रमेशराज
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
गुमनाम 'बाबा'
माँ जब भी दुआएं देती है
माँ जब भी दुआएं देती है
Bhupendra Rawat
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
2749. *पूर्णिका*
2749. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
राजनीति
राजनीति
Bodhisatva kastooriya
हीरक जयंती 
हीरक जयंती 
Punam Pande
Loading...