Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Apr 2024 · 1 min read

हमें न बताइये,

हमें न बताइये,
मोहब्बत में तहजीब
एक उम्र से हम,
सिर्फ दूर से ही देख रहे हैं उन्हें

31 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ऐ दिल सम्हल जा जरा
ऐ दिल सम्हल जा जरा
Anjana Savi
मेरा हाल कैसे किसी को बताउगा, हर महीने रोटी घर बदल बदल कर खा
मेरा हाल कैसे किसी को बताउगा, हर महीने रोटी घर बदल बदल कर खा
Anil chobisa
किरदार हो या
किरदार हो या
Mahender Singh
2697.*पूर्णिका*
2697.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
क्यों अब हम नए बन जाए?
क्यों अब हम नए बन जाए?
डॉ० रोहित कौशिक
जनक दुलारी
जनक दुलारी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
सम्मान
सम्मान
Paras Nath Jha
जो हमने पूछा कि...
जो हमने पूछा कि...
Anis Shah
3-फ़क़त है सियासत हक़ीक़त नहीं है
3-फ़क़त है सियासत हक़ीक़त नहीं है
Ajay Kumar Vimal
हिंदी पखवाडा
हिंदी पखवाडा
Shashi Dhar Kumar
किसी भी चीज़ की आशा में गवाँ मत आज को देना
किसी भी चीज़ की आशा में गवाँ मत आज को देना
आर.एस. 'प्रीतम'
****वो जीवन मिले****
****वो जीवन मिले****
Kavita Chouhan
मन की पीड़ा
मन की पीड़ा
पूर्वार्थ
जीवन की सच्चाई
जीवन की सच्चाई
Sidhartha Mishra
हुनर का मोल
हुनर का मोल
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन की विषम परिस्थितियों
जीवन की विषम परिस्थितियों
Dr.Rashmi Mishra
चाय पार्टी
चाय पार्टी
Mukesh Kumar Sonkar
21वीं सदी और भारतीय युवा
21वीं सदी और भारतीय युवा
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
विडम्बना और समझना
विडम्बना और समझना
Seema gupta,Alwar
*** यादों का क्रंदन ***
*** यादों का क्रंदन ***
Dr Manju Saini
बघेली कविता -
बघेली कविता -
Priyanshu Kushwaha
*कितनी भी चालाकी चल लो, समझ लोग सब जाते हैं (हिंदी गजल)*
*कितनी भी चालाकी चल लो, समझ लोग सब जाते हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
हक जता तो दू
हक जता तो दू
Swami Ganganiya
कभी-कभी एक छोटी कोशिश भी
कभी-कभी एक छोटी कोशिश भी
Anil Mishra Prahari
एक बछड़े को देखकर
एक बछड़े को देखकर
Punam Pande
इश्क में हमसफ़र हों गवारा नहीं ।
इश्क में हमसफ़र हों गवारा नहीं ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
दरदू
दरदू
Neeraj Agarwal
🙅लिख के रख लो🙅
🙅लिख के रख लो🙅
*Author प्रणय प्रभात*
कुछ बूँद हिचकियाँ मिला दे
कुछ बूँद हिचकियाँ मिला दे
शेखर सिंह
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Loading...