Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Oct 2023 · 1 min read

हमें कोयले संग हीरे मिले हैं।

हमें कोयले संग हीरे मिले हैं।
हमेशा चले इस तरह सिलसिले हैं।
भरा खूब तालाब में गाद कीचड़।
मगर खूबसूरत कमल भी खिले हैं।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, ०९/१०/२०२३

1 Like · 1 Comment · 95 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
ভালো উপদেশ
ভালো উপদেশ
Arghyadeep Chakraborty
** लगाव नहीं लगाना सखी **
** लगाव नहीं लगाना सखी **
Koमल कुmari
2403.पूर्णिका
2403.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
लड़को की योग्यता पर सवाल क्यो
लड़को की योग्यता पर सवाल क्यो
भरत कुमार सोलंकी
जग-मग करते चाँद सितारे ।
जग-मग करते चाँद सितारे ।
Vedha Singh
आज के युग में कल की बात
आज के युग में कल की बात
Rituraj shivem verma
परिणति
परिणति
Shyam Sundar Subramanian
ଆପଣ କିଏ??
ଆପଣ କିଏ??
Otteri Selvakumar
खामोशी : काश इसे भी पढ़ लेता....!
खामोशी : काश इसे भी पढ़ लेता....!
VEDANTA PATEL
Khud ke khalish ko bharne ka
Khud ke khalish ko bharne ka
Sakshi Tripathi
// सुविचार //
// सुविचार //
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
व्यथा
व्यथा
Kavita Chouhan
धैर्य.....….....सब्र
धैर्य.....….....सब्र
Neeraj Agarwal
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
* बिखर रही है चान्दनी *
* बिखर रही है चान्दनी *
surenderpal vaidya
जागे जग में लोक संवेदना
जागे जग में लोक संवेदना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जागृति और संकल्प , जीवन के रूपांतरण का आधार
जागृति और संकल्प , जीवन के रूपांतरण का आधार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
फ़कत इसी वजह से पीछे हट जाते हैं कदम
फ़कत इसी वजह से पीछे हट जाते हैं कदम
gurudeenverma198
बहुत हुआ
बहुत हुआ
Mahender Singh
नादान प्रेम
नादान प्रेम
अनिल "आदर्श"
*सुनिए बारिश का मधुर, बिखर रहा संगीत (कुंडलिया)*
*सुनिए बारिश का मधुर, बिखर रहा संगीत (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हो सके तो मुझे भूल जाओ
हो सके तो मुझे भूल जाओ
Shekhar Chandra Mitra
कहते हैं मृत्यु ही एक तय सत्य है,
कहते हैं मृत्यु ही एक तय सत्य है,
पूर्वार्थ
इतनी जल्दी दुनियां की
इतनी जल्दी दुनियां की
नेताम आर सी
मेरी बातें दिल से न लगाया कर
मेरी बातें दिल से न लगाया कर
Manoj Mahato
बिधवा के पियार!
बिधवा के पियार!
Acharya Rama Nand Mandal
कितना और सहे नारी ?
कितना और सहे नारी ?
Mukta Rashmi
"आशा" के दोहे '
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
दूर हो गया था मैं मतलब की हर एक सै से
दूर हो गया था मैं मतलब की हर एक सै से
कवि दीपक बवेजा
प्रकृति एवं मानव
प्रकृति एवं मानव
नन्दलाल सुथार "राही"
Loading...