Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 21, 2016 · 1 min read

हमें उनसे मुहब्बत हो रही है

हमें उनसे मुहब्बत हो रही है
ज़मीने-दिल भी जन्नत हो रही है

किसी का हुस्न ऐसा आइना है
जिसे देखूं तो हैरत हो रही है

ख़ुदा से माँगना है रोज़ उसको
मिरी चाहत इबादत हो रही है

क़दम उसके पड़े हैघर में जब से
ये मेरे घर में बरकत हो रही है

यकीं आता नहीं है सच है लेकिन
हमें अब उसकी आदत हो रही है

बुजुर्गों की दुआओं का असर है
ये सीरत ख़ूबसूरत हो रही है

नज़ीर नज़र

99 Views
You may also like:
तुम चली गई
Dr.Priya Soni Khare
पुण्य स्मरण: 18 जून2008 को मुरादाबाद में आयोजित पारिवारिक समारोह...
Ravi Prakash
बरसात
मनोज कर्ण
राम काज में निरत निरंतर अंतस में सियाराम हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नियत मे पर्दा
Vikas Sharma'Shivaaya'
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
महामोह की महानिशा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अखंड भारत की गौरव गाथा।
Taj Mohammad
आंखों का वास्ता।
Taj Mohammad
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
उसकी मासूमियत
VINOD KUMAR CHAUHAN
दया करो भगवान
Buddha Prakash
वो एक तुम
Saraswati Bajpai
इश्क़―की―आग
N.ksahu0007@writer
नात،،सारी दुनिया के गमों से मुज्तरिब दिल हो गया।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
जमीं से आसमान तक।
Taj Mohammad
पापा हमारे..
Dr. Alpa H. Amin
सबको जीवन में खुशियां लुटाते रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
सुकूं का प्यासा है।
Taj Mohammad
मेरे खुदा की खुदाई।
Taj Mohammad
विधाता
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
गम हो या हो खुशी।
Taj Mohammad
मोबाइल सन्देश (दोहा)
N.ksahu0007@writer
पानी
Vikas Sharma'Shivaaya'
तेरे रोने की आहट उसको भी सोने नहीं देती होगी
Krishan Singh
परिस्थितियों के आगे न झुकना।
Anamika Singh
पिता के जैसा......नहीं देखा मैंने दुजा
Dr. Alpa H. Amin
💐💐प्रेम की राह पर-16💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ग़ज़ल
Awadhesh Saxena
उत्साह एक प्रेरक है
Buddha Prakash
Loading...