Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2024 · 1 min read

****हमारे मोदी****

भारत माँ का सपूत प्यारा
कर्मपथ पर बढ़ता जाये
देख अचंभित नभ भी उसको
कर्म निरंतर करता ही जाये।

देशप्रेम की चाह थी इतनी
गृह,आराम सब छोड़ आये
चल पड़े कर्मभूमि पे यूँ
हालात से तनिक न घबराये।

संघर्षों की थी यही कहानी
बालपन में थी कठिनाई
बंटाने पिता का हाथ उन्होंने
कुछ काज करने की ठानी।

चाय बेचकर करते गुजारा
कोई न बना उनका सहारा
अपनी मेहनत के बल पे
सारी पद प्रतिष्ठा पाई।

ले ऐतिहासिक फैसले सारे
जीवन पीड़ितों का बदला
तीन तलाक या सीएए हो
बदल डाले तब कानून सारे।

पड़ गई काले धन पे बंदी
कराई जब मोदी ने नोटबंदी
छिपा कालाधन बाहर आया
जब बैंक में जमावड़ा लगाया।

लग गई लंबी लंबी कतारें
घबराकर सब मोदी पुकारें
एक देश एक कर लगाया
तब मोदी ने जीएसटी बनाया।

गगन तक चंद्रयान पहुँचा
देश विदेश सब मे था चर्चा
अब आई आदित्य की बारी
मोदी की अनोखी तैयारी।

भक्त,उपासक और तपस्वी
आस्था,श्रद्धा अत्यंत गहरी
निराहार रह निष्ठा दिखलाई
रामलला प्राण प्रतिष्ठा कराई।

जब भी युगपुरुष कहायेगा
प्रथम मोदी याद किया जायेगा
न कोई विकल्प नज़र आयेगा
देश मोदी को फिर दोहरायेगा।

✍️”कविता चौहान
स्वरचित एवं मौलिक

2 Likes · 47 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रास्ते  की  ठोकरों  को  मील   का  पत्थर     बनाता    चल
रास्ते की ठोकरों को मील का पत्थर बनाता चल
पूर्वार्थ
ब्रह्मांड के विभिन्न आयामों की खोज
ब्रह्मांड के विभिन्न आयामों की खोज
Shyam Sundar Subramanian
गुरुपूर्व प्रकाश उत्सव बेला है आई
गुरुपूर्व प्रकाश उत्सव बेला है आई
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सफल हुए
सफल हुए
Koमल कुmari
ऐ ज़िंदगी
ऐ ज़िंदगी
Shekhar Chandra Mitra
सेवा-भाव उदार था, विद्यालय का मूल (कुंडलिया)
सेवा-भाव उदार था, विद्यालय का मूल (कुंडलिया)
Ravi Prakash
पता ना चला
पता ना चला
Dr. Kishan tandon kranti
बिना रुके रहो, चलते रहो,
बिना रुके रहो, चलते रहो,
Kanchan Alok Malu
..........लहजा........
..........लहजा........
Naushaba Suriya
उफ़ ये अदा
उफ़ ये अदा
Surinder blackpen
नैन मटकका और कहीं मिलना जुलना और कहीं
नैन मटकका और कहीं मिलना जुलना और कहीं
Dushyant Kumar Patel
जान हो तुम ...
जान हो तुम ...
SURYA PRAKASH SHARMA
मेरे प्यारे भैया
मेरे प्यारे भैया
Samar babu
वास्ते हक के लिए था फैसला शब्बीर का(सलाम इमाम हुसैन (A.S.)की शान में)
वास्ते हक के लिए था फैसला शब्बीर का(सलाम इमाम हुसैन (A.S.)की शान में)
shabina. Naaz
आप वो नहीं है जो आप खुद को समझते है बल्कि आप वही जो दुनिया आ
आप वो नहीं है जो आप खुद को समझते है बल्कि आप वही जो दुनिया आ
Rj Anand Prajapati
पराक्रम दिवस
पराक्रम दिवस
Bodhisatva kastooriya
लेकर सांस उधार
लेकर सांस उधार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
अजनबी
अजनबी
लक्ष्मी सिंह
ममतामयी मां
ममतामयी मां
SATPAL CHAUHAN
#अभिनंदन-
#अभिनंदन-
*Author प्रणय प्रभात*
परिश्रम
परिश्रम
ओंकार मिश्र
ये राम कृष्ण की जमीं, ये बुद्ध का मेरा वतन।
ये राम कृष्ण की जमीं, ये बुद्ध का मेरा वतन।
सत्य कुमार प्रेमी
सच तो कुछ भी न,
सच तो कुछ भी न,
Neeraj Agarwal
चाहती हूँ मैं
चाहती हूँ मैं
Shweta Soni
अंग्रेजों के बनाये कानून खत्म
अंग्रेजों के बनाये कानून खत्म
Shankar N aanjna
सिलसिला सांसों का
सिलसिला सांसों का
Dr fauzia Naseem shad
हे पिता ! जबसे तुम चले गए ...( पिता दिवस पर विशेष)
हे पिता ! जबसे तुम चले गए ...( पिता दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
हुस्न अगर बेवफा ना होता,
हुस्न अगर बेवफा ना होता,
Vishal babu (vishu)
रामेश्वरम लिंग स्थापना।
रामेश्वरम लिंग स्थापना।
Acharya Rama Nand Mandal
धानी चूनर में लिपटी है धरती जुलाई में
धानी चूनर में लिपटी है धरती जुलाई में
Anil Mishra Prahari
Loading...