Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Mar 2024 · 1 min read

हमारे प्यारे दादा दादी

हमारे प्यारे से दादा दादी, आपका स्नेह अतुल है।
आपके प्यार व दुलार से, हमारी ज़िंदगी संवरी है।
आपकी गोद में छुपकर, हमने नींदें ली सुहानी है।
आपकी बातों की मधुरता, मन को देती सुकून है।
आपकी कहानियाँ सुन कर, हम बच्चे पले बढ़े है।
आपकी झुर्रियों में छिपा, जीवन का सारा ज्ञान है।
आपके आँचल की छाँव में, बीता बचपन सुहाना है।
आपके दिल से निकली दुआ, हमारी रक्षा करती है।
आपकी आँखों की चमक, जैसे जगमगाता सितारा है।
आपके अनुभवी मार्गदर्शन से, जीवन उज्ज्वल होता है।
आपकी मौजूदगी हमारे लिए, सबसे बड़ा सौभाग्य है।
आपके साथ बिताए पल, हमारा अनमोल खजाना है।

– सुमन मीना (अदिति)

Language: Hindi
1 Like · 44 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नादान था मेरा बचपना
नादान था मेरा बचपना
राहुल रायकवार जज़्बाती
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
मात्र नाम नहीं तुम
मात्र नाम नहीं तुम
Mamta Rani
माँ
माँ
Shyam Sundar Subramanian
2910.*पूर्णिका*
2910.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
बात मेरे मन की
बात मेरे मन की
Sûrëkhâ Rãthí
अगर मैं अपनी बात कहूँ
अगर मैं अपनी बात कहूँ
ruby kumari
*** सफलता की चाह में......! ***
*** सफलता की चाह में......! ***
VEDANTA PATEL
कितने कोमे जिंदगी ! ले अब पूर्ण विराम।
कितने कोमे जिंदगी ! ले अब पूर्ण विराम।
डॉ.सीमा अग्रवाल
[पुनर्जन्म एक ध्रुव सत्य] अध्याय- 5
[पुनर्जन्म एक ध्रुव सत्य] अध्याय- 5
Pravesh Shinde
बच्चों के साथ बच्चा बन जाना,
बच्चों के साथ बच्चा बन जाना,
लक्ष्मी सिंह
నేటి ప్రపంచం
నేటి ప్రపంచం
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
जब कभी प्यार  की वकालत होगी
जब कभी प्यार की वकालत होगी
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
गरीब–किसान
गरीब–किसान
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
महाड़ सत्याग्रह
महाड़ सत्याग्रह
Shekhar Chandra Mitra
ज्ञान~
ज्ञान~
दिनेश एल० "जैहिंद"
औरत का जीवन
औरत का जीवन
Dheerja Sharma
तुमसे मैं प्यार करता हूँ
तुमसे मैं प्यार करता हूँ
gurudeenverma198
निगाहें के खेल में
निगाहें के खेल में
Surinder blackpen
समझदारी ने दिया धोखा*
समझदारी ने दिया धोखा*
Rajni kapoor
मौन देह से सूक्ष्म का, जब होता निर्वाण ।
मौन देह से सूक्ष्म का, जब होता निर्वाण ।
sushil sarna
"आशा की नदी"
Dr. Kishan tandon kranti
आवारगी मिली
आवारगी मिली
Satish Srijan
उस
उस"कृष्ण" को आवाज देने की ईक्षा होती है
Atul "Krishn"
कुछ नींदों से अच्छे-खासे ख़्वाब उड़ जाते हैं,
कुछ नींदों से अच्छे-खासे ख़्वाब उड़ जाते हैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बिन काया के हो गये ‘नानक’ आखिरकार
बिन काया के हो गये ‘नानक’ आखिरकार
कवि रमेशराज
ऐनक
ऐनक
Buddha Prakash
दुनिया इश्क की दरिया में बह गई
दुनिया इश्क की दरिया में बह गई
प्रेमदास वसु सुरेखा
Loading...