Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Dec 2023 · 1 min read

“हमारे नेता “

डॉ लक्ष्मण झा”परिमल “
=============
न मधुर गायन है मेरी
न राग का मैं ज्ञानी हूँ!
किसी तरह चल रहा है
मैं तो बड़ा अज्ञानी हूँ !!
कविता नहीं लिखता हूँ
गद्य नहीं जनता हूँ !
व्यंग नहीं आता मुझको
टिप्पणी से मैं डरता हूँ !!
मित्र नहीं कोई हैं मेरे ,
व्यथा मैं किसको कहूँ !
अकेला हो गया हूँ यारों ,
कहूँ तो किसको मैं कहूँ !!
लोग सब करते झगड़ा ,
बाद वो पढ़ते फकड़ा !!
घर में ही मैं बैठा हूँ ,
बाहर नहीं निकलता हूँ !!
कोई नहीं हैं साथ मेरे ,
जिसके सँग मैं जुड़ा हूँ !
श्रोता भी न बन सका ,
भाषण न कभी देता हूँ !!
कान मेरे बंद रहते हैं ,
अनभिज्ञ मैं रहता हूँ !
लोग सब जिता देते हैं ,
नेतृत्व मैं करता हूँ !!
मैं सिर्फ वहाँ सोता रहा ,
नेता लोगोंने बना दिया !!
मंहगाई से क्या लेना ?
बेरोजगारी फैला दिया !!
एसे निष्क्रिय मैं नेता हूँ ,
देश का मैं अभिनेता हूँ !
नाटक सिर्फ मैं करता हूँ ,
अपने देश को पूजता हूँ !!
=================
डॉ लक्ष्मण झा”परिमल “
साउंड हेल्थ क्लिनिक
नाग पथ
शिव पहाड़
दुमका
03.12.2023

Language: Hindi
173 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
लौ
लौ
Dr. Seema Varma
कहां बिखर जाती है
कहां बिखर जाती है
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
■ सवालिया शेर।।
■ सवालिया शेर।।
*Author प्रणय प्रभात*
अय मुसाफिर
अय मुसाफिर
Satish Srijan
आप कुल्हाड़ी को भी देखो, हत्थे को बस मत देखो।
आप कुल्हाड़ी को भी देखो, हत्थे को बस मत देखो।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
वो राह देखती होगी
वो राह देखती होगी
Kavita Chouhan
*ये झरने गीत गाते हैं, सुनो संगीत पानी का (मुक्तक)*
*ये झरने गीत गाते हैं, सुनो संगीत पानी का (मुक्तक)*
Ravi Prakash
दो पल देख लूं जी भर
दो पल देख लूं जी भर
आर एस आघात
आप इतना
आप इतना
Dr fauzia Naseem shad
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
परिवर्तन जीवन का पर्याय है , उसे स्वीकारने में ही सुख है । प
परिवर्तन जीवन का पर्याय है , उसे स्वीकारने में ही सुख है । प
Leena Anand
टूटे पैमाने ......
टूटे पैमाने ......
sushil sarna
सत्संग संध्या इवेंट
सत्संग संध्या इवेंट
पूर्वार्थ
अमर शहीद स्वामी श्रद्धानंद
अमर शहीद स्वामी श्रद्धानंद
कवि रमेशराज
काग़ज़ ना कोई क़लम,
काग़ज़ ना कोई क़लम,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
साहित्य - संसार
साहित्य - संसार
Shivkumar Bilagrami
होली कान्हा संग
होली कान्हा संग
Kanchan Khanna
जाग री सखि
जाग री सखि
Arti Bhadauria
बेचैनी तब होती है जब ध्यान लक्ष्य से हट जाता है।
बेचैनी तब होती है जब ध्यान लक्ष्य से हट जाता है।
Rj Anand Prajapati
आखिरी उम्मीद
आखिरी उम्मीद
Surya Barman
"सबक"
Dr. Kishan tandon kranti
मूर्ख बनाने की ओर ।
मूर्ख बनाने की ओर ।
Buddha Prakash
2621.पूर्णिका
2621.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
आत्मीय मुलाकात -
आत्मीय मुलाकात -
Seema gupta,Alwar
💐अज्ञात के प्रति-79💐
💐अज्ञात के प्रति-79💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
फिर यहाँ क्यों कानून बाबर के हैं
फिर यहाँ क्यों कानून बाबर के हैं
Maroof aalam
--शेखर सिंह
--शेखर सिंह
शेखर सिंह
🌷🌷  *
🌷🌷 *"स्कंदमाता"*🌷🌷
Shashi kala vyas
बंदर मामा
बंदर मामा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...