Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2024 · 1 min read

हमारे जैसी दुनिया

हमारे जैसी दुनिया
कहीं और होगी क्या ?
सकल सृष्टि में ……
हमारे जैसा ग्रह …
कोई और होगा क्या?
वहां भी …….
हमारे जैसा जीवन
ऐसी माटी ……
सागर,वन …..
पहाड़, होंगे क्या ?
****
उस ग्रह पर भी……
गोल चीकने पत्थर
शालिग्राम …….
मानसरोवर….
कैलाश पर शिव धाम ….
गली मोहल्लों के नाम होंगे क्या?
*****
उस ग्रह पर भी
घर आंगन …….
फुदकने वाली
गिलहरी ………
चुनरिया-फुलकारी,
अम्बुआ की डारी…..
डारी पर नाक पोंछती चिरैया होगी क्या?
*****
उस ग्रह पर भी
रिक्त होती …..
धरा की हरियाली,
प्लास्टिक की खेती…..
सांसों में धूंआ …….
रसायन की नदियां होंगी क्या?
****
उस ग्रह पर भी
जीव जंतुओं के घरों को
हम सा ………
कब्जाया होगा ?
सघन वनों तक
मानुष ने ……..
पैरों को फैलाया होगा क्या?
****
उस ग्रह पर भी
ओज़ोन में ……
झरोंखा कोई आया होगा
छिजते ओज़ोन पर
पैबंद कोई ………
लगाया होगा क्या ?
संगीता बैनीवाल

1 Like · 83 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
!! दिल के कोने में !!
!! दिल के कोने में !!
Chunnu Lal Gupta
ਕਿਸਾਨੀ ਸੰਘਰਸ਼
ਕਿਸਾਨੀ ਸੰਘਰਸ਼
Surinder blackpen
"फूलों की तरह जीना है"
पंकज कुमार कर्ण
🚩 वैराग्य
🚩 वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मैं हर इक चीज़ फानी लिख रहा हूं
मैं हर इक चीज़ फानी लिख रहा हूं
शाह फैसल मुजफ्फराबादी
गुरु महिमा
गुरु महिमा
विजय कुमार अग्रवाल
■ कमाल है साहब!!
■ कमाल है साहब!!
*Author प्रणय प्रभात*
गुरु तेगबहादुर की शहादत का साक्षी है शीशगंज गुरुद्वारा
गुरु तेगबहादुर की शहादत का साक्षी है शीशगंज गुरुद्वारा
कवि रमेशराज
वो मूर्ति
वो मूर्ति
Kanchan Khanna
सरसी छंद
सरसी छंद
Charu Mitra
आजकल रिश्तें और मक्कारी एक ही नाम है।
आजकल रिश्तें और मक्कारी एक ही नाम है।
Priya princess panwar
दुनिया का क्या दस्तूर बनाया, मरे तो हि अच्छा बतलाया
दुनिया का क्या दस्तूर बनाया, मरे तो हि अच्छा बतलाया
Anil chobisa
अब तो गिरगिट का भी टूट गया
अब तो गिरगिट का भी टूट गया
Paras Nath Jha
स्मृति प्रेम की
स्मृति प्रेम की
Dr. Kishan tandon kranti
बेबाक ज़िन्दगी
बेबाक ज़िन्दगी
Neelam Sharma
जीने का हौसला भी
जीने का हौसला भी
Rashmi Sanjay
बात सीधी थी
बात सीधी थी
Dheerja Sharma
* लेकर झाड़ू चल पड़े ,कोने में जन चार【हास्य कुंडलिया】*
* लेकर झाड़ू चल पड़े ,कोने में जन चार【हास्य कुंडलिया】*
Ravi Prakash
मौज  कर हर रोज कर
मौज कर हर रोज कर
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
संवेदनाओं में है नई गुनगुनाहट
संवेदनाओं में है नई गुनगुनाहट
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कहानी घर-घर की
कहानी घर-घर की
Brijpal Singh
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बनें सब आत्मनिर्भर तो, नहीं कोई कमी होगी।
बनें सब आत्मनिर्भर तो, नहीं कोई कमी होगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
कैसे देखनी है...?!
कैसे देखनी है...?!
Srishty Bansal
अनसुलझे किस्से
अनसुलझे किस्से
Mahender Singh
दोहा-
दोहा-
दुष्यन्त बाबा
जिंदगी जिंदादिली का नाम है
जिंदगी जिंदादिली का नाम है
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
इश्क़ ला हासिल का हासिल कुछ नहीं
इश्क़ ला हासिल का हासिल कुछ नहीं
shabina. Naaz
बुद्ध की राह में चलने लगे ।
बुद्ध की राह में चलने लगे ।
Buddha Prakash
पहले की अपेक्षा साहित्य और आविष्कार दोनों में गिरावट आई है।इ
पहले की अपेक्षा साहित्य और आविष्कार दोनों में गिरावट आई है।इ
Rj Anand Prajapati
Loading...