Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2017 · 1 min read

हमारे गंदे कर्मोँ की समीक्षा अब नहीँ होती

हमारे गंदे कर्मोँ की समीक्षा अब नहीँ होती

कि पहले की तरह मेरी परीक्षा अब नहीँ होती

तुम्हारे जिस्म की खुशबू हमेँ मदहोश करती है

मेरी बाहोँ मेँ आओ तुम प्रतीक्षा अब नहीँ होती

Language: Hindi
466 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
23/183.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/183.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
फूल और खंजर
फूल और खंजर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आँखें दरिया-सागर-झील नहीं,
आँखें दरिया-सागर-झील नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
होकर उल्लू पर सवार
होकर उल्लू पर सवार
Pratibha Pandey
यह कौन सी तहजीब है, है कौन सी अदा
यह कौन सी तहजीब है, है कौन सी अदा
VINOD CHAUHAN
रै तमसा, तू कब बदलेगी…
रै तमसा, तू कब बदलेगी…
Anand Kumar
दिल की हसरत नहीं कि अब वो मेरी हो जाए
दिल की हसरत नहीं कि अब वो मेरी हो जाए
शिव प्रताप लोधी
प्रसाद का पूरा अर्थ
प्रसाद का पूरा अर्थ
Radhakishan R. Mundhra
माँ-बाप का किया सब भूल गए
माँ-बाप का किया सब भूल गए
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"रातरानी"
Ekta chitrangini
बदलती दुनिया
बदलती दुनिया
साहित्य गौरव
*जाड़े की भोर*
*जाड़े की भोर*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सार छंद विधान सउदाहरण / (छन्न पकैया )
सार छंद विधान सउदाहरण / (छन्न पकैया )
Subhash Singhai
हम तो किरदार की
हम तो किरदार की
Dr fauzia Naseem shad
अभी सत्य की खोज जारी है...
अभी सत्य की खोज जारी है...
Vishnu Prasad 'panchotiya'
क्या? किसी का भी सगा, कभी हुआ ज़माना है।
क्या? किसी का भी सगा, कभी हुआ ज़माना है।
Neelam Sharma
सजल नयन
सजल नयन
Dr. Meenakshi Sharma
डुगडुगी बजती रही ....
डुगडुगी बजती रही ....
sushil sarna
"जंगल की सैर”
पंकज कुमार कर्ण
जग जननी है जीवनदायनी
जग जननी है जीवनदायनी
Buddha Prakash
* गीत प्यारा गुनगुनायें *
* गीत प्यारा गुनगुनायें *
surenderpal vaidya
स्पर्श करें निजजन्म की मांटी
स्पर्श करें निजजन्म की मांटी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आजाद लब
आजाद लब
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
हिन्दी दोहा बिषय-
हिन्दी दोहा बिषय- "घुटन"
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
■ फ़ोकट का एटीट्यूड...!!
■ फ़ोकट का एटीट्यूड...!!
*Author प्रणय प्रभात*
बड़ा असंगत आजकल, जीवन का व्यापार।
बड़ा असंगत आजकल, जीवन का व्यापार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
*धन्य करें इस जीवन को हम, परहित हर क्षण जिया करें (गीत)*
*धन्य करें इस जीवन को हम, परहित हर क्षण जिया करें (गीत)*
Ravi Prakash
कोई दवा दुआ नहीं कोई जाम लिया है
कोई दवा दुआ नहीं कोई जाम लिया है
हरवंश हृदय
माफ कर देना मुझको
माफ कर देना मुझको
gurudeenverma198
मुख्तशर सी जिन्दगी हैं,,,
मुख्तशर सी जिन्दगी हैं,,,
Taj Mohammad
Loading...